अयोध्या केस

हिंदू महासभा की भी अयोध्या पर याचिका

नई दिल्ली। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सोमवार को हिंदू पक्ष की तरफ से पहली पुनर्विचार याचिका दाखिल हुई। अखिल भारतीय हिंदू महासभा की तरफ से वकील विष्णु शंकर जैन ने यह याचिका दायर की। याचिका...

अयोध्या मामले में चार समीक्षा याचिका दायर

नई दिल्ली। अयोध्या में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद के भूमि विवाद में आए सुप्रीम कोर्ट के नौ नवंबर के फैसले पर समीक्षा के लिए कई और याचिकाएं दायर हो गई हैं। जमीयत उलेमा ए हिंद ने पहली याचिका...

अयोध्या में सुरक्षा के चौकस इंतजाम

राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अयोध्या सहित पूरे उत्तर प्रदेश में सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं।

अयोध्या पर फैसले से पहले पूरे देश में अलर्ट

अयोध्या पर आज फैसले का दिन है। शनिवार सुबह साढ़े दस बजे आने वाले फैसले के चलते देशभर में अलर्ट है।

अयोध्या: फैसला सुनाने वाले जजों की बढ़ाई सुरक्षा

अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद में सुप्रीम कोर्ट के आज आने वाले फैसले से पहले मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को जेड प्लस सुरक्षा प्रदान की गयी है।

अयोध्या फैसला शनिवार को क्यों ?

देश के संभवत: सर्वाधिक चर्चित व विवादित अयोध्या के रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में कल (शनिवार नौ नवंबर) सुबह साढ़े दस बजे सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला सुनाने जा रहा है।

अयोध्या फैसला: यूपी के सभी स्कूल, कॉलेज 11 तक बंद

अयोध्या के फैसले को देखते उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी स्कूल, कॉलेज, शिक्षण संसस्थान और प्रशिक्षण केंद्रों को 9 से 11 नवंबर तक बंद रखने का आदेश जारी किया गया है।

अयोध्या मामले में आज फैसला सुनायेगा सुप्रीम कोर्ट

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट कल फैसला सुनाएगा।  अयोध्या मामले में 40 दिनों तक चली थी सुनवाई के बाद चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के नेतृत्व में 5 सदस्यीय संविधान बेंच फैसला सुनाएगी।

मुस्लिम पक्ष को लिखित नोट देने की मंजूरी

राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद भूमि विवाद की लगातार चली सुनवाई पूरी होने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सुन्नी वक्फ बोर्ड सहित मुस्लिम पक्षकारों को अपने लिखित नोट दाखिल करने की सोमवार को अनुमति दी दी।
- Advertisement -spot_img

Latest News

rajasthan : अजमेर की वर्षा ने पेश की बलिदानी की मिसाल, कैंसर पीड़ितों के चेहरे पर खुशी लाने के लिए दान किए बाल

ajmer: राजस्थान के कण-कण में बसा है बलिदान और साहस। फिर बात अमृता देवी की हो या महाराणा प्रताप...
- Advertisement -spot_img