रमजान के पाक महीने मानवता का धर्म निभाया,  अल्लाह के साथ भगवान को मनाया ..मुस्लिम युवकों ने किया कोरोना संक्रमित महिला का अंतिम संस्कार

इन दिनों जहां हर रोज़ ऐसा घटनाएं सामने आती है जो साम्प्रदायिक सदभावना को गहरी ठेस पहुंचाती है। वहीं कुछ तो बात है इस देश की हवा में कि हिंदु मुस्लिम दोनों धर्म अभी भी एकता की एक डोर में बंधे है। चाहे समय-समय पर इस डोर को तोड़ने का कितना ही प्रयास क्यों ना किया गया हो। लेकिन फिर भी हिंदु मुस्लिम दोनें के बीच का प्रेम दोनें धर्मों के बीच की खाई को कभी बढ़ने नहीं देता है। इसी का एक उदाहरण मेदिनीनगर(बंगाल) से सामने आया है। जहां एक हिंदु महिला के अंतिम संस्कार में मुस्लिम युवकों ने सहायता की। इसे भी पढ़ें Guideline For Shops in Rajasthan : राजस्थान सरकार ने बढ़ाई सख्ती, जरूरी दुकान खोलने के लिए समय किया निर्धारित, जानें कौन सी दुकान कब तक खुलेंगी क्या था मामला पलामू मुख्यालय मेदिनीनगर में कोविड 19 से एक महिला की मौत के बाद अंतिम संस्कार में कोई नही पंहुचा।  तब कुछ अल्पसंख्यक युवकों ने अंतिम संस्कार में मदद की मृतक का सिर्फ एक बेटा ही अंतिम संस्कार में पंहुचा था। मदद करने वाले सभी अल्पसंख्यक पवित्र रमजान के महीने में रोजे में थे। अब क्योंकि कोरोना काल में दूसरे रिश्तेदारों ने आने से मना कर दिया है।… Continue reading रमजान के पाक महीने मानवता का धर्म निभाया, अल्लाह के साथ भगवान को मनाया ..मुस्लिम युवकों ने किया कोरोना संक्रमित महिला का अंतिम संस्कार

चैत्र नवरात्र 2021: मां दुर्गा की छठी शक्ति देवी कात्यायनी क्यों कहलायी महिषासुरमर्दिनी

नवरात्रि में छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है। इनकी उपासना और आराधना से भक्तों को बड़ी आसानी से अर्थ, धर्म, काम और मोक्ष चारों फलों की प्राप्ति होती है। उसके रोग, शोक, संताप और भय नष्ट हो जाते हैं। जन्मों के समस्त पाप भी नष्ट हो जाते हैं।  इनकी उपासना और आराधना से भक्तों को बड़ी आसानी से अर्थ, धर्म, काम और मोक्ष चारों फलों की प्राप्ति होती है। उसके रोग, शोक, संताप और भय नष्ट हो जाते हैं। जन्मों के समस्त पाप भी नष्ट हो जाते हैं। इसलिए कहा जाता है कि इस देवी की उपासना करने से परम पद की प्राप्ति होती है। इसे भी पढ़ें गुजरातः माता सती का ऐसा अनोखा मंदिर जहां श्रद्धालु तो आते है लेकिन मुर्ति नहीं देख पाते…. मां का स्वरूप मां कात्यायनी अद्भुत रूप वाली हैं। नवरात्र के छठे दिन साधक का मन आज्ञा चक्र में स्थित रहता है। योग साधना में आज्ञा चक्र का खास महत्व होता है। जातक का मन आज्ञा चक्र में स्थित होने के कारण देवी कात्यायनी के आसानी से दर्शन मिलते हैं। मां कात्यायनी का रूप भव्य तथा प्रभावशाली होता है। उनका रूप सोने की तरह चमकीला है। देवी कात्यायनी की चार भुजाएं हैं। दायीं… Continue reading चैत्र नवरात्र 2021: मां दुर्गा की छठी शक्ति देवी कात्यायनी क्यों कहलायी महिषासुरमर्दिनी

Digvijay Singh का भाजपा और आरएसएस पर हमला, कहा धर्मों के बीच में नफरत फैलाना बंद करे

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और Congress के वरिष्ठ नेता Digvijay Singh ने BJP और RSS पर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि BJP व संघ धर्मों के बीच में नफरत फैलाना बंद करे, क्योंकि प्रेम सद्भाव से ही India विश्व गुरू बन सकता है। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए है। उन्होंने कहा है कि, भाजपा संघ मुझ से क्यों चिढ़ते हैं, क्योंकि में सच्ची सनातनी हिंदू परंपराओं का पालन करता हूं। Religion को बेंचना बंद करो, Religion के माध्यम से नफरत फैलाना बंद करो Religion को बांटना बंद करो, Religion के आधार पर वोट मॉंगना बंद करो। देश व समाज को जोड़ो तोड़ो मत। इसे भी पढ़ें – दिल्ली हाईकोर्ट का आदेश- अब कार में अकेले होने पर भी लगाना होगा मास्क उन्होंने आगे कहा सनातन धर्म तो इतना व्यापक है कि वह पूरे विश्व को एक कुटुंब मानता है हमारे उद्धघोष में हम कहते हैं प्राणियों में सद्भावना हो विश्व का कल्याण हो। दिग्विजय सिंह ने BJP और RSS से अपील करते हुए लिखा है, मेरी BJP और व RSS से एक ही प्रार्थना है धर्मों के बीच में नफरत फैलाना बंद करो प्रेम सद्भाव से ही भारत विश्व गुरू… Continue reading Digvijay Singh का भाजपा और आरएसएस पर हमला, कहा धर्मों के बीच में नफरत फैलाना बंद करे

धर्म के लिए परिश्रम करने की जरूरत है : डॉ. भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत ने कहा है कि ‘केसरी’ का उद्देश्य धर्म के मार्ग की स्थापना करना है, विजय मिलना या न मिलना मायने नहीं रखता है।

बांग्लादेशः भाषा बड़ी कि मजहब ?

बांग्लादेश की जयंति के 49 वें और शेख मुजीबुर्रहमान के शताब्दि समारोह के उपलक्ष्य में भारत और बांग्लादेश के प्रधानमंत्रियों के बीच जो संवाद हुआ, वह दोनों देशों के बीच संबंधों की घनिष्टता का द्योतक तो है ही

अन्याय के खिलाफ संघर्ष ही धर्म : सिंधिया

मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल के दूसरे विस्तार से पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतरादित्य सिंधिया ने अन्याय के खिलाफ छेड़े गए संघर्ष को धर्म बताया है।

मोदी ने कहा, संविधान ही मार्गदर्शक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज समावेशीता का एक मजबूत संदेश देते हुए कहा कि उनकी सरकार किसी भी धर्म, लिंग, जाति, नस्ल या भाषा के आधार पर भेदभाव नहीं करती है।

मैं किसी धर्म की नहीं हूं : उर्वशी रौतेला

अभिनेत्री और पूर्व ब्यूटी क्वीन उर्वशी रौतेला का कहना है कि प्रेम ही उनका धर्म है। सोशल मीडिया सेंसेशन ने इंस्टाग्राम पर अपनी एक तस्वीर साझा की है,

मोक्ष की राह में लॉकडाउन की बाधा

सनातन धर्म में अंतिम संस्कार के बाद पवित्र नदियों में अस्थि विसर्जन का खास महत्व है। मान्यता है कि अस्थि विसर्जन से ही मोक्ष प्राप्ति की राह मिलती है।

संविधान बचाने के लिए पहली बार सड़कों पर उतरे लोग : अधीर

कांग्रेस ने लोकसभा में कहा कि सरकार देश को धर्म के आधार पर विभाजित करने की साजिश रच रही है इसलिए सभी जाति, धर्म और समुदाय के लोग संविधान

सीएए से देश के किसी भी धर्म के लोगों को डरने की जरूरत नहीं : रघुवर

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता रघुवर दास ने विपक्षी दलों पर नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि इस कानून से भारत में रह रहे किसी भी धर्म के लोगो को डरने की जरूरत नही है।

मप्र में जन, धर्म, संविधान विरोधी कानून लागू नहीं हेागा : कमलनाथ

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि “मध्यप्रदेश में जब तक कांग्रेस की सरकार है कोई भी संविधान विरोधी, जन विरोधी और धर्म विरोधी कानून राज्य में लागू नहीं होगा।

कांग्रेस ने किया था धर्म के आधार पर देश का विभाजन : शाह

गृह मंत्री अमित शाह ने विपक्षी दल कांग्रेस पर धर्म के आधार पर देश के विभाजन का आरोप लगाते हुये लोकसभा में कहा कि यदि वह ऐसा नहीं करती तो सरकार को नागरिकता (संशोधन) विधेयक आज सदन में नहीं लाना पड़ता।

झारखंड में चुनाव लड़ना गठबंधन धर्म के प्रतिकूल नहीं : जदयू

बिहार में भाजपा के साथ मिलकर सरकार चला रही जनता दल यूनाइटेड (जदयू) ने झारखंड में उसके चुनाव लड़ने के निर्णय को लेकर चल रही अटकलबाजियों एवं कयासों को खारिज करते हुए आज कहा कि जदयू का ऐसा करना गठबंधन धर्म के प्रतिकूल नहीं है।

चूल्हा हिंदू बना तो जिम्मेवार कौन?

हम और आप 1947 के वक्त, वक्त की भयावहता को नहीं बूझ सकते। मगर इतिहास में तथ्य दर्ज है कि अगस्त 1947 में भारत उपमहाद्वीप में मुसलमान बनाम हिंदू की परस्पर नफरत और हिंसा में जो हुआ वह मानव इतिहास (जंग और अकाल को छोड़ कर) की जघन्यतम दास्तां है।

और लोड करें