संसद में अच्छी स्थिति में बने रहने के लिए कांग्रेस को जीतने होंगे राज्य

असम और केरल में चुनाव जीतने के लिए कांग्रेस जमकर कोशिश कर रही है। पार्टी के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी भी पश्चिम बंगाल को छोड़कर उन सभी राज्यों में प्रचार कर रहे हैं, जहां चुनाव नजदीक हैं।

मप्र : कांग्रेस ने बाबाओं की टोली और भगवाधारी को प्रचार में उतारा

मध्यप्रदेश में हो रहे विधानसभा उप-चुनाव का नजारा पिछले चुनावों के मुकाबले कुछ जुदा है। इस बार चुनाव में बाबाओं की टोली और भगवाधारी भाजपा नहीं बल्कि कांग्रेस के प्रचार में लगे हैं।

दिग्विजय जितना दौरा करेंगे भाजपा को उतना लाभ : सिंधिया

भारतीय जनता पार्टी के सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय िंसंह पर हमला करते हुए कहा कि वो जितना दौरे और प्रचार करेंगे, भाजपा को

बिहार चुनाव के लिए कांग्रेस ने बनाई समितियां

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बिहार विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के प्रचार अभियान के प्रबंधन के लिए विभिन्न समितियों की घोषणा कर दी है।

चीन को लेकर साजिश थ्योरी

जैसे-जैसे दुनिया भर के देशों में कोरोना वायरस का कहर फैल रहा है वैसे वैसे चीन को लेकर साजिश थ्योरी का प्रचार भी तेज हो रहा है। सोशल मीडिया ऐसे पोस्ट से भरे पड़े हैं, जिनमें बताया जा रहा है कि कैसे चीन ने जान बूझकर यह वायरस पैदा किया और उसे पूरी दुनिया में फैला दिया।

कैसे कैसे अंधविश्वासों का प्रचार

राजनीति, खेल और फिल्म जगत के लोग कई किस्म के टोटके मानते हैं। सब सफल होने के लिए तरह तरह के यज्ञ, हवन आदि कराते रहते हैं। इन दिनों इस तरह के टोटकों या अंधविश्वासों की बाढ़ आई हुई है। मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के एक विधायक ने कमलनाथ की सरकार बचाने के लिए विशेष पूजा कराई है।

नीतीश के प्रचार का फायदा नहीं

भाजपा ने इस बार पूर्वांचल के वोटों के लिए नीतीश कुमार से भी प्रचार कराया। बिहार से सटे झारखंड में तीन महीने पहले ही दोनों पार्टियां अलग अलग लड़ी थीं। सोचें, झारखंड में जहां जनता दल यू का पुराना आधार रहा है और एक समय वहां उसके छह विधाय़क होते थे।

मानो शाहीन बाग पर जनादेश

दिल्ली का चुनाव नतीजा शाहीन बाग पर जनादेश की तरह होगा। कम से कम भाजपा के प्रचार से तो ऐसा ही लग रहा है कि चुनाव का मुख्य और केंद्रीय मुद्दा शाहीन बाग है

भला ऐसे वोट कब मांगे गए?

दिल्ली चुनाव का प्रचार एक नई गिरावट का प्रतीक है। चुनाव ऐसे लड़ा जा रहा है, जैसे यह युद्ध हो, जिसमें एक तरफ एक खास पहचान वाले लोग हैं तो दूसरी ओर दूसरी पहचान वाले। एक तरफ देशभक्त हैं तो दूसरी ओर देशद्रोही। एक पार्टी कहे कि जो हमारी तरफ हैं वे देशभक्त हैं और जो हमारे विरोधी हैं, वे पाकिस्तान से मिले हुए हैं।

दिल्ली में मोदी से सवा सेर निकले योगी

लगता है नरेंद्र मोदी ने दिल्ली विधानसभा के पिछले दो चुनावों से सबक सीखा है। उन्होंने चुनाव अभियान की बागडोर अमित शाह और योगी आदित्या नाथ को थमा दी। सोमवार को वह चुनाव मैदान में उतरे भी तो उतने हमलावर नहीं थे, जितने पहले हुआ करते थे। या तो उन पर से बजट का नशा अभी उतरा नहीं था या वह मान कर चल रहे हैं कि बजट की कुछ अच्छी बातें दिल्ली के वोटरों को प्रभावित करेंगी। उन्होंने उन आयुष्मान भारत जैसी योजनाओं का जिक्र किया, जो केजरीवाल ने दिल्ली में लागू नहीं की। हालांकि दिल्ली का मध्यम वर्ग बजट से कटी उत्साहित नहीं है, क्योंकि बजट उन की उम्मींदों पर खरा नहीं उतरा। आयकर में सलीके से कोई रियायत दी होती, तो दिल्ली के वोटर जरुर प्रभावित होते। भले ही तीन दशक पहले की तरह दिल्ली अब सरकारी कर्मचारियों वाला शहर नहीं रहा। बड़े पैमाने पर बिहारियों और पूर्वांचलियों ने दिल्ली की डेमोग्राफी को बदल दिया है। कभी में पंजाबियों और बनियों का अधिपत्य था, तीन दशक पहले समीकरण बदल गए, तो भाजपा सो रही थी। कांग्रेस ने यूपी की शीला दीक्षित को लाकर हरियाणा की सुषमा स्वराज को चारों खाने चित कर दिया था। भाजपा उस के… Continue reading दिल्ली में मोदी से सवा सेर निकले योगी

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ आज करेंगे दिल्ली में चुनाव प्रचार

दिल्ली विधानसभा चुनाव के प्रचार में शनिवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी उतरने वाले हैं। शनिवार को दिल्ली में उनकी 5 सभाएं निश्चित की गई हैं।

भाजपाई प्रचार से कहानी खुद बयां

दिल्ली विधानसभा के चुनाव की घोषणा के साथ हुए सर्वेक्षणों से वैसे तो नतीजों का अंदाजा हो गया था पर रही सही कसर भाजपा के प्रचार ने पूरी कर दी है। भाजपा नेताओं के तेवर, उनकी बातें और नारे अपनी कहानी खुद बयां कर रहे हैं।

आम आदमी से दिल्ली का बड़ा बेटा बने केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल ने 2013 में जब अपने पहले विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार शुरू किया था तो वह एक आम आदमी थे। मुख्यमंत्री के रूप में पांच साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद आईआईटीयन केजरीवाल अब वापस चुनावी मैदान में हैं।

दिल्ली चुनाव में सितारों का प्रचार

इस बार दिल्ली विधानसभा के चुनाव प्रचार में सितारों का जमावड़ा लगना है। भाजपा और कांग्रेस की ओर से इसकी जोरदार तैयारी है। इसमें आम आदमी पार्टी थोड़ी पीछे है पर उसके पास भी अनेक सितारे प्रचार के लिए हैं। आप के लिए स्वरा भास्कर प्रचार करेंगी।

न रघुवर जीते और न हेमंत हारे!

झारखंड में इस बार नरेंद्र मोदी का जादू नहीं चला। छह महीने पहले लोकसभा चुनाव में इसी झारखंड में नरेंद्र मोदी के नाम 14 में से 12 सीटें मिलीं। पर छह महीने बाद विधानसभा के चुनाव में मोदी अपने मुख्यमंत्री को भी चुनाव नहीं जिता पाए।

और लोड करें