तेलंगाना पुलिस का तत्काल ‘न्याय’!

हैदराबाद। तेलंगाना पुलिस ने हैदराबाद में 28 नवंबर को हुई बलात्कार और हत्या की घटना के चारों आरोपियों को एक ‘मुठभेड़’ में मार गिराया। पुलिस का दावा है कि वह शुक्रवार को तड़के इन आरोपियों को लेकर घटनास्थल पर गई थी ताकि क्राइम सीन को फिर से रिक्रिएट किया जाए। उसी दौरान आरोपियों ने पुलिस वालों के हाथ से हथियार छीन लिए और भागने का प्रयास किया। इस दौरान दोनों तरफ से फायरिंग हुई, जिसमें चारों आरोपी मारे गए। पुलिस का कहना है कि इस दौरान एक असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर और एक जवान को भी गोली लगी। गौरतलब है कि 28 नंवबर को चार आरोपियों ने एक पशु चिकित्सक युवती को अगवा कर लिया था। आरोपियों ने युवती के साथ बलात्कार के बाद उसकी हत्या कर दी थी और फिर उसका शव जला दिया था। इस वीभत्स कांड को लेकर पूरे देश में गुस्से का माहौल था और संसद में भी चर्चा के दौरान कई पार्टियों के सांसदों ने ऐसे मामलों में तत्काल न्याय की जरूरत बताई थी। राज्य सरकार ने इस घटना की सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाने का ऐलान किया था। मुठभेड़ के बाद शुक्रवार को तेलंगाना के साइबराबाद पुलिस कमिश्नर वी सज्ज्नार ने प्रेस कांफ्रेंस… Continue reading तेलंगाना पुलिस का तत्काल ‘न्याय’!

मानवाधिकार आयोग का हैदराबाद पुलिस मुठभेड़ की जांच का आदेश

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने हैदराबाद में एक महिला पशु चिकित्सक के साथ सामूहिक बलात्कार और उसे जलाने के आरोप में गिरफ्तार चारों लोगों

मुठभेड़ में मार गिराने पर आरोपियों के परिजनों ने उठाए सवाल

हैदराबाद में पशु चिकित्सक युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद उसकी हत्या करने के आरोपियों के खिलाफ न्यायालय में मुकदमा चलाए

‘हैदराबाद दुष्कर्म मामले में पुलिस मुठभेड़ पूरी तरह असंवैधानिक’

नई दिल्ली। दिल्ली के निर्भया दुष्कर्म व हत्या मामले के दोषियों के वकील ने हैदराबाद में पशु चिकित्सक युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म करने और उसके बाद उसे जलाकर मार डालने के आरोपियों को तेलंगाना पुलिस द्वारा शुक्रवार को एक मुठभेड़ में मार गिराने की घटना को ‘असंवैधानिक’ और ‘गैर-कानूनी’ बताया है। वकील डॉ. ए.पी. सिंह ने कहा पशु चिकित्सक के साथ जो हुआ, वह पूरी तरह से गलत है, लेकिन पुलिस द्वारा चारों आरोपियों का एनकाउंटर मानवधिकार का उल्लंघन, संसद के बनाए हुए नीति-निर्देशक तत्वों का उल्लंघन, देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्ट की बनाई गई गाईडलान का उल्लंघन है। यह पूरी तरह से गलत है और इसकी उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए, क्योंकि अगर ऐसा शुरू हो गया तो ट्रायल का क्या मतलब, कोर्ट का क्या मतलब, भारत के संविधान का क्या मतलब रह जाएगा। यह पूछे जाने पर कि क्या इस मुठभेड़ का निर्भया के दोषियों या खुद वकील ए.पी. सिंह पर कोई असर पड़ेगा? निर्भया मामले में दोषी पवन कुमार गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय कुमार सिंह के वकील ने कहा इसका असर पूरे देश पर पड़ेगा, जितने भी अंडरट्रायल कैदी हैं, उनपर पड़ेगा। फिर तो कोर्ट की जरूरत ही नहीं है। इसे भी पढ़ें :… Continue reading ‘हैदराबाद दुष्कर्म मामले में पुलिस मुठभेड़ पूरी तरह असंवैधानिक’

हैदराबाद मुठभेड़ की तुरंत जांच हो : कानूनी विशेषज्ञ

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने कहा, “देश में कानून का शासन होना ही चाहिए। आरोपियों के मुठभेड़ में मारे जाने की तुरंत जांच होनी चाहिए।”

और लोड करें