बच्चों की वैक्सीन, जल्दी न करें!

बच्चों को टीका लगना चाहिए लेकिन उससे पहले वैक्सीन का ज्यादा वालंटियर्स के साथ, ज्यादा बड़े पैमाने पर और ज्यादा समय के लिए  ट्रायल होना चाहिए। क्योंकि किसी को पता नहीं है कि वैक्सीन व्यस्कों के मुकाबले बच्चों पर किस तरह का असर करेगी, उसके साइड इफेक्ट्स कैसे होंगे और बच्चों को दी जाने वाली दूसरी बीमारियों की वैक्सीन के साथ कोरोना वैक्सीन की प्रतिक्रिया कैसी होगी। यह भी पढ़ें: जुबान बंद कराने की जिद से नुकसान कनाडा ने सबसे पहले 12 साल से ऊपर के बच्चों को वैक्सीन लगानी शुरू की थी। अब अमेरिका में भी 12 साल से ऊपर के बच्चों को वैक्सीन लगने लगी है और फाइजर बायोएनटेक की जो वैक्सीन अमेरिका के बच्चों को लग रही है उसे ब्रिटेन ने भी मंजूरी दे दी है। ब्रिटेन में हालांकि अभी बच्चों पर इसका परीक्षण चल रहा है परंतु जल्दी ही वहां भी यह टीका लगने लगेगा। फाइजर के अलावा मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन तीनों की वैक्सीन को बच्चों के लिए मंजूरी मिल जाएगी। भारत में कोवैक्सीन का परीक्षण बच्चों के ऊपर हो रहा है और सरकार ने यह साफ कर दिया है कि दुनिया के बड़े देशों और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जिस वैक्सीन को मंजूरी… Continue reading बच्चों की वैक्सीन, जल्दी न करें!

अमेरिका में फाइजर की कोरोना वैक्सीन को मिली मंजूरी

अमेरिका के खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग (एफडीए) ने दवा निर्माता कंपनी फाइजर द्वारा विकसित की गयी कोरोना वैक्सीन के आपातकालीन स्थिति में उपयोग को मंजूरी प्रदान कर दी है।

और लोड करें