बाइडन-पूतिन: संवाद का शुभारंभ

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पूतिन के बीच जिनीवा में हुई मुलाकात का सिर्फ इन दो महाशक्तियों के लिए ही महत्व नहीं है, विश्व राजनीति की दृष्टि से भी यह महत्वपूर्ण घटना है। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पूतिन के बीच पहले से चल रही सांठ—गांठ के किस्से… Continue reading बाइडन-पूतिन: संवाद का शुभारंभ

अब भारी पड़ता मध्यमार्ग

पश्चिमी लोकतांत्रिक देशों में हाल में दिखे रुझान के आधार पर राजनीति शास्त्रियों ने कहा है कि सेंटर कान्ट होल्ड। यानी अब मध्यमार्ग नहीं टिकेगा। अब जमाना या तो धुर दक्षिणपंथ या फिर स्पष्ट वामपंथ का है। अमेरिका में जो बाइडेन ने इस संदेश को एक हद तक समझा। उन्होंने वहां डेमोक्रेटिक पार्टी में वामपंथ… Continue reading अब भारी पड़ता मध्यमार्ग

बाइडेन का ‘अमेरिका फर्स्ट’!

बतौर राष्ट्रपति जो बाइडेन के पहले 100 दिन में जिस एक बात के साफ संकेत मिले वह यह है कि इस दौर की विदेश नीति में भी अमेरिका पूर्व राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के कार्यकाल में अपनाई गई ‘अमेरिका फर्स्ट’ की नीति पर चल रहा है। गौरतलब है। चीन और ईरान के मामले में अमेरिका का… Continue reading बाइडेन का ‘अमेरिका फर्स्ट’!

भारतीयों की अमेरिका यात्रा पर पाबंदी

वाशिंगटन। भारत की उड़ानों पर रोक लगाने और अपने नागरिकों को जल्दी से जल्दी भारत छोड़ कर लौटने का परामर्श जारी करने के बाद अमेरिका ने अब भारतीय नागरिकों की अमेरिका यात्रा पर रोक लगा दी है। हालांकि कुछ श्रेणी के लोगों को यात्रा की छूट दी गई है और लेकिन आम भारतीय की यात्रा… Continue reading भारतीयों की अमेरिका यात्रा पर पाबंदी

मानवता या मुनाफा?

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के सामने ये अहम सवाल मौजूद है कि वे अपने देश की कंपनियों के मुनाफे की चिंता करें या इंसानियत के व्यापक हितों को तरजीह दें। इस बारे में उन्हें मई के पहले हफ्ते तक फैसला करना होगा। डब्लूटीओ की 5 और 6 मई को बैठक होने वाली है। उसमें… Continue reading मानवता या मुनाफा?

टैक्स बढ़ाने का मिशन

अमेरिका के जो बाइडेन प्रशासन ने देश में कॉरपोरेट टैक्स दर को 21 से बढ़ा कर 28 प्रतिशत करने का प्रस्ताव सामने रखा है। इसकी रिपब्लिकन पार्टी और कॉरपोरेट सेक्टर ने कड़ी आलोचना की है। उनका तर्क है कि टैक्स रेट बढ़ने पर अमेरिकी कंपनियां कारोबार के लिए उन देशों में चली जाएंगी, जहां टैक्स… Continue reading टैक्स बढ़ाने का मिशन

सही नब्ज पर हाथ

जो बाइडेन ने चीन का मुकाबला करने के लिए अपनी जो त्रि-सूत्री नीति घोषित की है, उसका पहला सूत्र बताता है कि समस्या चीन नहीं, बल्कि अमेरिका की अपनी कमजोरी है। असल बात यह है कि अमेरिका ने अपने श्रमिकों और विज्ञान में पर्याप्त निवेश करना छोड़ दिया। तो चीन आगे निकल गया।

अमेरिकाः बंदूकबाजी कैसे रुके ?

अमेरिका यों तो अपने आप को दुनिया का सबसे अधिक सभ्य और प्रगतिशील राष्ट्र कहता है लेकिन यदि आप उसके पिछले 300-400 साल के इतिहास पर नजर डालें तो आपको समझ में आ जाएगा कि वहां इतनी अधिक हिंसा क्यों होती है। पिछले हफ्ते अटलांटा और कोलेरोडो में हुई सामूहिक हत्याओं के बाद राष्ट्रपति जो… Continue reading अमेरिकाः बंदूकबाजी कैसे रुके ?

क्या अब पिघलेगी बर्फ?

फिलहाल इसे सकारात्मक माना जा रहा है कि डॉनल्ड ट्रंप के दौर में बढ़े तनाव के बाद अब दोनों पक्ष आमने-सामने बैठ कर बातचीत करने के लिए तैयार हुए हैं। लेकिन इससे ज्यादा कुछ हासिल होगा, इसकी संभावना नहीं है। अस्पष्टता इतनी है कि बातचीत का खाका भी तय नहीं हो सका है।

समझौता थोपने की अमेरिकी जिद!

अमेरिका को क्या अपने इस कदम के कूटनीतिक और सामरिक असर का कतई अंदाजा नहीं है? क्या उसे नहीं लग रहा है कि अफगानिस्तान को तालिबान के हवाले करने का इस क्षेत्र में क्या असर होगा?

भारत का रोल क्यों घटा?

अमेरिका ने अफगानिस्तान में शांति के लिए जारी बातचीत में भारत को जगह दी है। सामान्य तौर पर इसे कोई खास खबर नहीं मानी जाती।

मायूसी अमेरिका को क्यों?

बाइडेन प्रशासन ईरान पर सारी शर्तें थोपना चाहता है। तो इस पर ईरान की प्रतिक्रिया कैसे अनुचित मानी जाएगी। बाइडेन प्रशासन अगर ट्रंप के दौर के तनावों को घटना चाहता है, तो उसे भी सकारात्मक रुख अपनाना चाहिए।

भारत के लिए अच्छी खबर

अमेरिका और यूरोप से भारत की दृष्टि से दो अच्छी खबरें आई हैं। एक तो अमेरिका की बेहतर वीज़ा नीति और दूसरी जी-7 राष्ट्रों की बैठक में से उभरी विश्वनीति।

चीन के प्रति अमेरिका का बदला रुख

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग से दो घंटे तक बातचीत की। इसे लेकर कई किस्म की खबरें आईं।

बाइडेन को मिला औपचारिक बहुमत

अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन को इलेक्टोरल कॉलेज में औपचारिक बहुमत हासिल हो गया है। कैलीफोर्निया राज्य ने शुक्रवार को राष्ट्रपति चुनाव के अपने नतीजों पर मुहर लगा दी

ट्रंप ने लगभग हार मानी, बाइडेन को सत्ता हस्तांतरित करने के लिए तैयार

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जो बाइडन से लगभग हार मान ली है और डेमोक्रेटिक प्रशासन को सत्ता हस्तांतरित करने पर सहमति भी जता दी है,

विदेशी संकेतों से चढ़ा शेयर बाजार, रिकॉर्ड ऊंचाई पर सेंसेक्स, निफ्टी

अमेरिका में जो बाइडन की जीत के परिणाम आने के बाद एशियाई शेयर बाजारों में जबरदस्त तेजी आई है। मजबूत वैश्विक संकेतों से भारतीय शेयर की भी शुरूआत आज जबरदस्त तेजी के साथ हुई

बाइडन ने कहा – हम जीत की राह पर

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में नतीजे आने शुरू होने के साथ डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन ने जीत का दावा किया है। उन्होंने घोषणा की है कि हम यह चुनाव जीतने की राह पर हैं।