• डाउनलोड ऐप
Friday, May 14, 2021
No menu items!
spot_img

आंदोलन

बढ़ते कोरोना मामले पर बोले राकेश टिकैत, पूरे देश में लग जाए लॉकडाउन, आंदोलन नहीं होगा खत्म

गाजीपुर बॉर्डर। देशभर में Corona के मामले बढ़ते जा रहे हैं और हालात फिर बिगड़ते जा रहे हैं। Corona के कारण हर तरफ खतरा बढ़ गया है। ऐसे में दिल्ली की सीमाओं पर बैठे सैंकड़ो की संख्या में किसानों...

बॉर्डर पर हाथों में इंकलाबी मेहंदी लगा महिलाओं ने मनाया अंतराष्ट्रीय महिला दिवस

कृषि कानून के खिलाफ राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के आंदोलन को 100दिन से अधिक समय हो चुका है। आंदोलन स्थल पर पुरुष, बच्चे और महिलाओं ने डेरा डाला हुआ है।

किसानों की मार्च महीने में दर्जन भर महापंचायत

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन को तीन महीने हो चुके हैं। ऐसे में मार्च महीने में दर्जन भर महापंचायत आयोजित की जा रही है, ताकि इस आंदोलन को और धार दी जा सके

किसानों के समर्थन में गाजीपुर बॉर्डर पहुंची अभिनेत्री गुल पनाग

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन चल रहा है, ऐसे में अभिनेत्री गुल पनाग आज किसानों के समर्थन में गाजीपुर बॉर्डर पहुंची।

आंदोलन जारी रखने की चुनौती

कहते हैं कि हर चीज की एक्सपायरी डेट होती है यानी हर चीज को किसी न किसी समय खत्म होना होता है। क्या किसान आंदोलन धीरे धीरे एक्सपायरी डेट की तरफ बढ़ रहा है

आंदोलनजीवियों का सच

दिल्ली सीमा पर कृषि-सुधार कानून विरोधी आंदोलन को ढाई माह से ऊपर हो गया है। यह कब समाप्त होगा- कहना कठिन है। किंतु इस आंदोलन में कुछ सच्चाइयां छिपी है, जिससे हमें वास्तविक स्थिति को समझने में सहायता मिलती है।

किसान आंदोलन का आज 74वां दिन, रणनीति में बदलाव

देश की राजधानी दिल्ली की सीमाओं -- सिंघु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर पर बैठे किसानों के आंदोलन का 74वां दिन है।

विपक्षी दलों ने आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों को श्रद्धांजलि दी

तृणमूल कांग्रेस ने आज संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर बहस में भाग लिया और जारी आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों को श्रद्धांजलि के रूप में कुछ देर का मौन रखा।

ये हर वर्ग के किसानों की लड़ाई है : राकेश टिकैत

बीते गुरुवार शाम गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन पूरी तरह बदल गया, राकेश टिकैत के भावुक वीडियो ने पश्चिमी उत्तरप्रदेश के किसानों में आक्रोश पैदा कर दिया, रातों रात किसान अपना घर छोड़ बॉर्डर पहुंचने लगे है।

टिकैत के आंसू गेम चेंजर साबित हुए

भारतीय किसान यूनियन के नेता और गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन की अगुवाई कर रहे राकेश टिकैत के आंसू काम कर गए, उनकी अपील के बाद किसानों का हुजूम गाजीपुर पर एक बार फिर जमा हो गया।
- Advertisement -spot_img

Latest News

kinda weird : ऑस्ट्रेलिया में कोरोना के बाद आई एक और आफत..आसमान से होने लगे चूहों की बारिश..

कोरोना वायरस से अभी तक पुरी दुनिया उभर नहीं आई है और एक के बाद एक संकट आये जा...
- Advertisement -spot_img