• डाउनलोड ऐप
Wednesday, May 12, 2021
No menu items!
spot_img

एनडीए

बिहार: फिर से नीतीशे कुमार!

बिहार के चुनाव नतीजों में हेरफेर के राष्ट्रीय जनता दल के आरोपों में कितनी सच्चाई है, यह तो अब शायद ही कभी पता चलेगा। लेकिन अनेक सीटों पर संदिग्ध परिस्थितियों में चुनाव परिणाम घोषित किए गए, यह बात बहुत साफ है।

भाजपा के लिए आसान नहीं होगा बिहार

बिहार चुनाव में पहली बार ऐसा हुआ है कि कंट्रोल भारतीय जनता पार्टी के हाथ में रहा। चुनाव का एजेंडा भले तेजस्वी यादव ने सेट किया पर भाजपा ने उस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया।

बिहार में सामाजिक सुधार का एजेंडा चला!

इस बात की कई तरह की व्याख्या होगी कि आखिर बिहार में कौन सा मुद्दा चला, क्या हिट रहा और क्या फ्लॉप हुआ। सोशल मीडिया में मजाक चल रहा है कि बिहार के लोगों ने नौकरी से ऊपर कोरोना की वैक्सीन को चुना।

वैसा हुआ होता तो ऐसा नहीं होता!

बिहार चुनाव के नतीजों का विश्लेषण अब इस मुकाम पर पहुंच गया है कि अगर वैसा हुआ होता या वैसा नहीं हुआ होता तो अभी ऐसा नहीं होता।

नीतीश पर मोदी की मुहर

बिहार में मुख्यमंत्री पद को लेकर भाजपा नेताओं की ओर से उठाई जा रही बातों को दरकिनार करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीतीश कुमार के नाम पर मुहर लगा दी है।

सीएए पर एनडीए में मतभेद

अब तक बिहार के चुनाव में नागरिकता संशोधन कानून, सीएए का मुद्दा नहीं बना था। चुनाव से पहले लग रहा था कि भाजपा शायद अपने सहयोगी नीतीश कुमार की वजह से इसे मुद्दा नहीं बना रही है।

एनडीए की नहीं, भाजपा की रैली

बिहार चुनाव के लिए प्रधानमंत्री की रैलियों की घोषणा हुई थी तो बताया गया था कि वे 12 रैलियां करेंगे और हर रैली एनडीए की रैली होगी। साफ तौर पर कहा गया था कि यह भाजपा की नहीं, बल्कि एनडीए की रैलियां होंगी।

राहुल के भाषण में लोकल कंटेंट की कमी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार में पार्टी का चुनाव प्रचार शुरू किया तो उन्होंने बिल्कुल बिहार के मामलों पर फोकस किया। वे बीच बीच में भोजपुरी बोले और अच्छे तरीके से बोले।

भाजपा की बात मानेंगे नीतिश

बिहार में एनडीए की तीनों पार्टियों- जदयू, भाजपा और लोजपा के बीच गतिरोध बना हुआ है। यह गतिरोध कई बातों को लेकर है। तीनों पार्टियों के बीच सीट बंटवारा नहीं हो पा रहा है।

आठवले ने शरद पवार को दिया एनडीए में आने का सुझाव

मोदी सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री राम दास आठवले ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी मुखिया शरद पवार को एनडीए में शामिल होने का सुझाव दिया है।
- Advertisement -spot_img

Latest News

कांग्रेस के प्रति शिव सेना का सद्भाव

भारत की राजनीति में अक्सर दिलचस्प चीजें देखने को मिलती रहती हैं। महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी सरकार में...
- Advertisement -spot_img