जीत के ऐलान की जल्दी क्यों?

पश्चिम बंगाल में पहले चरण की 30 सीटों के लिए 27 मार्च को मतदान हुआ। उस दिन शाम छह बजे तक ईवीएम का आखिरी बटन दबा भी नहीं होगा कि भाजपा ने जीत का ऐलान कर दिया।

Assam Assembly Elections 2021: पहले चरण में अब तक 26 फीसदी मतदान

असम में 47 निर्वाचन क्षेत्रों में भारी सुरक्षा के बीच आज विधानसभा चुनावों के पहले चरण में सुबह से मतदान चल रहा है अब तक लगभग 26 फीसदी मतदाता मतदान कर चुके हैं. आपको बता दें कि डिब्रूगढ़ के एक स्कूल में अपना वोट डालने के बाद, Majuli से चुनाव लड़ रहे Chief Minister Sabarnand Sonowal ने मीडिया से कहा कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) को 126 सदस्यीय विधानसभा में 100 से अधिक सीटें मिलेंगी। इसे भी पढ़ें – Rajasthan Phone Tapping: आरोप-प्रत्यारोप का दौर फिर शुरू, जानें,  किसने क्या कहा … पहले चरण का मतदान 264 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेगा, जिसमें Chief Minister Sabarnand Sonowal (Majuli), विधानसभा अध्यक्ष हितेंद्र नाथ गोस्वामी (Jorhat), राज्य कांग्रेस प्रमुख रिपुन बोरा (Gohpur), असम गण परिषद प्रमुख अतुल बोरा (बोकाखाट), कांग्रेस विधायक दल के नेता देवव्रत सैकिया (नाजिरा), जेल में बंद रायजोर दल के अध्यक्ष अखिल गोगोई (शिवसागर) और असम जतिया परिषद के अध्यक्ष लुरिनज्योति गोगोई (दुलियाजान) शामिल हैं। आपको बता दें कि इन चुनावों में कम से कम 23 महिला उम्मीदवार भी Election लड़ रही हैं। 11,537 मतदान केंद्रों पर सुबह 7 बजे से मतदान शुरू हुआ, जो ज्यादातर पूर्वी Assam के 12 जिलों को कवर करते हैं. यह शाम 6 बजे… Continue reading Assam Assembly Elections 2021: पहले चरण में अब तक 26 फीसदी मतदान

राहुल ने युवाओं को दिलाई टिकट

पांच राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का फोकस सिर्फ दो राज्यों पर है। वे केरल और असम में पार्टी को चुनाव लड़वा रहे हैं।

आसू का आंदोलन भाजपा को भारी पड़ेगा

एक तरफ ये पार्टियां हैं, जो सीएए को मुद्दा बनाए रखना चाहती हैं तो दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी है, जो सीएए लेकर आई है लेकिन उसे मुद्दा नहीं बनने देना चाहती है क्योंकि इससे उसे नुकसान का अंदेशा है।

सोनोवाल के चेहरे पर क्यों नहीं लड़ी भाजपा?

जिस तरह से पिछले सात साल में पहली बार भाजपा ने किसी मुख्यमंत्री को कार्यकाल के बीच में बदला है उसी तरह यह संभवतः पहली बार हुआ है कि भाजपा किसी मुख्यमंत्री के पद पर रहते उसके चेहरे पर चुनाव नहीं लड़ रही है।

हिमंता सरमा क्या मुख्यमंत्री बनेंगे?

सम में भी इन दिनों यह बात कही जा रही है कि अगर भाजपा को पूर्ण बहुमत आ गया तब तो सर्बानंद सोनोवाल ही फिर से मुख्यमंत्री बनेंगे लेकिन अगर त्रिशंकु विधानसभा बनती है और सरकार बनाने के लिए जोड़-तोड़ की जरूरत पड़ती है तो राज्य सरकार के मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा मुख्यमंत्री बनेंगे।

अजमल से तालमेल पर कांग्रेस में नाराजगी

अब कांग्रेस का गठबंधन ज्यादा मजबूत दिख रहा है। इसके बावजूद पार्टी के अंदर गठबंधन को लेकर घमासान छिड़ा है। खासतौर से बदरूद्दीन अजमल की पार्टी एआईयूडीएफ के साथ तालमेल और उन्हें दी गई सीटों को लेकर कांग्रेस के कई नेता नाराज हैं।

असम में बीपीएफ से बदलेगा माहौल

असम में 27 मार्च को विधानसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान होना है। उससे पहले राज्य की राजनीति तेजी से बदल रही है। बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के एनडीए छोड़ कर कांग्रेस गठबंधन में शामिल होने से सबसे बड़ा बदलाव हुआ है

घुसपैठ खत्म करेगी भाजपा: शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को असम में कई योजनाओं की शुरुआत की और इसके साथ ही अगले साल अप्रैल-मई में होने वाले विधानसभा चुनावों का आगाज कर दिया।

चुनाव प्रचार के लिए गुवाहाटी पहुंचे अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता अमित शाह अगले साल होने वाले असम विधानसभा चुनावों के लिए सत्तारूढ़ भगवा पार्टी के चुनाव प्रचार अभियान को शनिवार को औपचारिक रूप से गुवाहाटी में शुरू करेंगे।

राम माधव ने सोनोवाल को उम्मीदवार बनाया

असम में भाजपा के महासचिव राम माधव ने मौजूदा मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को मुख्यमंत्री पद का दावेदार बना दिया है। उन्होंने तीन दिन पहले एक कार्यक्रम में कहा कि असम की जनता एक बार फिर पूर्ण बहुमत से सोनोवाल को मुख्यमंत्री बनाएगी।

और लोड करें