क्षेत्रीय दलों की ताकत बढ़ेगी

पिछले सात साल में भारतीय जनता पार्टी के उभार की वजह से राज्यसभा में क्षेत्रीय दलों की ताकत काफी कम हो गई है। लेकिन अगले साल दोवार्षिक चुनाव में इन दलों की ताकत में इजाफा होगा। राज्यों के चुनाव में क्षेत्रीय दलों के मुकाबले भाजपा वैसा प्रदर्शन नहीं कर पाई है, जैसा नरेंद्र मोदी के… Continue reading क्षेत्रीय दलों की ताकत बढ़ेगी

जगन की मुश्किलें बढ़ सकती हैं!

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। एक तरह से उनकी मुश्किलें बढ़ने का सिलसिला शुरू हो गया है। कुछ समय पहले उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के तब के जज जस्टिस एनवी रमन्ना के खिलाफ एक चिट्ठी लिखी थी। उनके सलाहकार ने प्रेस कांफ्रेंस करके यह चिट्ठी जारी की थी। इसमें… Continue reading जगन की मुश्किलें बढ़ सकती हैं!

संघीय मोर्चा बनाएंगी पार्टियां

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की जीत के साथ ही संघीय मोर्चा बनाने की अटकलें फिर से तेज हो गई हैं। पिछले लोकसभा चुनाव से पहले इसका गंभीर प्रयास हुआ था। तब तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने देश भर के प्रादेशिक क्षत्रपों को एकजुट करने का प्रयास किया था। उन्होंने अपने राज्य में… Continue reading संघीय मोर्चा बनाएंगी पार्टियां

भाजपा से विपक्ष एकजुट हो लड़े: ममता

तमाम विपक्षी नेताओं को पत्र लिख कहां कि समय आ गया जो लोकतंत्र बचाने के लिए हमें इकट्‌ठा होना चाहिए।

अवमानना मामलों में वेणुगोपाल की सलाह

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी के चीफ जस्टिस एसए बोबडे को चिट्ठी लिखे एक महीने हो गए।

जगन मोहन की चिट्ठी का क्या हुआ?

यह हैरान करने वाली बात है कि एक राज्य के मुख्यमंत्री ने देश के चीफ जस्टिस को चिट्ठी लिखी और सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सबसे वरिष्ठ जज की शिकायत की और उसके 15 दिन बीत जाने के बाद भी कोई कार्रवाई होती नहीं दिख  रही है।

जगन मोहन रेड्डी ने की मोदी से मुलाकात

आन्ध्र प्रदेश की वाईएसआर कांग्रेस पार्टी की केन्द्र में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार से बढती नजदीकी को लेकर राजनीतिक गलियारों में चल रही अटकलबाजियों के

नाथवानी आंध्र प्रदेश से राज्यसभा में जाएंगे!

तो अब परिमल नाथवानी आंध्र प्रदेश से राज्यसभा में जाएंगे। रिलायंस समूह के प्रेसीडेंट नाथवानी पिछले दो बार से झारखंड से राज्यसभा में जाते रहे हैं। वे झारखंड में भाजपा और आजसू के समर्थन से निर्दलीय चुनाव लड़ कर जीतते रहे हैं। इस बार झारखंड से उनके सांसद बनने की गुंजाइश नहीं हुई तो कहा… Continue reading नाथवानी आंध्र प्रदेश से राज्यसभा में जाएंगे!

एनडीए का ढांचा बनाएगी भाजपा!

भारतीय जनता पार्टी क्या अपनी सहयोगी पार्टियों की नाराजगी दूर करके फिर से एनडीए का ढांचा बनाने जा रही है? ध्यान रहे भाजपा के नेतृत्व वाला एनडीए अभी अस्तित्व में है पर इसका अस्तित्व चुनाव के समय ही दिखता है।

जगन मोहन विधान परिषद खत्म कर रहे हैं

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी अपेक्षाकृत युवा नेता हैं और उनके सत्ता में आने के बाद नई राजनीति की उम्मीद थी। पर ऐसा लग रहा है कि वे समय का पहिया उलटा घूमाने में लगे हैं। वे पिछली सरकारों के सारे कामकाज पर पानी फेरने में लगे हैं।

जगन के रवैए से निवेशकों में चिंता

कारोबार सुगमता सूचकांक में भारत की स्थिति में लगातार हुए सुधार के बावजूद निवेश में सुधार नहीं हो रहा है। विदेशी निवेशक भारत में पैसे लगाने उस अनुपात में नहीं आ रहे हैं, जिसकी उम्मीद की जा रही थी।

एक राज्य, तीन राजधानियां!

आंध्र प्रदेश में तीन राजधानियां बनाने के मुद्दे पर विवाद गहराता जा रहा है। वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी राज्य में तीन राजधानी बनाकर “विकास को विकेन्द्रीकृत” करना चाहते हैं। आंध्र प्रदेश में विधानसभा में तीन दिनों का विशेष सत्र बुलाया गया। इसमें तीन राजधानियां बनाने की… Continue reading एक राज्य, तीन राजधानियां!

क्षत्रपों की राजनीति मुगालतों की

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी हों या आंध्र प्रदेश में जगन मोहन रेड्डी हों या तेलंगाना में के चंद्रशेखर राव हों सबको मौजूदा राजनीति की हकीकत को समझना होगा। सब अपने अपने खोल में दुबके हैं। तीनों नेता मुख्यमंत्री हैं और इस सोच में हैं कि राजनीति उनके नियंत्रण में है।

तीन राजधानी का विचार अच्छा है

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने सत्ता के विकेंद्रीकरण का एक नायाब प्रस्ताव पेश किया है। वे चाहते हैं कि उनके राज्य की राजधानी तीन हिस्सों में बंटे। कार्यपालिका के लिए अलग राजधानी बने, विधायिका का राजधानी अलग हो और न्यायपालिका के लिए अलग राजधानी हो।

उद्धव और जगन ठीक नहीं कर रहे हैं!

भारतीय राजनीति में बदले की राजनीति एक नए मुकाम पर पहुंच गई है। राजनीति से आगे बढ़ कर यह प्रशासन का हिस्सा बन गई है। राज्यों की नई सरकारें पिछली सरकारों की योजनाओं को रोक रही हैं या उन्हें बदल रही हैं।

नीतीश के रास्ते पर जगह मोहन!

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी में एक चीज कॉमन है। दोनों के चुनाव प्रबंधक और राजनीतिक सलाहकार एक ही व्यक्ति हैं। प्रशांत किशोर तो नीतीश कुमार की पार्टी के उपाध्यक्ष भी हैं।