गजल, कव्वाली मेरे बचपन की धुन है: अली फजल

अभिनेता अली फजल लखनऊ से ताल्लुक रखते हैं और इसके चलते वह गजल के बारे में बारीकियों को सीखते रहे हैं। संयोगवश अली के चाचा रिजवान सईद ने उन्हें प्रख्यात भारतीय कव्वाल हबीब पेंटर से भी मिलवाया था।

‘पल्लो लटके’ फेम यासर देसाई गाना चाहते हैं क्व्वाली

रोमांटिक गानों के लिए लोकप्रिय गायक यासर देसाई अब पारंपरिक सूफी भक्ति संगीत शैली कव्वाली में गाना गाना चाहते हैं। “मैंने अभी तक कव्वाली नहीं गायी है। मैंने प्यार के गाने, दुख भरे गाने और पार्टी ट्रैक पर अपना हाथ आजमाया है, लेकिन कव्वाली में अभी हाथ आजमाना बाकी है।