नोटिस

वेणुगोपाल की वाह और…

वाह! कैसे सलाम किया जाए 89 साला बुजुर्ग केके वेणुगोपाल को! वेणुगोपाल भारत सरकार के अटॉर्नी-जनरल हैं और पांचवें दशक से सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस कर रहे हैं।

इतिहास दोहराया जा रहा

क्या किसी तरह से इतिहास अपने को दोहराने वाला है? हालांकि यह बहुत दोहराई जा चुकी बात है कि इतिहास अपने को दोहराता है तो पहली बार त्रासदी के रूप में और दूसरी बार तमाशे के रूप में। इस बार किस रूप में दोहराएगा, नहीं कहा जा सकता है।

प्रशांत ने कहां- मुझे सजा मंजूर

सुप्रीम कोर्ट के जाने-माने वकील और सामाजिक कार्यकर्ता प्रशांत भूषण ने अदालत की अवमानना के मामले में माफी मांगने से इनकार कर दिया है।

प्रशांत भूषण को 24 अगस्त तक समय

सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना के मामले में प्रशांत भूषण की सजा पर सुनवाई पूरी कर ली है और फैसला सुरक्षित रख लिया है। अदालत ने प्रशांत भूषण को 24 अगस्त तक बिना शर्त माफी मांगने के मौका दिया है।

सजा पर सुनवाई से पहले प्रशांत भूषण की याचिका

आपराधिक अवमानना के मामले में गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में प्रशांत भूषण की सजा पर सुनवाई होनी है।

प्रशांत भूषण को दंड देना जरुरी है ?

बहुचर्चित वकील प्रशांत भूषण को सर्वोच्च न्यायालय ने अपनी मानहानि करने का दोषी करार दिया है और शीघ्र ही उन्हें सजा भी दी जाएगी। उनका दोष यह बताया गया है कि उन्होंने कुछ जजों को भ्रष्ट कहा है और वर्तमान सर्वोच्च न्यायाधीश पर भी आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी थी

प्रशांत भूषण अवमानना के दोषी करार

देश की उच्च न्यायपालिका की आलोचना करने वालों को कड़ा सबक सिखाने का संदेश देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मशहूर वकील प्रशांत भूषण को अवमानना का दोषी करार दिया है।

सुशांत के भाई ने संजय राउत को भेजा नोटिस

शिवसेना के नेता संजय राउत द्वारा सुशांत सिंह राजपूत और उनके पिता के संबंधों को लेकर दिए गए आपत्तिजनक बयान को लेकर अब सुशांत के भाई और भाजपा विधायक नीरज कुमार

प्रशांत भूषण ने पेश किया हलफनामा

सुप्रीम कोर्ट में अपने खिलाफ चल रहे आपराधिक अवमानना के मामले वकील प्रशांत भूषण ने रविवार को एक हलफनामा पेश किया।

मुद्दा अवमानना की कार्यवाही का

सुप्रीम कोर्ट ने मशहूर वकील और मानव अधिकार कार्यकर्ता प्रशांत भूषण पर ट्विटर की गई टिप्पणियों के लिए अवमानना की कार्यवाही शुरू करने का फैसला किया है। फिलहाल नोटिस जारी किया गया है।
- Advertisement -spot_img

Latest News

आखिरकार हमने समझी पेड़-पौधों की कीमत, शुरुआत हुई बागेश्वर धाम से

बागेश्वर| कोरोना काल हमारे लिए सबसे बुरा दौर रहा है। लेकिन इसने हमें बहुत कुछ सिखा दिया है। कोरोना...
- Advertisement -spot_img