कुप्रबंधन से बढी आर्थिक बदहाली का बजट में जवाब दे सरकार: कांग्रेस

कांग्रेस ने कहा है कि सरकार के आर्थिक कुप्रबंधन के कारण देश में हर व्यक्ति पर बढे कर्ज का बोझ घटाने और जीडीपी, औद्योगिक उत्पादन, आयात, निर्यात, निवेश, खपत जैसे कई क्षेत्रों में गिरावट रोकने के उपायों का बजट में विस्तार से जवाब दिया जाना चाहिए।

देश में खाद्य तेल में आत्मनिर्भर होने की क्षमता: रामदेव

योग गुरु बाबा रामदेव ने खाद्य तेल के आयात पर गहरी चिन्ता व्यक्त करते हुये कहा कि देश इस मामले में पांच साल के अंदर आत्मनिर्भर हो सकता है।

विदेशों से फालतू चीजें क्यों मंगाएं?

आज यह खबर पढ़कर मुझे बहुत खुशी हुई कि भारत सरकार कई तरह के विदेशी माल मंगाना बंद करनेवाली है। अकेले चीन से आनेवाली 371 चीज़ों पर रोक लगानेवाली है। इन चीज़ों में बच्चों के खिलौने, दवाइयां, बिजली का सामान, तार, टेलीफोन, फर्नीचर, कुछ खाने-पीने की चीजें आदि हैं। इन चीजों में से एक भी चीज़ ऐसी नहीं है, जिसके भारत में नहीं आने से भारतीयों का कोई बहुत बड़ा नुकसान हो जाएगा या उन्हें जान-माल की हानि हो जाएगी। ये सब चीजें ‘अनावश्यक’ चीजों की श्रेणी में आती हैं। आप जानते हैं कि ये गैर-जरुरी चीजें कितने की आती हैं? कम से कम 4 लाख करोड़ रु. की याने अरबों-खरबों रु. की। ऐसी चीजें हम अमेरिका और अन्य देशों से भी मंगाते हैं। हमारे देश की पसीने की कमाई के खरबों रु. विदेशों में बह जाते हैं। यदि इनका आयात बंद हो जाए तो यह बचा हुआ रुपया देश के खेतों और कारखानों की बेहतरी में लगाया जा सकता है। मैं तो कहता हूं कि सभी देशों से आनेवाले अय्याशी के सामानों पर रोक क्यों नहीं लगाई जाती? मुट्ठीभर लोग, जो अरबों रु. इन चीजों पर बहाते हैं, वे कौन हैं? वे लोग भारतीय नहीं हैं, वे इंडियन हैं।… Continue reading विदेशों से फालतू चीजें क्यों मंगाएं?

आवक बढ़ने से दिल्ली में घटी प्याज की कीमतें

दिल्ली में स्थानीय उपज की आवक बढ़ने के साथ ही विदेशों से आयात होने के बाद प्याज की थोक कीमतों में आज कुछ कमी देखने को मिली।

सरकार ने 1.2 लाख् टन प्याज के आयात को दी मंजूरी

सरकार ने गुरुवार को कहा कि प्याज की बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने के लिए 1.2 लाख टन प्याज के आयात को मंजूरी दी गयी है।

प्याज पर लगेगा लगाम, 2500 टन पहुंचा, 3000 टन रास्ते में

नई दिल्ली। आसमान पर पहुंची प्याज के दाम थामने के लिए सरकार तेजी से आयात के जरिए आपूर्ति बढ़ा रही है। 200 टन प्याज बंदरगाह पर पहुंच चुका है वहीं 3000 टन रास्ते में है और जल्द ही खुदरा बाजार में पहुंच जाएगा। प्याज की कीमत 100 रुपए तक पहुंच चुकी है। कृषि मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि इसमें से 2,500 टन पहले ही भारतीय बंदरगाहों पर 80 कंटेनर में पहुंच चुका है, जिसमें से 70 कंटेनर मिस्र से और 10 कंटेनकर नीदरलैंड से हैं। अन्य 3,000 टन 100 कंटेनरों से हाई सी के जरिए आ रहे हैं, जिसे भारतीय बंदरगाहों की तरफ लाया जा रहा है। प्याज की आपूर्ति में कमी आई है, ऐसा अनियमित बारिश की वजह से हुआ है, जिससे इस साल 30 से 40 फीसदी उत्पादन प्रभावित हुआ है। प्याज की कीमतें 100 रुपये प्रति किलो के पार हो गई है। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने घोषणा की थी कि सरकार प्याज के आयात व इस प्रक्रिया को सहज बनाने के लिए सहायता करेगी और दूसरी देशों से शीघ्र आपूर्ति सुनिश्चित करेगी। इसे प्राप्त करने के लिए कृषि मंत्रालय ने फाइटोसैनेटरी व फ्यूमिगेशन की जरूरतों को उदार बनाया है। अफगानिस्तान, मिस्र, तुर्की व ईरान में… Continue reading प्याज पर लगेगा लगाम, 2500 टन पहुंचा, 3000 टन रास्ते में

दिल्ली में 100 रुपये किलो प्याज

देश की राजधानी दिल्ली की आजादपुर मंडी में दो दिन पहले प्याज का थोक भाव 80 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गया था, लेकिन आवक बढ़ने और आयात से कीमतों पर नियंत्रण रखने के सरकार के फैसले के बाद बुधवार को प्याज के थोक दाम में करीब 50 फीसदी की गिरावट आई, लेकिन खुदरा में लोग 100 रुपये प्रति किलो प्याज खरीद रहे थे।

और लोड करें