• डाउनलोड ऐप
Friday, May 14, 2021
No menu items!
spot_img

अशोका यूनीवर्सिटी

‘अच्छा हिंदू’ जाए विदेश, बने ‘अद्भुत’!

भारत में जीना विकल्पमय, अवसरमय, सत्यमय नहीं है। जुगाड़, कृपा, झूठ में जिंदगी खपानी है। एक वक्त मुझे लगता था कि देश और जीवन को बनवाने वाले अलग-अलग विचारों के विकल्प में जब हिंदू राजनीतिक दर्शन को मौका मिलेगा तो शायद हिंदुओं का जीना सुखमय बने।

अमित शाह गृह मंत्री और अंबानी से रंगदारी हिमाकत!

आप पूछ सकते हैं भला इसमें अमित शाह और मोदी की हिंदूशाही का क्या मतलब?  है और जबरदस्त है! इसलिए कि भारत जो देश है वह दिल्ली तख्त के मिजाज से धड़कता है।

ओछे राज के छोटे-छोटे डर

मगर स्वीडेन की वैश्विक संस्था वी-डेम ने बांग्लादेश के लोकतंत्र को भारत से बेहतर बताया है और भारत को पाकिस्तान सरीका और उसकी तिलमिलाहट में प्रताप भानु पर मोदीशाही की गाज गिरी है तो जान लें भारत की लोकतंत्र रियलिटी का यह दुनिया के आगे स्वंयस्फूर्त खुलासा है।

अकादमिक स्वतंत्रता का सूरतेहाल

सवाल यह है कि अगर निजी फंड से चलने वाली संस्थाएं भी अपनी फैकल्टी को स्वतंत्र माहौल उपलब्ध नहीं करवा पा रही हैं, तो सरकारी संस्थाओं से क्या उम्मीद की जाएगी, जिनके संसाधन ही सरकार मुहैया करवाती है?
- Advertisement -spot_img

Latest News

- Advertisement -spot_img