जापानी सेना के अनसुने वॉर क्राइम जहां महिलाओं के साथ जबरन संबंध बनाकर बॉडी में डाले जाते थे खतरनाक वायरस..

नई दिल्ली: इतिहास में कई भयानक युद्ध हुए हैं जिसके बारे में सुनकर आज भी हमारी रूह कांप जाती है। इन युद्ध में लाखों लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। ( Unheard War Crimes in japan ) अगर इतिहास के सबसे भीषण युद्ध की बात करें तो हमारे दिमाग में अमेरिकी सेना द्वारा जापान के हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराने की घटना सामने आती है।  वहीं किसी युद्ध में नागरिकों, महिलाओं और बच्चों पर होने वाले अपराधों यानी वार क्राइम के बारे में लोग कम जानते होंगे। एक ऐसे ही वार क्राइम के बारे में आपको बताते हैं जिसे जापान ने अंजाम दिया……. also read: टोक्यो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने जा रहे है हरविंद्र, हरियाणा से आर्चरी के एकमात्र खिलाड़ी ऐसे हुई जैविक हथियार बनाने की शुरुआत दरअसल, यूनिट 731 को जापान की सेना ने जैविक हथियार बनाने के लिए शुरू किया था, ताकि वो दुश्मनों पर इसका उपयोग कर सकें। ( Unheard War Crimes in japan ) इसकी सीक्रेट लैब्स में इंसानों के शरीर में खतरनाक वायरस और केमिकल्स डालकर प्रयोग होते थे। इंसानों को इस लैब में ऐसी खौफनाक यातनाएं दी जाती थीं। जिसके बारे में किसी ने सोचा भी नहीं होगा। महिलाओं… Continue reading जापानी सेना के अनसुने वॉर क्राइम जहां महिलाओं के साथ जबरन संबंध बनाकर बॉडी में डाले जाते थे खतरनाक वायरस..

कहां-कहां पिछड़ा अमेरिका?

एक सोच यह है कि आर्थिक मामलों में भले अमेरिका चीन से पिछड़ रहा हो, लेकिन सैनिक मामलों में उसका आज भी पूरी दुनिया पर वर्चस्व है। लेकिन अब शायद ये बात भी कमजोर पड़ रही है। ऐसी चेतावनी खुद अमेरिकी सेना के स्ट्रेटेजिक कमांड ने दी है। उसका कहना है कि अमेरिका की तुलना में चीन और रूस अपने परमाणु हथियारों का आधुनिकीकरण बहुत तेजी से कर रहे हैं। उसके मद्देनजर अगर अमेरिका ने अपने परमाणु रक्षा ढांचे में तुरंत जरूरी निवेश नहीं किया, तो अपराजेय शक्ति के रूप में उसकी साख जाती रहेगी। अमेरिकी कांग्रेस की रक्षा संबंधी सुनवाई के दौरान स्ट्रेटेजिक कमांड के प्रमुख एडमिरल चार्ल्स रिचर्ड ने ये बातें टो-टूक कही। यह कमांड ही अमेरिका के परमाणु हथियारों की देखरेख करता है। दरअसल, बाइडेन प्रशासन अभी अपने परमाणु अस्त्र नीति की समीक्षा कर रहा है। इसके तहत परमाणु हथियारों के आधुनिकीकरण करने पर संभावित खर्च का जायजा भी लिया जा रहा है। इसी सिलसिले में कांग्रेस में सुनवाई हुई। इसके पहले 2017 में अमेरिकी कांग्रेस के बजट कार्यालय ने एक रिपोर्ट में एक अनुमान लगाया गया था। उसके मुतबिक अमेरिकी परमाणु हथियारों के पूरे आधुनिकीकरण पर 1.2 ट्रिलियन डॉलर का खर्च आएगा। तो स्ट्रेटेजिक कमांड की… Continue reading कहां-कहां पिछड़ा अमेरिका?

ट्रंप ने अलकायदा सरगना के मारे जाने की पुष्टि की

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पुष्टि की है कि पिछले महीने यमन में अमेरिकी सेना द्वारा किए गए एक ऑपरेशन में अलकायदा का सरगना कासिम अल-रिमी मारा गया। कासिम ‘अलकायदा इन अरब पेनिंसुला’ (एक्यूएपी) का संस्थापक था। सुत्रों के मुताबिक, व्हाइट हाउस ने गुरुवार को ट्रंप का बयान जारी किया, जिसमें उन्होंने कहा, अमेरिका ने यमन में एक आतंकवाद रोधी अभियान चलाया, जिसने अरब प्रायद्वीप में अलकायदा के संस्थापक और अलकायदा के सरगना कासिम अल-रिमी को सफलतापूर्वक मार गिराया। सुत्र के अनुसार, ट्रंप ने कहा कि अल-रिमी 1990 के दशक से, ओसामा बिन लादेन के लिए अफगानिस्तान में काम कर रहा था और उसकी निगरानी में अलकायदा यमन में नागरिकों के खिलाफ अकारण हिंसा कर रहा था और अमेरिका व हमारी सेना के खिलाफ कई हमलों का संचालन करना और हमले के लिए प्रेरित करना चाहा। कासिम की मौत अलकायदा शाखा और इसकी वैश्विक गतिविधि के लिए झटका है। ट्रंप ने कहा, अमेरिका, हमारे हित, और हमारे सहयोगी उसकी मौत के परिणामस्वरूप सुरक्षित हैं। हमें नुकसान पहुंचाने की मंशा रखने वाले आतंकियों को हम ट्रैक करके और खत्म करके अमेरिकी लोगों की रक्षा करना हम जारी रखेंगे। 41 वर्षीय कासिम अल-रिमी की मौत समूह के लिए एक बड़ा झटका… Continue reading ट्रंप ने अलकायदा सरगना के मारे जाने की पुष्टि की

ट्रंप अचानक पहुंचे अफगानिस्तान

बाग्राम (अफगानिस्तान)। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप बिना किसी आधिकारिक घोषणा के अफगानिस्तान पहुंच गए। ‘थैंक्सगीविंग डे’ पर अमेरिकी सैनिकों के साथ छुट्टियां मनाने ट्रंप अफगानिस्तान पहुंचे हैं। उन्होंने काबुल के बाहर बाग्राम एयरबेस पर तैनात अमेरिकी सैनिकों के साथ बातचीत की। इस दौरान उन्होंने सैनिकों को भोजन भी परोसा। सुरक्षा कारणों से  ट्रंप के आने की पहले से सूचना नहीं दी गयी। उल्लेखनीय है कि राष्ट्रपति ट्रंप की यह पहली अफगानिस्तान की यात्रा है। उनसे पहले तत्कालिन राष्ट्रपति बराक ओबाका 2014 में अफगानिस्तान दौरे पर आये थे।

अमेरिका ने बगदादी पर हमले की पहली तस्वीरे जारी की

वाशिंगटन। अमेरिकी सेना ने उत्तरी सीरिया में छापेमारी की अपनी पहली तस्वीरें जारी कर दी हैं जिसमें आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) प्रमुख अबु बकर अल-बगदादी मारा गया था। सुत्रों के मुताबिक एक वीडियो में सैनिक आतंकवादियों को गोली मारते हुए देखे जा रहे हैं और वे उस कंपाउंड की तरफ बढ़ रहे हैं, जिधर बगदादी छिपा हुआ था। बगदादी एक सुरंग में छिप गया और सुसाइड वेस्ट में धमाका कर उसने खुद को उड़ा दिया। छापेमारी के बाद, सुरंग को बारूद से उड़ा दिया गया। यूएस सेंट्रल कमांड के प्रमुख जनरल केनेथ मैकैंजी ने कहा कि नष्ट की गई इमारतें बाद में ऐसी रह गईं जैसे किसी पार्किं ग स्थल पर बड़े-बड़े गड्ढे हों। जनरल मैकेंजी ने कहा कि सुरंग में बगदादी के साथ दो बच्चे भी मारे गए। हालांकि पहले इनकी संख्या तीन बताई जा रही थी। वे हालांकि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की उस बात की भी पुष्टि नहीं कर सके, जिसमें ट्रंप ने कहा था कि मरते समय बगदादी रो रहा था और चिल्ला रहा था। उन्होंने कहा, वह छोटे से सूराख में दो बच्चों के साथ घिसट रहा था और जब लोग जमीन पर थे तभी उसने खुद को उड़ा दिया। उसकी इस हरकत को देखकर… Continue reading अमेरिका ने बगदादी पर हमले की पहली तस्वीरे जारी की

और लोड करें