भारत ने सभी जगह से सैनिक हटाने को कहा

पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी सिरे से भारत और चीन के सैनिकों के पीछे हटने के बाद पहली बार गुरुवार को दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की वार्ता हुई।

जयशंकर -वांग यी ने सवा घंटे तक बात की

पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग झील इलाके में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत एवं चीन की सेनाओं के पीछे हटने पर संतोष व्यक्त करते हुए भारत ने चीन से एलएसी के बाकी हिस्सों से भी सेनाओं

चीन के निवेश प्रस्तावों को मंजूरी मिलेगी

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा, एलएसी पर चीन के साथ गतिरोध शुरू होने और पिछले साल जून में भारतीय सैनिकों के साथ हिंसक झड़प के बाद भारत ने चीन को आर्थिक झटका देने के लिए कुछ बेबी स्टेप्स उठाए थे

एलएसी पर तनाव कम करने को भारत-चीन सैन्य वार्ता शुरू

वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव को कम करने के लिए भारत और चीन के बीच सैन्य वार्ता आज सुबह शुरू हुई। कोर कमांडर की बैठक का 10वां दौर सुबह 10 बजे चीनी क्षेत्र के मोल्दो में शुरू हुआ।

80 चीनी कंपनियां भारत में कार्यरत है : अनुराग ठाकुर

चीन की सीमा पर वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव के जारी रहने के बीच वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने राज्यसभा में बताया कि देश में 80 चीनी कंपनियां सक्रिय रूप से कारोबार कर रही हैं,

एलएसी पर क्या होगा?

भारत और चीन के बीच लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर संकट हल करने की कोशिश का असली स्वरूप क्या है, इसको लेकर देश में भरोसा पैदा करने की जरूरत है।

सीमा पर हालात तनावपूर्ण, चीन के साथ युद्ध से इनकार नहीं : बिपिन रावत

भारत के ‘चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ’ जनरल बिपिन रावत ने शुक्रवार को दावा किया कि पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है

उम्मीद तो नहीं बंधती

भारत और चीन की सेनाओं के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा पर लद्दाख में चल रहे गंभीर तनाव के बीच दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने मॉस्को में बातचीत की। पहले खबर आई कि दोनों देश एलएसी पर आमना-सामना खत्म करने के लिए सहमत हो गए हैं।

चीन से लौटे अगवा भारतीय नागरिक

अरुणाचल प्रदेश से अगवा किए गए पांच भारतीय नागरिकों को चीन ने वापस लौटा दिया है। पांचों भारतीय नागरिकों को चीन की सेना ने शनिवार को भारतीय सेना को सौंप दिए। इन पांचों नागरिकों की 12 दिन बाद वापसी हुई।

चीन से इतना डरना क्यों?

दुनिया का हर जानकार मानता है कि चीन ने सीमा पर यथास्थिति तोड़ी। वह आक्रामक है। मई 2020 से पहले भारतीय सेना का जो गश्ती इलाका था उसमें चीनी सेना घुसी है। सीमा पर वह लड़ाई का इंफ्रास्ट्रक्चर बना रहा है।

चीन बढ़ा रहा है सैनिक

पूर्वी लद्दाख की पैंगोंग झील के दक्षिणी किनारे पर भारतीय जवानों के साथ झड़प में कामयाब नहीं होने के बाद चीन अब उत्तरी इलाके में अपनी सैनिक तैनाती बढ़ा रहा है।

चीन को लाल आंख दिखाने का समय

नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने उस समय के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर तंज करते हुए कहा था कि वे चीन को लाल आंख क्यों नहीं दिखाते हैं? अब समय आ गया है कि प्रधानमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी खुद चीन को लाल आंख दिखाएं।

चीन से सभी चिंतित

चीनी सेना के बारे में अमेरिकी कांग्रेस में अपनी सालाना रिपोर्ट में पिछले दिनों पेंटागन- यानी अमेरिका रक्षा मंत्रालय ने कहा कि अगले एक दशक के अंदर चीन अपने परमाणु हथियारों की संख्या दोगुनी कर सकता है।

भारतीय-चीनी सैनिकों के बीच फिर से झड़प

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीन के सैनिकों के बीच फिर झड़प हो गई है। इसमें दोनों देशों की सेनाओं ने एक-दूसरे को डराने-धमकाने और पीछे धकेलने

एलएसी पर हालात तनावपूर्ण : नरवड़े

थल सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवड़े का कहना है कि लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर अभी भी हालात तनावपूर्ण हैं।

और लोड करें