वाह! क्या उम्मीदवार हैं, हमारे?

दिल्ली के आम चुनाव की चर्चा देश भर में है। कई कारणों से है लेकिन कुछ कारण ऐसे भी हैं, जिनकी वजह से दिल्लीवाले अपना माथा ऊंचा नहीं कर सकते। दिल्ली में शिक्षा-संस्थाओं की भरमार है लेकिन दिल्ली प्रदेश के चुनाव में 51 प्रतिशत उम्मीदवार ऐसे हैं, जो 12 वीं कक्षा या उससे भी कम… Continue reading वाह! क्या उम्मीदवार हैं, हमारे?

क्या ये चंदा वाजिब है?

चुनाव आते हैं तो इलेक्ट्रॉल बॉन्ड्स की बिक्री बढ़ जाती है। पहले के आंकड़ों से जाहिर हो चुका है कि इन बॉन्ड्स का ज्यादातर फायदा भारतीय जनता पार्टी को मिलता है। इसलिए अनुमान लगाया जा सकता है कि इस बार ये रकम ज्यादातर किस पार्टी के हिस्से में गई होगी।