• डाउनलोड ऐप
Friday, May 14, 2021
No menu items!
spot_img

पेडेमिक

फिर लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा है देश!

देश भर में यह आम धारणा बन रही है कि जल्दी ही एक अनलॉक का खेल खत्म होने वाला है और देश में पहले से ज्यादा सख्त लॉकडाउन लगने वाला है। यह धारणा देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के बढ़ते मामलों की वजह से बन रही है।

कोरोना का इलाज़ मुफ्त में हो

दिल्ली में सिर्फ दिल्लीवालों का ही इलाज हो, इस मुद्दे पर मोदी-सरकार और केजरीवाल सरकार के बीच जो भिड़ंत हुई है, उसका समारोप इतने सुंदर ढंग से हुआ है कि वह भारत ही नहीं, हमारे पड़ौसी देशों के लिए भी अनुकरणीय है।

लोग लॉकडाउन की तैयारी कर रहे हैं

सरकार कहे या न कहे पर लोग लॉकडाउन के एक और दौर की तैयारी कर रहे हैं। मन ही मन उनको इस बात का अंदाजा है कि कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए सरकार फिर लॉकडाउन करेगी।

कोरोना से आठ हजार सौ मौतें!

कोरोना वायरस के संक्रमण से देश भर में मरने वालों की संख्या में हर दिन औसतन सवा दो सौ के करीब बढ़ोतरी हो रही है। इसी औसत से बढ़ते हुए देश भर में कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़ कर आठ हजार पहुंच गई है।

दिल्ली के अस्पतालों को देनी होगी जानकारी

दिल्ली के अस्पतालों को अब कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज से जुड़ी सारी जानकारी अब सार्वजनिक रूप से देनी होगी। दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल ने इस बारे में बुधवार को निर्देश जारी किए।

दिल्ली के ये बतोलेबाज

पिछले कुछ दिनों से जिस तरह से अपने नेताओ को सुना है उसे सुनकर कानपुर व उत्तर प्रदेश की बहुत याद आने लगी है।

कोरोना का कहर फैला!

कोरोना वायरस का कहर पूरे देश में तेजी से फैल रहा है। उत्तर से लेकर दक्षिण और पूरब से पश्चिम तक समान रूप से सभी राज्यों में संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है।

एक दिन में एक लाख लोग संक्रमित!

दुनिया भर में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामलों की औसत संख्या एक से ज्यादा पहुंच गई है। पिछले एक हफ्ते से ज्यादा समय से हर दिन संक्रमितों की संख्या में एक लाख से ज्यादा की बढ़ोतरी हो रही है।

जब दिल्ली में यह हाल तो देश में क्या…

कोरोना ने मुझे अंर्तमनसे झिंझोड़ डाला है। बहुत सोचने को बाध्य कर दिया है। इस दौरान मुझे ऐसा कुछ देखने को मिला है जिसकी मैं कल्पना भी नहीं कर सकता था।

पीएम को संभालनी चाहिए कमान

कोरोना वायरस का संकट अब ऐसी स्थिति में पहुंच गया है, जहां से इसका प्रसार रोकने, इलाज के लिए बुनियादी मेडिकल सुविधाओं का बंदोबस्त करने और लोगों की जान व जहान दोनों बचाने के लिए केंद्रीय कमान बनाने की जरूरत है।
- Advertisement -spot_img

Latest News

सत्य बोलो गत है!

‘राम नाम सत्य है’ के बाद वाली लाइन है ‘सत्य बोलो गत है’! भारत में राम से ज्यादा राम...
- Advertisement -spot_img