अपनों की कब परवाह करेंगी सरकारें

इन दिनों छत्तीसगढ़ी फिल्मों व रंगमंच के जाने पहचाने अभिनेता अनिल शर्मा का रोता हुआ वीडियो चर्चा का विषय बना हुआ है।

यूपी में कांग्रेस की फजीहत

भारतीय जनता पार्टी ने अपने तालमेल का ऐलान कर दिया। उसकी दोनों पुरानी सहयोगी पार्टियां उसके साथ हैं। अपना दल और निषाद पार्टी के साथ भाजपा का तालमेल हो गया है।

पहले कैसे बनते थे मुख्यमंत्री?

अधिकतर अवसरों पर मुख्यमंत्री के चुनाव में विधायकों की भूमिका नगण्य रही है। परंतु यह कहा जा सकता है कि कांग्रेस से ज्यादा भाजपा में केन्द्रीय नेतृत्व की निर्णायक भूमिका होती है।

सचमुच जैसा भारत में हुआ वैसा कहीं नहीं हुआ!

हां, सचमुच जैसा भारत में हुआ वैसा कहीं नहीं हुआ! दुनिया के किसी भी देश में ऐसा पलायन नहीं हुआ और किसी देश ने इतने बेसहारा लोगों को सड़कों पर मरने के लिए नहीं छोड़ा।

भारत में महिला जजों की कमी

देश के वकीलों में सुयोग्य महिलाओं की कमी नहीं होगी लेकिन दुर्भाग्य है कि देश के 17 लाख वकीलों में मुश्किल से 15 प्रतिशत महिलाएं हैं।

“विश्व—प्रिय नरेंद्र मोदी”

असल बात यही है कि वो कहानी गुम हो गई है, जिसके बूते इस सदी में भारत के किसी नेता का विदेशों में रुतबा बनता था। क्यों गुम हो गई, ये बात उस ब्लैक अमेरिकी नागरिक ने बताई।

बेहद बर्बरता की व्यथा

इस समाज का विवेक थोड़ा भी कायम है, तो उसे यह आत्म मंथन जरूर करना चाहिए कि यह कैसा भारत बना दिया गया है?

भाजपा को सोशल इंजीनियरिंग का सहारा

गुजरात के प्रयोग के बाद यह कहा जा रहा था कि भाजपा अब हिंदुत्व की बजाय सोशल इंजीनियरिंग की राजनीति पर ज्यादा ध्यान दे रही है।

ममता, केजरीवाल से कांग्रेस को चिंता

कांग्रेस पार्टी ने भानुमति का कुनबा बना रखा है। देश के दो दर्जन पार्टियों के साथ उसने औपचारिक या अनौपचारिक तालमेल किया हुआ है।

अमेजन की आलोचना क्या सरकार पर सवाल है?

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के मुखपत्र ‘पांचजन्य’ ने एक बार फिर केंद्र सरकार को मुश्किल में डाल दिया था। पिछले दिनों ‘पांचजन्य’ की कवर स्टोरी इंफोसिस के ऊपर थी और उसे देश विरोधी कंपनी बताया गया था।

चीन का नाम लेने में क्या डर है?

यह सवाल अमेरिका के अखबारों ने पूछा है कि आखिर चार देशों के समूह क्वाड के नेताओं ने चीन का नाम क्यों नहीं लिया?

चार उपचुनाव… ‘कमलनाथ कांग्रेस’ निष्क्रिय क्यों…

यह चार उपचुनाव कांग्रेस से ज्यादा कमलनाथ के लिए भी किसी बड़े अवसर से कम नहीं

शिक्षा, तप, यज्ञ मन्त्र द्रष्टा ऋषि अत्रि

कथा के अनुसार एक बार अत्रि के बाहर जाने पर त्रिदेव अर्थात ब्रह्मा, विष्णु, महेश अनसूया के घर ब्राह्मण के भेष में भिक्षा माँगने पहुंचे और अनुसूया से कहा कि जब आप अपने संपूर्ण वस्त्र उतारकर भिक्षा देंगी

भारत बंद का मिलाजुला असर

हरियाणा, पंजाब और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अलावाकेरल, बिहार, झारखंड, बंगाल और ओडिशा में व्यापक असर।

लद्दाख एलएसी पर चीनी सरगर्मी

चीन ने अपनी ओर, ऊंचाई वाले कई अग्रिम क्षेत्रों में जवानों के लिए नए मॉड्यूलर कंटेनर आधारित आवास बनाए।

और लोड करें