देश के नागरिकों की प्रहरी है आईटीबीपी: हर्षवर्धन

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में एक घायल महिला को अस्पताल पहुंचाने के लिए पैदल 40 किलोमीटर का सफर तय

आईटीबीपी की झड़प क्यों छिपाई गई?

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर गृह मंत्रालय की ओर से दिए जाने वाले वीरता पुरस्कारों का ऐलान हुआ तो उसमें इंडो तिब्बत बोर्डर पुलिस, आईटीबीपी के 21 जवानों का नाम गैलेंटरी अवार्ड के लिए प्रस्तावित किया गया।

आईटीबीपी के 45 जवान कोरोना सेे संक्रमित

भारत तिब्बत सीमा पुलिस के 45 कर्मियों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है जिनमें से दो को सफदरजंग अस्पताल , 41 को ग्रेटर नोएडा में और दो को एम्स झज्जर में भर्ती कराया गया है।

अर्धसैनिक बलों के जवानों की समस्याओं पर ध्यान दें : अधीर

लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चाैधरी ने छत्तीसगढ़ में भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के जवानों की आपसी कहा-सुनी के बाद हुई

आईटीबीपी में गोलीबारी, छह जवानों की मौत

रायपुर। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में बुधवार की सुबह आईटीबीपी कैंप में एक बड़ी घटना हो गई, जिसमें छह जवानों की मौत हो गई है। आईटीबीपी के एक जवान रहमान खान ने अपने साथियों के ऊपर फायरिंग कर दी। इसमें चार जवानों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि तीन जवान घायल हो गए। बाद में रहमान ने खुद को भी गोली मारकर खुदकुशी कर ली। घायल जवानों को हेलीकॉप्टर से रायपुर ले जाया गया। इलाज के दौरान एक और जवान ने दम तोड़ दिया। बस्तर के आईजी पी सुंदरराज ने बताया कि रहमान को दिसंबर के अंत में पारिवारिक समारोह में छुट्‌टियों पर जाना था। इसके लिए उसने लंबी छुट्‌टी की मांग की थी। हालांकि, फिलहाल उसकी छुट्‌टियां मंजूर नहीं हो पाई थी। इसे लेकर साथी जवानों ने मजाक किया तो वह गुस्से में आ गया और फायरिंग कर दी। पुलिस ने बताया कि आईटीबीपी का यह कैंप धौदई क्षेत्र में कडेनार में है। सुबह पौने नौ बजे हुई फायरिंग में कुल छह जवानों की मौत हुई। सुंदरराज ने बताया कि यह आपसी विवाद ही लग रहा है। फायरिंग का कारण जांच के बाद ही सामने आएगा। राज्य के गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा- जवानों में तनाव जैसी… Continue reading आईटीबीपी में गोलीबारी, छह जवानों की मौत

सीमाओं की रक्षा के लिए तत्पर है आईटीबीपी : देशवाल

भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के महानिदेशक सुरजीत सिंह देशवाल ने आज यहां कहा कि बल के जवान हिमालय और अन्य बर्फीले क्षेत्रों में शून्य से कम तापमान में पूरी तत्परता से देश की सरहदों की रक्षा कर रहे हैं

और लोड करें