तालिबान समझौता: हम क्या करें ?

क़तर की राजधानी दोहा में अमेरिका और तालिबान के बीच जो समझौता हुआ है, यदि वह लागू हो सका तो दक्षिण एशिया में शांति के नए युग की शुरुआत होगी। अफगानिस्तान में जाहिरशाह के तख्ता-पलट (1973) के बाद से आज तक इतनी अस्थिरता बनी रही है कि उसके कारण पाकिस्तान, भारत और ईरान तो परेशान… Continue reading तालिबान समझौता: हम क्या करें ?

संकट का समझौता

अमेरिका और तालिबान के बीच शनिवार को कतर की राजधानी दोहा में जो समझौता हुआ है, उससे उम्मीद की जानी चाहिए कि अफगानिस्तान में शांति का सूर्योदय होगा और वर्षों से संघर्ष की आग में झुलस रहे मुल्क को इससे मुक्ति मिलेगी। तालिबान तो लंबे समय से अमेरिका को भगाना चाहता था ही, लेकिन अब… Continue reading संकट का समझौता

अब तालिबान से लड़ना होगा!

अमेरिका के रिपब्लिकन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन ने वह काम किया है, जो डेमोक्रेटिक पार्टी के पिछले राष्ट्रपति बराक ओबामा भी नहीं कर पाए थे। ओबामा के ऊपर भी इस बात का दबाव था कि वे अफगानिस्तान में चल रही लड़ाई को खत्म कराएं और अमेरिकी सैनिकों की वापसी कराएं। उन्होंने इस बारे में… Continue reading अब तालिबान से लड़ना होगा!