अमेरिका से जरूर करें सैन्य संधि!

मैं आज कॉलम अपने डॉ. वैदिक के इस मत के प्रतिवाद में लिख रहा हूं कि हमें अमेरिका का मोहरा, पिट्ठू नहीं बनना चाहिए। मेरा उलटा मानना है। हमें वह सब करना चाहिए, जिससे अमेरिका, पश्चिमी देशों, जापान, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया, ताईवान, आसियान सभी की ओर से भारत को चीन से सटी कोई चार हजार किलोमीटर लंबी सीमा पर अपनी दबंगी बनाने की ताकत मिले।

भारत न बने किसी का मोहरा

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपिओ और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर 26-27 अक्तूबर को दिल्ली में हमारे विदेश और रक्षा मंत्री से मिलकर एक समझौता करेंगे

चीन को चार देशों की दो टूक

लद्दाख में भारत और चीन की वास्तविक नियंत्रण रेखा पर एक किस्म की शांति बनी है। दोनों देशों के बीच तनाव कम करने के उपायों पर लगातार चर्चा हो रही है। कूटनीतिक और सैन्य दोनों स्तरों पर बातचीत चल रही है।

चीन-विरोधी चौगुटा ?

अमेरिका, जापान, आस्ट्रेलिया और भारत- इन चारों देशों के चौगुटे की बैठक, जो तोक्यो में हुई, वह अजीब-सी रही। इन चारों देशों के विदेश मंत्री एक-दूसरे से साक्षात मिले और चारों ने प्रशांत-क्षेत्र की शांति और सुरक्षा के बारे में विचारों का आदान-प्रदान किया

चीन को रोकने पर चार देशों ने की चर्चा

हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की बढ़ती ताकत को रोकने के लिए चार देशों के विदेश मंत्रियों ने मंगलवार को चर्चा की। क्वाड देशों- भारत, जापान, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका के विदेश मंत्रियों की एक अहम बैठक मंगलवार को जापान की राजधानी टोक्यो में हुई।