farmer protest : किसानों के विरोध का एक साल, राकेश टिकैत ने किसानों से लंबी दौड़ की तैयारी करने का आग्रह किया

समीक्षा बैठक के बाद जब कार्यकर्ताओं ने सीमा पर मार्च निकाला और दिल्ली तक मार्च निकालने का ऐलान किया तो यूपी और दिल्ली पुलिस में हड़कंप मच गया।

SC की टिप्पणी पर आया राकेश टिकैट का जवाब, कहा- हमने नहीं दिल्ली पुलिस ने ब्लॉक की है सड़क…

राकेश टिकैत ने कहा कि दिल्ली की सीमाओं पर हाईवे हमने नहीं बल्कि पुलिस ने ब्लॉक कर रखा है. टिकट का कहना है कि यदि पुलिस आगे की बैरिकेडिंग हटा दें तो फिर गाड़ीयां आराम से बाहर…

Sunanda Pushkar Case में कांग्रेस नेता शशि थरूर सभी आरोपों में बरी, कोर्ट के फैसले पर बोलें- बहुत आभार योर ऑनर

17 जनवरी 2013 की रात को दिल्ली के एक होटल में सुनंदा पुष्कर मृत हालत में मिली थीं। जिसके बाद सुनंदा पुष्कर के पति और कांग्रेस के दिग्गज नेता शशि थरूर पर सुनंदा को हत्या के लिए उकसाने का आरोप लगा था…

छवि बिगड़ेगी या सुधरेगी?

भारत सरकार चाहती है कि ट्विटर और विदेशों से संचालित तमाम सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म उसी तरह चलें, जैसाकि उसने देसी मीडिया को चलने के लिए प्रेरित या मजबूर कर रखा है। यानी वे एकतरफा संदेश फैलाएं। वे वही प्रसारित करें, जो सरकार चाहती है और जो भी मन में सवाल है उन्हें वे विपक्ष से पूछें। तो दिल्ली पुलिस ने ट्विटर के गुरुग्राम और दिल्ली स्थित दफ्तरों पर दस्तक दी। वजह सबको मालूम है। भारत सरकार चाहती है कि ट्विटर और विदेशों से संचालित तमाम सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म उसी तरह चलें, जैसाकि उसने देसी मीडिया को चलने के लिए प्रेरित या मजबूर कर रखा है। यानी वे एकतरफा संदेश फैलाएं। वे वही प्रसारित करें, जो सरकार चाहती है और जो भी मन में सवाल है उन्हें वे विपक्ष से पूछें। इस तरह प्रधानमंत्री और सत्ताधारी दल की छवि निर्माण में वे सहायक बनें। ट्विटर ने भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता संबित पात्रा के एक ट्वीट को ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ यानी ऐसी बात घोषित किया था जिसमें तथ्यों को तोड़ा-मरोड़ा गया। पात्रा और कई दूसरे भाजपा नेताओं ने कुछ दस्तावेजों को कांग्रेस पार्टी की ‘टूल किट’ बताते हुए सोशल मीडिया पर साझा किया था। उन्होंने दावा किया था कि कांग्रेस ने कोरोना… Continue reading छवि बिगड़ेगी या सुधरेगी?

ट्विटर को अभिव्यक्ति की आजादी की चिंता!

नई दिल्ली। माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने भारत में अभिव्यक्ति की आजादी के खतरे में होने की चिंता जताई है। ट्विटर ने उसके ऑफिस में पुलिस भेजे जाने को डराने-धमकाने की रणनीति कहा है। उसने भाजपा के एक प्रवक्ता के ट्विट में ‘मैनिपुलेटेड मीडिया’ का टैग लगाने के जवाब में ‘पुलिस द्वारा डराने-धमकाने की रणनीति के इस्तेमाल’ पर चिंता जताते हुए कहा है कि वह भारत में कर्मचारियों की सुरक्षा और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए संभावित खतरे के बारे में चिंतित है। अमेरिकी कंपनी ट्विटर ने इसके साथ ही यह भी कहा कि वह देश में अपनी सेवाएं जारी रखने के लिए भारत में लागू कानूनों का पालन करने की कोशिश करेगी। उसने कहा है कि वह आईटी नियमों के उन तत्वों में बदलाव की वकालत करने की योजना बना रहा है जो ‘मुक्त और खुली सार्वजनिक बातचीत को रोकते हैं’। ट्विटर ने कहा है- फिलहाल, हम भारत में अपने कर्मचारियों के संबंध में हालिया घटनाओं और अपने उपयोगकर्ताओं की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए संभावित खतरे से चिंतित हैं। ट्विटर के प्रवक्ता ने कहा है- भारत और दुनिया भर में नागरिक समाज के कई लोगों के साथ ही हम पुलिस द्वारा धमकाने की रणनीति के इस्तेमाल से चिंतित हैं।… Continue reading ट्विटर को अभिव्यक्ति की आजादी की चिंता!

केंद्र सरकार ने ट्विटर को दी चेतावनी

नई दिल्ली। भारत सरकार ने एक बार फि माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर को चेतावनी दी है। सरकार ने उसे याद दिलाया है कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और अभिव्यक्ति की आजादी के बारे में उसे पाठ पढ़ाने की जरूरत नहीं है। सोशल मीडिया को लेकर तैयार किए गए नए दिशा-निर्देशों पर ट्विटर के रवैए से खफा सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने कहा है कि वह दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को न सिखाए कि हमें क्या करना है। मंत्रालय ने कहा कि ट्विटर मुद्दा भटकाने के बजाय नियमों का पालन करे। सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने कहा है कि ट्विटर का जवाब दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश पर जबरन अपनी शर्तें थोपने जैसा है। गौरतलब है कि ट्विटर ने अपने बयान के जरिए उन दिशा-निर्देशों का पालन करने से मना किया है, जो भारत सरकार ने आपराधिक गतिविधियां रोकने के लिए तैयार की हैं। मंत्रालय ने कहा है कि भारत में लोकतंत्र और बोलने की आजादी सदियों से रही है। यहां इसकी रक्षा करने की जिम्मेदारी सिर्फ ट्विटर जैसी किसी एक संस्था को नहीं है। सरकार ने आरोप लगाते हुए कहा कि बोलने की आजादी को लेकर ट्विटर पर पारदर्शी नीतियां नहीं हैं। कई लोगों के अकाउंट… Continue reading केंद्र सरकार ने ट्विटर को दी चेतावनी

सोशल मीडिया से डरी है सरकार

भारत सरकार सोशल मीडिया से डरी हुई है। तभी सोशल मीडिया कंपनियों को डराने का अभियान चल रहा है। यह अभियान कोई आज शुरू नहीं हुआ है, बल्कि धीरे-धीरे कई सालों से चल रहा है। जैसे जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स की पहुंच दूरदराज के इलाकों तक होती गई और ज्यादा से ज्यादा लोग इससे जुड़ते गए वैसे वैसे इस पर नियंत्रण करने का प्रयास तेज होता गया। ट्विटर इंडिया के दफ्तर पर दिल्ली पुलिस की स्पेशल ब्रांच के छापे इसी प्रयास की एक कड़ी हैं। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को कंट्रोल करने का प्रयास 2016 के बाद ज्यादा तेज हुआ है। यह भी पढ़ें: राम रहीम की पैरोल मामूली नहीं भारत में ट्विटर को आए नौ साल हुए हैं। कंपनी ने 2012 में अपना काम शुरू किया था और तब देश में मनमोहन सिंह की सरकार थी। अगले दो साल में यानी 2012 से 2104 तक मनमोहन सिंह की सरकार की ओर से ट्विटर को एक या दो नोटिस भेजे गए थे। उसके बाद 2014 में केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बन गई। पहले दो साल मोदी सरकार की ओर से भी ट्विटर पर होने वाली गतिविधियों पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया गया। लेकिन 2016 के आखिर तक पहुंचते-पहुंचते तस्वीर… Continue reading सोशल मीडिया से डरी है सरकार

ट्विटरः सरकार का अपने हाथों इमेज भठ्ठा!

केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी को सबसे ज्यादा किसी बात की चिंता है तो वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इमेज है। उसे बचाने के लिए सरकार और पार्टी कुछ भी करने को तैयार है। लेकिन इसी चक्कर में इमेज ज्यादा खराब हो रही है। दूसरी बात यह है कि भाजपा का लक्ष्य सिर्फ प्रधानमंत्री की इमेज बेहतर करना नहीं है, बल्कि उसके साथ साथ राहुल गांधी की इमेज बिगाड़ना भी उसका एक लक्ष्य है। इसी लक्ष्य को साधने के लिए एक टूलकिट का हल्ला मचा। भाजपा के राष्ट्रीय प्रक्ता संबित पात्रा ने एक के बाद एक कई ट्विट करके बताया कि यह टूलकिट कांग्रेस पार्टी ने बनाया है, जिसमें भारत और प्रधानंमत्री की इमेज खराब करने वाली सामग्री है। भाजपा के नेताओं और केंद्र सरकार के कई मंत्रियों ने इसे हाथों हाथ लिया, रिट्विट किया और कांग्रेस पर हमला किया। यह भी पढ़ें: भाजपा की बैठक, कांग्रेस का फिजलू निशाना बाद में फैक्ट चेक करने वाले एक पोर्टल ने इसे फर्जी बताया और फिर ट्विटर ने भी इसे मैनिपुलेटेड मीडिया बता कर टैग कर दिया। सरकार को यह बात इतनी नागवार गुजरी कि उसने ट्विटर के ऑफिस में दिल्ली पुलिस की टीम भेज दी। दिल्ली पुलिस की स्पेशल ब्रांच… Continue reading ट्विटरः सरकार का अपने हाथों इमेज भठ्ठा!

Toolkit Case: कांग्रेस ने Twitter को लिखी चिट्ठी

नई दिल्ली। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर को केंद्र सरकार की ओर से चेतावनी देने और दिल्ली पुलिस के छापा मारने के बाद अब कांग्रेस पार्टी ने चिट्ठी लिखी है। कांग्रेस ने कहा है कि जिस तरह से ट्विटर ने टूलकिट मामले में भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा और कुछ अन्य लोगों की पोस्ट को मैनिपुलेटेड मीडिया टैग दिया है उसी तरह भाजपा के 11 और नेताओं की पोस्ट को भी टैग करना चाहिए। कांग्रेस ने 11 नेताओं के ट्विट भी ट्विटर के लीगल डिपार्टमेंट को भेजे हैं और कहा है कि नेताओं पर एक्शन लिया जाए। कांग्रेस ने ये चिट्ठी ट्विटर की लीगल हेड विजया गड्डे और लीगल डिपार्टमेंट के वाइस प्रेसिडेंट जिम बेकर को लिखी है। बताया जा रहा है कि ट्विटर इंडिया को दिल्ली पुलिस के नोटिस के बाद अमेरिका स्थित ट्विटर मुख्यालय ने मामला जिम बेकर को ही सौंपा है। कांग्रेस ने चिट्ठी में लिखा है- हमने पहले भी आपको फर्जी टूलकिट के बारे में जानकारी दी थी, जिसे कुछ भाजपा नेताओं ने गलत तरीके से सियासी फायदा उठाने के लिए बनाया है। ये नेता अपने ट्विटर हैंडल से कांग्रेस और उसके नेताओं के खिलाफ झूठी, मनगढ़ंत और खतरनाक जानकारियां फैला रहे हैं। कांग्रेस ने लिखा है-… Continue reading Toolkit Case: कांग्रेस ने Twitter को लिखी चिट्ठी

Toolkit केस: Twitter के दफ्तर पहुंची पुलिस

नई दिल्ली। भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा के ट्विट को मैनिपुलेटेड मीडिया यानी फर्जी ट्विट बताना ट्विटर इंडिया को भारी पड़ सकता है। ट्विटर के इस कदम से भारत सरकार पहले नाराज थी और सोमवार को दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा की टीम उसके दिल्ली और गुरुग्राम ऑफिस पहुंच गई। सोमवार की शाम को दिल्ली पुलिस की टीम ने दिल्ली के लाडो सराय में और गुरुग्राम के हॉरिजन प्लाजा के ऑफिस में जाकर जांच-पड़ताल की। असल में भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने एक कथित टूलकिट शेयर किया था, जिसे उन्होंने कांग्रेस का टूलकिट कहा था और आरोप लगाया था कि कांग्रेस इसके जरिए प्रधानमंत्री और देश की छवि खराब कर रही है। कांग्रेस ने इसे फर्जी बताते हुए मुकदमा दर्ज करने की चेतावनी दी। बाद में ट्विटर ने खुद ही पात्रा के ट्विट पर मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग लगा दिया। इसे लेकर भारत सरकार के सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने ट्विटर से नाराजगी जताई थी और कहा था कि इस मामले की जांच चल रही है ऐसे में ट्विटर का इस तरह निष्कर्ष निकालना ठीक नहीं है। बहरहाल, दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा के आधा दर्जन सदस्य लाडो सराय स्थित ऑफिस पहुंचे, लेकिन वहां उन्हें वहां कोई नहीं मिला।… Continue reading Toolkit केस: Twitter के दफ्तर पहुंची पुलिस

ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार गिरफ्तार

नई दिल्ली। लगातार दो बार ओलंपिक मुकाबले में पदक जीतने वाले भारत के पहचान सुशील कुमार को हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है। सुशील कुमार के साथ दिल्ली पुलिस ने इस हत्याकांड के एक अन्य आरोपी को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस ने गिरफ्तारी के बाद सुशील को रोहिणी अदालत में पेश किया, जहां अदालत ने सुशील को छह दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया। पुलिस ने दिल्ली के मॉडल टाउन इलाके में छत्रसाल स्टेडियम में हुए झगड़े में एक पहलवान की कथित हत्या के सिलसिले में रविवार को सुशील कुमार को गिरफ्तार किया। विशेष शाखा के पुलिस उपायुक्त पीएस कुशवाह ने रविवार को बताया कि सुशील कुमार और उनके सहयोगी अजय उर्फ सुनील को मुंडका से गिरफ्तार किया गया। इससे पहले पुलिस ने इस मामले में फरार चल रहे सुशील की गिरफ्तारी में मदद करने वाले को एक लाख रुपए और अजय से जुड़ी जानकारी देने वाले को 50 हजार रुपए का इनाम दिए जाने की घोषणा की थी। बताया जा रहा है कि सुशील कुमार और कुछ अन्य पहलवानों ने चार मई की रात को राष्ट्रीय राजधानी के छत्रसाल स्टेडियम परिसर में कथित रूप मारपीट की थी, जिसमें पहलवान सागर राणा की मौत हो… Continue reading ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार गिरफ्तार

पोस्टरबाजों की हास्यास्पद गिरफ्तारी

कोरोना महामारी के इस दौर में हमारी अदालतें, सरकार और पुलिस कई ऐसे काम कर रही हैं, जो उन्हें नहीं करने चाहिए और कई ऐसे काम बिल्कुल नहीं कर रही हैं, जो उन्हें एकदम करने चाहिए। जैसे वह ऑक्सीजन, इंजेक्शन और दवाइयों के कालाबाजारियों को फांसी पर लटकाने की बजाय उन्हें पुलिस थानों और जेल में बिठाकर मुफ्त का खाना खिला रही है और जो लोग मुफ्त में दवाइयाँ बांट रहे हैं, मरीज़ों को पलंग दिलवा रहे हैं, अपनी एंबूलेंस में अस्पताल पहुंचा रहे हैं, उन पर मुकदमे चला रही है। यह भी पढ़ें: काबुलः पाक आगे, भारत पीछे चले उनके खिलाफ कार्रवाई इसलिए हो रही है कि वे विरोधी दलों के हैं। यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास के खिलाफ इसीलिए जांच बिठा दी गई थी। जांच में मालूम पड़ा कि वे और उनका संगठन शुद्ध परोपकार और जन-सेवा में लगे हुए थे। अदालतों में बैठे न्यायाधीश आजकल ऐसे-ऐसे फैसले दे रहे हैं और इतनी आपत्तिजनक टिप्पणियां कर रहे हैं, जो निश्चित रुप से संविधान की मर्यादा के अनुकूल नहीं हैं लेकिन उनमें इतना दम नहीं है कि इस वक्त के कालाबाजारी हत्यारों को वे फांसी पर लटकवाएं ताकि ठगी करनेवाले इन हजारों हत्यारों की हड्डियों में कंपकंपी दौड़ जाए।… Continue reading पोस्टरबाजों की हास्यास्पद गिरफ्तारी

आप के बड़े नेता क्यों नहीं पकड़े जा रहे?

दिल्ली में छिड़े पोस्टर विवाद में दिल्ली पुलिस ने 25 लोगों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए सारे लोग छोटे-छोटे दिहाड़ी मजदूर हैं। प्रिंटिंग प्रेस के लोग या ऑटो चलाने वाले या पोस्टर चिपकाने वालों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। सबको पता है कि पोस्टर का आइडिया या कंटेंट बनाने में उनकी कोई भूमिका नहीं है। दिल्ली पुलिस ने कह भी दिया है कि आम आदमी पार्टी ने पोस्टर लगवाए हैं। सवाल है कि जब पुलिस को पता है कि आम आदमी पार्टी ने पोस्टर लगवाए हैं तो पार्टी के बड़े नेताओं को क्यों नहीं पकड़ा जा रहा है? क्यों नहीं दिल्ली पुलिस मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया या पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह से पूछताछ कर रही है? असल में पोस्टर लगाने के खिलाफ एफआईआर करके और कुछ लोगों को गिरफ्तार करके दिल्ली पुलिस इस मामले में फंस गई है। यह मामला सोशल मीडिया में इतना उछल गया कि विपक्षी पार्टियों का हर नेता पोस्टर शेयर करके खुद को गिरफ्तार करने की मांग कर रहा है। ऐसे में अगर पुलिस आप के किसी बड़े नेता पर हाथ डालती है तो यह विवाद और बढ़ेगा। असल में पोस्टर पर सिर्फ यह लिखा हुआ है… Continue reading आप के बड़े नेता क्यों नहीं पकड़े जा रहे?

Oxygen Concentrator Case : दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी सफलता, खान चाचा रेस्टोरेंट के मालिक Navneet Kalra को किया गिरफ्तार

नई दिल्ली | कोरोना महामारी को लेकर दिल्ली में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर (Oxygen Concentrator) की जमाखोरी और कालाबाजारी के केस में चर्चित खान चाचा रेस्टोरेंट के मालिक नवनीत कालरा (Navneet Kalra) को रविवार की देर रात दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने गिरफ्तार किया है। यह जानकारी दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के सूत्रों ने दी है। बताया जाता है कि साउथ दिल्ली पुलिस ने गुरुग्राम से नवनीत कालरा को गिरफ्तार (Navneet Kalra Arrested) कर दिल्ली क्राइम ब्रांच के सुपुर्द कर दिया। नवनीत कालरा (Navneet Kalra) 7 मई से फरार चल रहा था। इस मामले को लेकर दिल्ली में राजनीति भी काफी गरमाती रही। भाजपा ने नवनीत कालरा पर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी का करीबी होने का आरोप लगाया था। गिरफ्तारी की आशंका पर नवनीत कालरा (Navneet Kalra) अग्रिम जमानत की मांग के लिए हाई कोर्ट भी गया था। याचिका में उसने दावा किया कि उसके खिलाफ कोई मामला नहीं बनता है। हालांकि कोर्ट ने उसकी याचिका खारिज कर दी थी। इसे भी पढ़ें – Miss Universe 2020: मेक्सिको की Andrea Meza को मिला मिस यूनिवर्स 2020 का ताज, India को मिला चौथा स्थान दरअसल, दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को बीते छह मई को कुछ रेस्टोरेंट में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर (Oxygen concentrator) की कालाबाजारी की… Continue reading Oxygen Concentrator Case : दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी सफलता, खान चाचा रेस्टोरेंट के मालिक Navneet Kalra को किया गिरफ्तार

सरकार से सवाल पूछने पर 25 को जेल!

क्या किसी लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था में सरकार से सवाल पूछने पर किसी को जेल हो सकती है? सवाल चाहे कितना भी कठिन हो, इसके लिए किसी को सजा नहीं दी जा सकती है। और भारत के प्रधानमंत्री ने तो वैसे भी देश के लोगों को समझाया है कि कठिन सवाल पहले हल करना चाहिए। लेकिन उनसे कुछ लोगों ने साधारण से सवाल पूछे तो दिल्ली की पुलिस ने 25 लोगों को जेल में डाला हुआ है। पुलिस यह भी कह रही है कि इतने पर बस नहीं है, अभी उसकी तलाश और तफ्तीश जारी है और कुछ अन्य लोगों को भी हिरासत में लिया जा सकता है। दिल्ली पुलिस ने दिल्ली के कोने-कोने में इस मामले को लेकर एफआईआर दायर की है। दिल्ली की जिस भी दिवार पर सवाल वाले पोस्टर दिखे हैं, वह दिवार जिस थाना क्षेत्र में आती है वहां एफआईआर दर्ज हुई है। रविवार की सुबह तक 25 एफआईआर दर्ज हो चुकी थी। लोगों का कसूर सिर्फ इतना है कि उन्होंने सीधे प्रधानमंत्री का नाम लेकर सवाल पूछा था। अगर उन्होंने सिस्टम और सरकार, जिसे इन दिनों मीडिया में लापता बताया जा रहा है उससे सवाल पूछा होता तो शायद इतनी कठोर कार्रवाई नहीं होती। असल में… Continue reading सरकार से सवाल पूछने पर 25 को जेल!

और लोड करें