ममता ने भतीजे को बनाया महासचिव

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने के बाद ममता बनर्जी ने पार्टी का पूरे देश में विस्तार करने की तैयारी शुरू कर दी है। उन्होंने इसके लिए अपने भतीजे अभिषेक बनर्जी को पार्टी का राष्ट्रीय महासचिव बनाया है। इसके साथ ही ममता बनर्जी ने पार्टी संगठन में बड़ा बदलाव किया है। इससे पहले पार्टी महासचिव की जिम्मेदारी दिनेश त्रिवेदी के पास थी, जो अह भाजपा में शामिल हो गए हैं। अभिषेक को राष्ट्रीय महासचिव बनाए जाने के बाद यह कयास लगाया जा रहा है कि यह ममता बनर्जी की पार्टी की राष्ट्रीय राजनीति में एंट्री की शुरुआत है। अभिषेक बनर्जी अभी डायमंड हार्बर से सांसद हैं। ममता ने तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने के 34 दिन बाद पार्टी संगठन में बदलाव करते हुए कुणाल घोष को प्रदेश का महासचिव और बंगाली अभिनेत्री सायोनी घोष को पार्टी के युवा शाखा की कमान सौंपी है। सायोनी घोष आसनसोल से चुनाव भी लड़ चुकी हैं, हालांकि उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। सायोनी से पहले यूथ विंग की कमान अभिषेक के पास थी। वहीं, कुणाल घोष अभी तक पार्टी के प्रवक्ता की जिम्मेदारी निभा रहे थे। उन्हें अभिषेक बनर्जी का नजदीकी भी बताया जाता है। कुणाल घोष तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा… Continue reading ममता ने भतीजे को बनाया महासचिव

क्षत्रपों की तीसरी पीढ़ी का समय

प्रधानमंत्री और उनकी पार्टी कांग्रेस के वंशवाद को बड़ा मुद्दा बनाते रहे हैं। उनके लिए वंशवाद का मतलब गांधी-नेहरू परिवार है, जिसकी पांचवीं पीढ़ी के राहुल और प्रियंका राजनीति कर रहे हैं। इनके अलावा पांच पीढ़ी से राजनीति करने वाले परिवार गिने-चुने हैं। पिछले तीन-चार दशक में देश में जो प्रादेशिक क्षत्रप उभरे और उनकी दूसरी पीढ़ी इस समय सक्रिय है। उन्हीं में कुछ परिवारों की दूसरी और कुछ की तीसरी पीढ़ी अब राजनीति में आ गई है और सफल हो गई है। तमाम विरोध और दुष्प्रचार के बावजूद इस इस पीढ़ी ने अपने लिए जगह बनाई है और तमाम बड़े नेताओं के लिए चुनौती बन रहे हैं। इसमें सबसे पहले ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी का नाम लिया जा सकता है। पश्चिम बंगाल के चुनाव में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के अलावा दूसरा सबसे बड़ा टारगेट अभिषेक बनर्जी थे। प्रधानमंत्री से लेकर केंद्रीय गृह मंत्री तक ने उनको निशाना बनाया। उनकी पत्नी और ससुराल वालों से सीबीआई ने पूछताछ की। लेकिन अभिषेक बनर्जी चुनाव मैदान में डटे रहे और भाजपा व उसके शीर्ष नेताओं पर सीधा हमला करते रहे। पश्चिम बंगाल में ममता की तीसरी बार की जीत ने अभिषेक बनर्जी यानी एबी का कद बहुत बड़ा कर दिया है।… Continue reading क्षत्रपों की तीसरी पीढ़ी का समय

बंगाल भाजपा में सब ठीक नहीं

पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी ने पूरी ताकत लगाई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल का चुनाव इस तरह से लड़ रहे हैं जैसे अगर वहां नहीं जीते तो जीवन अधूरा रह जाएगा।

अब बुआ-भतीजे को जेल भेजेंगे!

पश्चिम बंगाल के प्रचार में भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कई जगह ममता बनर्जी और उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं।

परिवारवाद की भाजपा की कसौटी

भारतीय जनता पार्टी ने परिवारवाद की एक अपनी कसौटी बनाई है, जिस पर वह विपक्षी पार्टियों को कसती है और उन्हें वंशवादी ठहराती है। बाकी भाजपा खुद जो पिता-पुत्र को टिकट देती है वह परिवारवाद नहीं होता है।

शाह के खिलाफ मानहानि मामला दूसरी अदालत में हस्तांतरित

पश्चिम बंगाल में साल्ट लेक में विधाननगर की एक विशेष अदालत ने तृणमूल कांग्रेस सांसद अभिषेक बनर्जी की ओर से केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के खिलाफ दायर मानहानि मामले को सोमवार को बांकशाल मेट्रोपाॅलिटन कोर्ट में हस्तांतरित कर दिया।

भतीजा साबित होगा बरबादी का कारण?

मैं दशको से व्यासजी का यह शब्द पढ़ते-पढ़ते उनका कायल हो गया हूं कि हर सरकार अपनी बरबादी का कारण साथ लाती है। अब जब पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के खास सुवेंदु अधिकारी के टीएमसी छोड़कर भाजपा में शामिल होने की खबर पढ़ी तो वह बात मेरे मन में कौंध गई।

और लोड करें