रोबोटिक-जनतंत्र के जनकराज की बलैयां

इस बृहस्पतिवार की दोपहर मैं ने नए संसद भवन के निर्माण का भूमि-पूजन कर उसकी आधारशिला रखने के बाद अपने प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी के उद्गार बहुत ध्यान से आद्योपांत तब तक सुने, जब तक कि उन्होंने अपनी वाणी को विराम नहीं दे दिया