भारत भी तो कुछ कहे चीन को!

भारत अपनी ही सीमा में पीछे हटे और चीन भारत की सीमा से निकल कर अपनी पुरानी पोजिशन पर बैठे। इस तरह पूरा बफर जोन भारत की जमीन में बन जाएगा। यह चीन की ‘स्लाइसिंग मिलिट्री स्ट्रेटेजी’ है। जिस तरह किसी भी चीज के पतले पतले स्लाइस काटे जाते हैं वैसे ही चीन पड़ोसी देशों की… Continue reading भारत भी तो कुछ कहे चीन को!

कूटनीति में अदानी-अंबानी के मजे

आजाद भारत के इतिहास में यह पहली बार हो रहा है कि भारत की कूटनीति चंद उद्योगपतियों के कारोबारी हितों से है। चीन ने पूर्वी लद्दाख में भारत की जमीन कब्जाली, डोकलाम में भारत को उलझाए रखा और अरुणाचल प्रदेश पर दावा बढ़ा रहा है बावजूद इसके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक भी बार चीन… Continue reading कूटनीति में अदानी-अंबानी के मजे

चीन की तैयारियां और भारत!

भाजपा के सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने अच्छा याद दिलाया। उन्होंने ट्विट करके कहा कि वैक्सीन के हल्ले में सरकार यह न भूले कि देश की अर्थव्यवस्था ढह रही है और चीन ने लद्दाख में भारत की चार हजार वर्ग किलोमीटर जमीन कब्जा कर ली है

चीन के खिलाफ ट्रेड वार जरूरी

भूटान से सटी भारत की सीमा के पास डोकलाम में चीन के 72 दिन तक गतिरोध पैदा करने और आधे अधूरे तरीके की वापसी के तीन साल बाद, उत्तरी सीमा पर लद्दाख में घुसपैठ करने के तीन महीने बाद भारत सरकार ने चीन को पहली बार कारोबारी झटका दिया।

कूटनीति नहीं है सैन्य ताकत का विकल्प

यह बात चीन के संबंध में भी सही है और नेपाल जैसे छोटे से छोटे देश से लेकर पाकिस्तान जैसे जन्म जन्मांतर के दुश्मन देश के बारे में भी सही है कि कूटनीति कभी भी सैन्य ताकत का विकल्प नहीं हो सकती है।