अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा- तय समयसीमा के बाद भी अफगानिस्तान में रुकेंगे सैनिक

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि वे अफगानिस्तान में तब तक सैनिकों को रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जब तक प्रत्येक अमेरिकी नागरिक को सुरक्षित बाहर नहीं निकाल लिया जाता. उन्होंने साफतौर….

स्वास्थ्य पर करो राजनीति, बनाओ मुद्दा

एक दशक से ज्यादा समय तक बीएसपी की राजनीति के बाद नरेंद्र मोदी ने विकास और अच्छे दिन का वादा किया। उन्होंने गुजरात मॉडल पूरे देश में बेचा। लेकिन उसमें भी स्वास्थ्य प्राथमिकता नहीं था। गुजरात की अपनी स्वास्थ्य व्यवस्था कैसी है इसकी पोल कोरोना वायरस की महामारी के समय हाई कोर्ट में हुई सुनवाइयों से खुल गई है। यह भी पढ़ें: विपक्ष में क्या हाशिए में होगी कांग्रेस? कोरोना वायरस की महामारी ने पूरी दुनिया के राजनीतिक विमर्श को बदल दिया है। अब दुनिया की राजनीति स्वास्थ्य और चिकित्सा के ईर्द-गिर्द घूम रही हैं। दशकों या सदियों तक मुख्यधारा में उपेक्षित रहा स्वास्थ्य का क्षेत्र ही अब राजनीति का केंद्र है। दुनिया के सभ्य और विकसित देशों में तो फिर भी लोगों का स्वास्थ्य राजनीतिक विमर्श का हिस्सा रहा है लेकिन विकासशाली और अविकसित देशों में यह कभी भी राजनीतिक विमर्श का केंद्र नहीं रहा। भारत में पिछले तीन दशक में राजनीति जरूर बदली है लेकिन एकाध राज्यों को छोड़ दें तो राष्ट्रीय स्तर पर स्वास्थ्य का मुद्दा चर्चा का केंद्र नहीं रहा है। पार्टियां लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करने के वादे नहीं करती हैं और न स्वास्थ्य पर खर्च बढ़ाने का वादा किया जाता है। तीन दशक… Continue reading स्वास्थ्य पर करो राजनीति, बनाओ मुद्दा

भारत क्यों नहीं चीन से सवाल पूछता?

कोरोना वायरस की उत्पत्ति की जांच की जरूरत से भारत सरकार ने सहमति जताई है। अमेरिका में सबसे पहले इसकी मांग उठी और अब यूरोप, ब्रिटेन से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक से इसकी मांग उठ रही है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अपनी खुफिया एजेंसियों को 90 दिन में इसकी जांच करने और रिपोर्ट देने को कहा है। भारत ने इससे सहमति जताई है लेकिन उसके बाद चुप्पी साध ली है। भारत की ओर चीन का नाम नहीं लिया जा रहा है और उससे सवाल पूछा जा रहा है। अब सवाल है कि अमेरिका सवाल पूछ रहा है लेकिन पड़ोसी और प्रतिद्वंद्वी होने के बावजूद भारत सवाल नहीं पूछ रहा है, ऐसा क्यों? इसका जवाब भाजपा के सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने दिया है। स्वामी ने कहा है कि अमेरिका ने चीन के वुहान इंस्टीच्यूट ऑफ वायरोलॉजी की रिसर्च को फंडिंग दी थी इसलिए वह सवाल पूछ रहा है लेकिन भारत में इसका उलटा हुआ है। स्वामी का कहना है कि चीन के वुहान इंस्टीच्यूट ने वायरस पर रिसर्च के लिए भारत की संस्था टाटा इंस्टीच्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च यानी टीआईएफआर को फंड किया था और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मौजूदा मुख्य वैज्ञानिक सलाहकारा विजय राघवन भी नगालैंड के वुहान प्रोजेक्ट से… Continue reading भारत क्यों नहीं चीन से सवाल पूछता?

डॉक्टर फॉची ने बताई भारत की कमियां

वाशिंगटन। संक्रामक रोगों के अमेरिकी विशेषज्ञ और अमेरिकी राष्ट्रपति के चिकित्सा सलाहकार डॉक्टर एंथनी फॉची ने कोरोना वायरस की महामारी से मुकाबले में भारत की कमियों के बारे में वहां की संसद को बताया। उन्होंने अमेरिकी सांसदों से कहा कि भारत ने गलत धारणा बनाई कि उसके यहां कोविज-19 की वैश्विक महामारी का प्रकोप समाप्त हो गया है और समय से पहले देश को खोल दिया, जिससे वह ऐसे गंभीर संकट में फंस गया है। डॉक्टर फॉची ने मंगलवार को सुनवाई के दौरान सीनेट की स्वास्थ्य, शिक्षा, श्रम व पेंशन समिति से कहा- भारत अभी जिस गंभीर संकट में है उसकी वजह यह है कि वहां वास्तविक इजाफा था और उन्होंने गलत धारणा बनाई कि वहां यह समाप्त हो गया है। और हुआ क्या, उन्होंने समय से पहले सब खोल दिया और अब ऐसा चरम वहां देखने को मिल रहा है, जिससे हम सब जानते हैं कि वह कितना विनाशकारी है। सीनेट में सुनवाई की अध्यक्षता कर रही, सीनेटर पैटी मुर्रे ने कहा कि भारत में हाहाकार मचा रही कोविड-19 की लहर इस बात की दर्दनाक याद दिलाती है कि अमेरिकी यहां तब तक वैश्विक महामारी को समाप्त नहीं कर सकते जब तक कि यह सब जगह समाप्त न हो… Continue reading डॉक्टर फॉची ने बताई भारत की कमियां

बाइडेन का ‘अमेरिका फर्स्ट’!

बतौर राष्ट्रपति जो बाइडेन के पहले 100 दिन में जिस एक बात के साफ संकेत मिले वह यह है कि इस दौर की विदेश नीति में भी अमेरिका पूर्व राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के कार्यकाल में अपनाई गई ‘अमेरिका फर्स्ट’ की नीति पर चल रहा है। गौरतलब है। चीन और ईरान के मामले में अमेरिका का सख्त रुख कायम है। चीन के खिलाफ वैश्विक गोलबंदी करने को बाइडेन प्रशासन अपनी प्राथमिकता में सबसे ऊपर रखा है। उधर ईरान के साथ परमाणु डील में तुरंत लौटने का वादा बाइडेन ने तोड़ दिया है। इसके विपरीत उसने इसके लिए नई शर्तें लगा दी हैं। शरणार्थियों को अमेरिका आने देने की नीति के मामले भी बाइडेन प्रशासन का रुख ट्रंप जैसा ही सख्त है। ट्रंप ने एक साल में सिर्फ 15 हजार शरणार्थियों को आने देने की नीति तय की थी। इसे बढ़ाने के अपने वादे को पलटे हुए अब बाइडेन ने कह दिया है कि ये सीमा जारी रहेगी। कोरोना वायरस की वैक्सीन दुनिया को उपलब्ध कराने में बाइडेन प्रशासन ने कोई रुचि नहीं ली है। इस मामले में भी उसकी नीति अमेरिका फर्स्ट है। वैक्सीन के मामले में बाइडेन ने संदेश देने कोशिश की है कि उनके प्रशासन के लिए अमेरिकी नागरिकों… Continue reading बाइडेन का ‘अमेरिका फर्स्ट’!

टैक्स बढ़ाने का मिशन

अमेरिका के जो बाइडेन प्रशासन ने देश में कॉरपोरेट टैक्स दर को 21 से बढ़ा कर 28 प्रतिशत करने का प्रस्ताव सामने रखा है। इसकी रिपब्लिकन पार्टी और कॉरपोरेट सेक्टर ने कड़ी आलोचना की है। उनका तर्क है कि टैक्स रेट बढ़ने पर अमेरिकी कंपनियां कारोबार के लिए उन देशों में चली जाएंगी, जहां टैक्स रेट कम है। इसलिए अब बाइडेन प्रशासन ने सभी देशों में टैक्स रेट बढ़वाने की मुहिम छेड़ने का फैसला किया है। अमेरिका की वित्त मंत्री जेनेट येलेन ने एक महत्त्वपूर्ण भाषण में दुनिया के तमाम देशों का आह्वान किया कि वे आय कर की एक न्यूनतम वैश्विक दर तय करें। मतलब यह कि एक ऐसी दर तय की जाए, जिससे कम इनकम टैक्स रेट कोई देश अपने यहां नहीं रखेगा। येलेन ने कहा कि पिछले 30 साल से बहुराष्ट्रीय कंपनियों को अपने यहां बुलाने के लिए अलग- अलग देशों के बीच टैक्स रेट घटाने की होड़ रही है। लेकिन अब यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि सरकारें ऐसा टैक्स सिस्टम रखें, जिससे जन कल्याण के कार्यों के लिए अधिक राजस्व जुटाया जा सके। येलेन ने इरादा जताया कि अब अमेरिका जी- 20 देशों के साथ मिल कर कोशिश करेगा कि पूरी दुनिया के लिए… Continue reading टैक्स बढ़ाने का मिशन

सही नब्ज पर हाथ

जो बाइडेन ने चीन का मुकाबला करने के लिए अपनी जो त्रि-सूत्री नीति घोषित की है, उसका पहला सूत्र बताता है कि समस्या चीन नहीं, बल्कि अमेरिका की अपनी कमजोरी है। असल बात यह है कि अमेरिका ने अपने श्रमिकों और विज्ञान में पर्याप्त निवेश करना छोड़ दिया। तो चीन आगे निकल गया।

चीन के प्रति अमेरिका का बदला रुख

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग से दो घंटे तक बातचीत की। इसे लेकर कई किस्म की खबरें आईं।

बाइडन की भारत-नीति

अमेरिका के नए राष्ट्रपति जोज़फ बाइडन ने शपथ लेते ही डोनाल्ड ट्रंप के 17 फैसलों को उलट दिया और बंटे हुए अमेरिकी दिलों को जोड़ने का संकल्प किया।

जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे ट्रंप

व्हाइट हाउस ने घोषणा की है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आज और कल वर्चुअल तरीके से होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे।

सोनिया और राहुल ने बाइडेन-हैरिस को दी चुनाव जीतने पर बधाई

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी की ओर से 46 वें अमेरिकी राष्ट्रपति चुने गए जो बाइडेन और उप-राष्ट्रपति चुनीं गईं कमला हैरिस को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं।

अमेरिका में दूसरी प्रेसिडेंशियल डिबेट रद्द

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव से पहले होने वाली पारंपरिक डिबेट की शृंखला में हुई पहली डिबेट के विवाद के बाद सबकी नजर दूसरी डिबेट पर थी। पर दूसरी डिबेट रद्द कर दी गई है।

ट्रंप कैम्पेन ने ‘ऑपरेशन मागा’ लॉन्च किया

कोरोनावायरस से संक्रमित अस्पताल में इलाज करा रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को फिर से सत्ता में काबिज करने के लिए उनके कैम्पेन ने ‘ऑपरेशन मागा’ लॉन्च करने की घोषणा की है।

ट्रंप की टैक्स चोरी का खुलासा!

द न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की टैक्स चोरी का खुलासा किया है।

जुकरबर्ग ने अमेरिका में टिकटॉक को लेकर चिंता जताई

फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा टिकटॉक को देश की सुरक्षा के लिए खतरा बताने से महीनों पहले ही अमेरिकी सांसदों के समक्ष टिकटॉक को लेकर चिंता जता चुके हैं।

और लोड करें