सोमवती अमावस्या पर क्षिप्रा तट पर श्रद्घालु नहीं लगा सकेंगे डुबकी

मध्य प्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में 20 अप्रैल को सोमवती और हरियाली अमावस्या के मौके पर श्रद्धालु क्षिप्रा नदी के सभी घाटों पर न तो स्नान कर सकेंगे

दीया जलाएं, अंधकार भगाएं!

अंधेरा है! अमावस्या का घनघोर अंधेरा। मानो पुराण कथा का वक्त फिर जिंदा! मां भारती का वह काल। कार्तिक महीने की अमावस्या। तब मां लक्ष्मी रास्ता भूल मृत्युलोक के अंधकार में ठिठकी थीं। उनकी चंचलता और विश्वास का हरण। करें तो क्या करें?