kishori-yojna
जामिया लाइब्रेरी जल्द बहाल होगी

नई दिल्ली। जामिया मिलिया इस्लामिया लाइब्रेरी के बहाल किए जाने की तैयारी हो रही है। बीते महीने पुलिस कार्रवाई में लाइब्रेरी में तोड़-फोड़ की गई थी। यूनिवर्सिटी ने इस कार्रवाई में 2.6 करोड़ रुपए नुकसान का अनुमान जताया है। यूनिवर्सिटी सूत्रों ने कहा कि लाइब्रेरी की मरम्मत का कार्य जारी है और इसका ग्राउंडवर्क हफ्ते भर के भीतर शुरू हो जाएगा। यूनिवर्सिटी के जन संपर्क अधिकारी अहमद अजीम ने कहा, हमारी लाइब्रेरी को ज्यादा फायदेमंद बनाने की योजना है। हम लाइब्रेरी को बहाल करने के लिए दृढ़ हैं। उन्होंने कहा कि प्रारंभिक आकलन में यूनिवर्सिटी ने पाया है कि पुलिस की कार्रवाई के दौरान लगभग 2.6 करोड़ रुपए की संपत्ति का नुकसान हुआ। 15 दिसंबर को नागरिकता अधिनियम के खिलाफ प्रदर्शन कर रही नाराज भीड़ से अपनी जान बचाने के लिए राष्ट्रीय राजधानी के मध्य के निवासियों व राहगीरों को भागना पड़ा। प्रदर्शनकारी जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्र माने जा रहे थे। कम से कम पांच बसों को आग लगा दी गई या क्षतिग्रस्त कर दिया गया, इसके अलावा कई कारों व बाइकों को भीड़ ने निशाना बनाया।

जामिया में छात्र व प्रोफेसर के विचारों का टकराव

नई दिल्ली। जामिया मिलिया इस्लामिया में नागरिक संशोधन अधिनियम (सीएए) का विरोध कर रहे एक प्रोफेसर व छात्र के बीच विचारों का तीखा टकराव सामने आया। सीएए की मुखालफत के लिए जामिया पहुंचे आईआईटी दिल्ली के प्रोफेसर विपिन त्रिपाठी ने कहा कि सीएए असंवैधानिक और देश के लोगों के खिलाफ है। अलीगढ़ मुस्लिम यूनीवर्सिटी के छात्र शरजील ने त्रिपाठी की दलील खारिज की और कहा कि सीएए संविधान से पहले मुसलमान के खिलाफ है। एएमयू छात्र ने कहा कि सीएए देश लोगों के नहीं, बल्कि मुसलमानों के खिलाफ है। शरजील ने कहा कि यहां के लोगों ने पाकिस्तान को पंचिंग बैग बना दिया है। पाकिस्तान की तुलना वेटिकन सिटी से करते हुए कहा कि मुसलमान से पाकिस्तान की निंदा की अपेक्षा की जाती है लेकिन किसी ईसाई से वेटिकन सिटी की निंदा करने को क्यों नहीं कहा जाता। फिजिक्स के नामी प्रोफेसर विपिन त्रिपाठी जामिया के मंच से सीएए का विरोध कर रहे थे। प्रोफेसर ने सभी धर्म व संप्रदाय के लोगों से एकजुट होकर सीएए का विरोध करने को कहा। उन्होंने कहा कि अंग्रेजों ने भारत में हिंदू व मुसलमान को आपस में लड़ाया और जिन्ना जैसे लोगों ने अंग्रेजों का साथ दिया। प्रोफेसर ने कहा कि अब हमें… Continue reading जामिया में छात्र व प्रोफेसर के विचारों का टकराव

जामिया के प्रदर्शनकारियों पर हुआ 2 बार हमला : पीयूडीआर टीम

पीयूडीआर टीम ने जामिया मिलिया इस्लामिया में हुई हिंसा की अपने रिपोर्ट में कहा कि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर दो बार हमला किया था

जामिया में आठवें दिन भी हुआ प्रदर्शन

नई दिल्ली। नागरिकता कानून में बदलाव के विरोध में दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में सोमवार को लगातार आठवें दिन भी प्रदर्शन हुए। बड़ी संख्या में लोगों ने विश्वविद्यालय से बाहर इस कानून के खिलाफ प्रदर्शन किया। विश्वविद्यालय के आसपास के इलाकों जैसे नूर नगर, बटला हाउस और ओखला के कई स्कूलों के छात्रों ने भी सोमवार को प्रदर्शन में हिस्सा लिया। जामिया के छात्रों ने संशोधित कानून को वापस लेने की मांग करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस टिप्पणी पर सवाल किया कि उनकी सरकार ने 2014 में सत्ता में आने के बाद राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर, एनआरसी पर कोई चर्चा नहीं की। छात्रों ने पूछा कि अगर सभी मुस्लिम, ईसाई और अन्य अल्पसंख्यक बाहरी और अवैध प्रवासी हैं तो केंद्र सरकार कितने डिटेंशन सेंटर बनाएगी। छात्रों ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री को पुलिस बल से अचानक से प्यार हो गया है। जामिया के एक छात्र ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा- जब एक महीने पहले अदालतों में पुलिस को पीटा गया था तब इस सरकार ने एक भी मामला दर्ज नहीं किया था।  उन्होंने कहा- तब वे पुलिस से प्यार नहीं करते थे। अब जब पुलिस ने जामिया, एएमयू और अन्य विश्वविद्यालयों में छात्रों को पीटा… Continue reading जामिया में आठवें दिन भी हुआ प्रदर्शन

जामिया, एएमयू छात्रों के समर्थन में आए अमेरिकी विश्वविद्यालय के छात्र

अमेरिका के विभिन्न विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाले लगभग 400 भारतीय छात्रों ने जामिया मिलिया इस्लामिया और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों के खिलाफ की गई पुलिस कार्रवाई की निंदा की है

और लोड करें