बूढ़ा पहाड़
ममता लॉकडाउन का उपाय क्यों नहीं आजमातीं?

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अड़ी हैं कि वे लॉकडाउन नहीं लगाएंगी और उनके राज्य में कोरोना वायरस के केसेज तेजी से बढ़ रहे हैं। राज्य में 26 फरवरी को चुनाव की घोषणा के बाद से कोरोना के केसेज में तीन हजार फीसदी तक का इजाफा हो गया है। दूसरे जिन राज्यों में इतनी तेजी से कोरोना के केसेज बढ़े हैं उन राज्यों में सरकारों ने संक्रमण रोकने के लिए कई किस्म की पाबंदियां या लॉकडाउन लागू किया है। पर ऐसा लग रहा है कि ममता बनर्जी चुनावी चिंता में लॉकडाउन नहीं लागू कर रही हैं। इस तरह से वे अपने राज्य के लोगों की जान से खिलवाड़ कर रही हैं। उनको भाजपा शासित उन राज्यों से सीखना चाहिए, जहां एक-एक, दो-दो सीटों के उपचुनाव हुए। जैसे मध्य प्रदेश की दमोह सीट पर उपचुनाव था तो राज्य सरकार ने वहां प्रचार के लिए छूट देकर रखी और बाकी इलाकों में या तो लॉकडाउन लगा या पाबंदियां लगीं। ऐसा ही कुछ कर्नाटक में भी किया गया। सो, ममता बनर्जी भी चाहें तो आखिरी चरण में जिन इलाकों में मतदान होना है वहां छोड़ कर बाकी इलाकों में लॉकडाउन लगा सकती हैं। वैसे भी अब सिर्फ एक चरण का चुनाव होना… Continue reading ममता लॉकडाउन का उपाय क्यों नहीं आजमातीं?

बयानों की जवाबदेही तय होना जरूरी

भारत में नेताओं को कुछ भी बोलने की आजादी है। पहले आमतौर पर चुनावी सभाओं में नेता अनाप-शनाप बोलते थे। उन्हें इसकी छूट मिली थी। वे कुछ भी दावे करते थे, कुछ भी वादे करते थे और अपने विरोधियों को बदनाम करने के लिए कुछ भी आरोप लगाते थे

उफ! लॉकडाउन में क्रिसमस

ब्रिटेन क्रिसमस के दिन खुला हुआ नहीं होगा। ऐसे ही जर्मनी भी दस जनवरी तक लॉकडाउन में है। यूरोप के तमाम देशों में, अमेरिका में क्रिसमस और नए साल के स्वागत में वह कोई हुजूम नहीं होगा, वह उत्सव नहीं होगा जो इन अमीर, वैभवशाली ईसाई देशों की शान है, परंपरा है, जीने का अंदाज है।

डब्लुएचओ ने दुनिया को दिया दिलासा!

ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन मिलने के बाद दुनिया भर में मचे हड़कंप के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन, डब्लुएचओ ने दिलासा देते हुए कहा है कि ब्रिटेन के हालात बेकाबू नहीं हैं।

अमेरिका में एक दिन में ढाई लाख केस!

दुनिया भर में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा संक्रमित अमेरिका में शनिवार को रिकार्ड संख्या में नए मामले आए। अमेरिका में लगातार चौथे दिन दो लाख से ज्यादा संक्रमित मिले।

वायरस से चुनाव हारेंगे ट्रंप!

झूठ के बादशाह डोनाल्ड ट्रंप चुनाव हार रहे हैं! 22 अक्टूबर, शुक्रवार की ट्रंप-बाइडेन टीवी बहस में वायरस का मुद्दा ही छाया रहा। बहस में डोनाल्ड ट्रंप का रूख वहीं था जो जनवरी से चला आ रहा है। मतलब वायरस, महमारी की गंभीरता को नकारते हुए उन्होंने आत्मविश्वास दिखाया कि सब तो कंट्रोल।

‘फोर एस’ का पालन करें जनता : बेदी

केन्द्रशासित प्रदेश पुड्डुचेरी की राज्यपाल किरण बेदी ने प्रदेशवासियों से कोराना वायरस (काेविड-19) के संक्रमण से अपने आप को सुरक्षित रखने के लिए ‘चार एस

कितने संक्रमित? गुजरात, बिहार, यूपी के ये जवाब!

जान कर आश्चर्य होगा कि गुजरात में कम टेस्टिंग का मामला जब हाईकोर्ट में पहुंचा और अदालत ने जवाब तलब किया तो प्रदेश सरकार के कानूनी अधिकारियों ने कहा कि अगर टेस्टिंग ज्यादा की गई तो 70 फीसदी लोग कोरोना से संक्रमित मिलेंगे

कर्नाटक में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 576 हुई

कर्नाटक में वैश्विक महामारी कोराना वायरस ‘कोविड-19’ के आज 11 नये मामले सामने आने के बाद प्रदेश में इस वायरस से संक्रमितों की संख्या बढ़कर 576 हो गई है।

वायरस की उत्पत्ति छिपा रहा है चीन

अब चीन इस कोशिश में लग गया है कि किसी तरह से दुनिया को यह पता न चले की कोराना वायरस की उत्पत्ति कैसे हुई। दुनिया के तमाम देशों में यह धारणा बैठ गई है कि चीन के वुहान में इसकी उत्पत्ति हुई और किसी न किसी तरह से चीन की कम्युनिस्ट सरकार इसके लिए जिम्मेदार है।

राहुल ने लॉकडाउन पर अमल पर सवाल उठाया

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी ने प्रधानमंत्री की ओर से घोषित लॉकडाउन का समर्थन किया है पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने इसके अमल को लेकर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा है का देश का गरीब तबका इसके बरबाद हो जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि इस तरह का कोई फैसला करते हुए बहुत गहराई से सोचने की जरूरत है। गौरतलब है कि कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के चलते देश का गरीब और मजदूर तबका सबसे ज्यादा प्रभावित हो रहा है। इसे लेकर राहुल गांधी ने ट्विट किया- लॉकडाउन हमारे देश के गरीब और कमजोर तबके को बरबाद करके रख देगा। इससे हमारे प्यारे देश भारत को एक बड़ा झटका लगेगा। भारत को सिर्फ स्याह और सफेद में देखना ठीक नहीं है। कोई भी फैसला करते वक्त हमें गहराई से सोचने की जरूरत है। राहुल गांधी ने अपने ट्विट में आगे लिखा- इस संकट से निपटने के लिए ऐसे नजरिए की जरूरत है जो लोगों के प्रति दया भी रखता हो। अभी भी बहुत देर नहीं हुई है। राहुल ने इस ट्विट के साथ एक वीडियो शेयर किया, जिसमें एक बच्चा अपना दुखड़ा सुनाता दिख रहा है। वीडियो में बच्चा बता रहा है कि… Continue reading राहुल ने लॉकडाउन पर अमल पर सवाल उठाया

पहले भी कई भविष्यवाणियां हुईं

कोराना वायरस को लेकर पहले कितनी भविष्यवाणियां हुई हैं? दुनिया में जब भी कोई संकट आता है तो सबसे पहले मीडिया समूहों में नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियों की किताब निकल जाती है और अंदाजा लगाया जाने लगता है कि उन्होंने इस स्थिति के बारे में क्या कहा था।

देश 21 दिन में जीत जाएगा: मोदी

कोराना वायरस से लड़ाई की तुलना ‘महाभारत के युद्ध’ से करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि 130 करोड़ महारथियों

कोरोना: 10 मौतें, 528 संक्रमित

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि इन आंकड़ों में कम से कम 41 विदेशी नागरिक शामिल हैं और अब तक नौ मौत हो चुकी है।

सरकार के निर्देशों का पालन करें: राहुल

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश के लोगों से सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करने को कहा है। राहुल ने कोरोना वायरस के संकट से निपटने में जुटे स्वास्थ्यकर्मियों और दूसरे लोगों का आभार जताते हुए मंगलवार को कहा कि सभी लोगों को सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए सामाजिक मेलजोल से दूर रहना चाहिए। उन्होंने एक संदेश में लोगों से यह अपील भी की कि वे संकट के इस समय में समाज के कमजोर लोगों, दिव्यांगों और बुजुर्गों की हर संभव मदद करें। राहुल गांधी ने कहा- सिंगापुर, दक्षिण कोरिया और ताइवान जैसे कुछ देशों ने लोगों को सामाजिक मेलजोल से दूर रख कर और बड़े पैमाने पर जांच करके कोरोना पर नियंत्रण करने में सफलता हासिल की है। उन्होंने कहा- भारत में अगले तीन-चार हफ्ते अहम हैं और इस महामारी से निपटने के लिए जीवनशैली में तत्काल बदलाव की जरूरत है। राहुल गांधी ने आगे कहा- सामाजिक रूप से अलग रहने का मतलब छुट्टियां मनाना नहीं है। गैरजरूरी यात्राओं और सामाजिक मेलजोल से कोरोना का खतरा बढ़ेगा। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि लोगों को अपने तहत काम करने वालों को वैतनिक अवकाश देना चाहिए ताकि सभी की सुरक्षा हो सके।

और लोड करें