मैं तब भी बेबाक व अकेला था!

बाबरी मस्जिद ढांचे के ध्वंस का वक्त सेकुलर राजनीति का था। उन दिनों मीडिया में कोई हिंदू होने की समझ में हिंदू जन भावना पर बेबाकी मे कलम घसीटे, रिपोर्टिंग करे या कराए, यह असंभव था।

मंदिर बनवा दीजिए

बुधवार यानी नौ दिसंबर की शाम को राजेश पायलट के घर मुसलमान प्रतिनिधियों का जमावड़ा लगा हुआ था। जाफर शरीफ, सलमान खुर्शीद, अहमद पटेल को साथ बैठा कर पायलट ने डेढ़ घंटे मुसलमानों के विचार सुने। किसी ने कहा हम तो पहले दिन से ही आडवाणी-राव की मिलीभगत मानते रहे हैं। घटनाओं ने इसे सही साबित किया है। केंद्रीय सरकार है, जिसने वहां मंदिर बनवाया है। यूपी में छह बजे कल्याण सिंह ने इस्तीफा दिया। उसी के बाद अयोध्या में मंदिर बनना शुरू हुआ। मंदिर बनाने के लिए पूरे चलीस घंटे दिए। एक बूढ़े मुसलमान ने कहा- मुसलमान अब कभी कांग्रेस को वोट नहीं देंगे। मैं उम्र भर कांग्रेसी रहा। अब वोट नहीं दूंगा। पर कांग्रेस से मेरा जो लगाव रहा है उस कारण कह रहा हूं कि आप लोग वहां मस्जिद भूल जाएं और मंदिर बनवा दें। ताकि हिंदुओं का वोट तो मिले। (13 दिसंबर, 1992) पीवी बनाम वीपी नरसिंह राव और वीपी सिंह में क्या समानता है? यह सवाल लालकृष्ण आडवाणी की दोबारा अयोध्या यात्रा से उठा है। लालकृष्ण आडवाणी अब नरसिंह राव को वीपी सिंह से ज्यादा गुरू चीज मानने लगे हैं। वे स्वभाव के विपरीत नरसिंह राव के प्रति काफी तल्ख हो गए हैं। इसी कारण… Continue reading मंदिर बनवा दीजिए

तभी तो अदालत!

कई झटके लग गए, मगर नरसिंह राव के फैसलों की रफ्तार यथावत है। क्यों न कांग्रेसजन दुखी हों? अयोध्या में रामलला के दर्शन का मसला लें। चुपचाप आठ-दस दिसंबर को स्थानीय प्रशासन को संदेश चला जाता कि लोगों को धीरे-धीरे दर्शन की इजाजत दी जाए।

वाया अदालत

नरसिंह राव ने औजार अदालत को बनाया हुआ है। यानी सरकार की तरफ से कोशिश है कि कारसेवा अदालत के आदेशों का उल्लंघन लगे। अदालत से भाजपा का टकराव हो और उस बहाने कल्याण सिंह सरकार बरखास्त हो।

बाबरी विध्वंसः सुनवाई 31 अगस्त तक पूरी

अयोध्या में बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा तोड़े जाने की कथित साजिश के मामले की सुनवाई 31 अगस्त तक पूरी करनी होगी। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई पूरी करने के लिए 31 अगस्त, 2020 तक का समय दिया है।

मैं उच्चतम न्यायालय के फैसले का पक्षधर : अंसारी

बाबरी मस्जिद के मुद्दई इकबाल अंसारी ने ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की प्रस्तावित बैठक का बहिष्कार करते हुए शनिवार को कहा कि वह मंदिर-मस्जिद विवाद पर देश में अमन चैन कायम रखने वाले उच्चतम न्यायालय के ऐतिहासिक फैसले के पक्ष में हैं।

बाबरी विध्वंस संबंधी मामले वापस लें : हिंदू महासभा

अयोध्या जमीनी विवाद मामले पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए फैसले के 72 घंटे बाद अखिल भारत हिंदू महासभा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर बाबरी मस्जिद को गिराने को लेकर कारसेवकों के खिलाफ चल रहे आपराधिक मामलों को वापस लिए जाने की मांग की है।

नौ नवंबर के कितने संयोग

अयोध्या में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद भूमि विवाद का फैसला नौ नवंबर को आया। सवाल है जिस फैसले के 14 या 15 नवंबर को आने की बात थी वह नौ नवंबर को क्यों सुनाया गया? यह अनायास हुआ या इसके पीछे कोई डिजाइन है?

निर्णय में कुछ विसंगतियां

सुप्रीम कोर्ट ने जो कहा और जो निर्णय दिया, उसमें कई विसंगतियां हैं। कोर्ट ने विवादित जमीन राम जन्मभूमि न्यास को देने का फैसला दिया। कहा कि कोर्ट आस्था के आधार पर नहीं, बल्कि कानून के आधार पर फैसला देता है।

बाबरी मस्जिद अवैध थी तो आडवाणी पर मामला कैसे? : ओवैसी

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने सवाल किया कि यदि बाबरी मस्जिद अवैध थी, तो इसे ढहाने को लेकर लालकृष्ण आडवाणी पर मुकदमा क्यों चल रहा है और अगर यह वैध थी, तो आडवाणी को जमीन क्यों दी जा रही है? हैदराबाद के सांसद ने इस बात पर आश्चर्य जताते हुए कहा कि जिस इंसान ने किसी का घर गिराया, उसे कैसे वही घर दिया जा सकता है।

भारत का विचार किसी भी विचारधारा से बड़ा : कैफ

पूर्व भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद कैफ ने विवादित रामजन्म भूमि और बाबरी मस्जिद पर सुप्रीम कोर्ट फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि भारत की संकल्पना (विचार) किसी भी विचारधारा से बड़ा है।

अयोध्या में सुरक्षा के चौकस इंतजाम

राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अयोध्या सहित पूरे उत्तर प्रदेश में सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं।

अयोध्या फैसले के मद्देनजर जम्मू में हाई अलर्ट

अयोध्या में रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले पर शनिवार को सुप्रीम कोर्ट के फैसले को देखते हुए जम्मू को हाई अलर्ट पर रखा गया है। हालांकि जम्मू प्रांत के किसी भी हिस्से से अभी तक किसी तरह की अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली है।

दारूल उलूम के मुफ्ती कासिम ने फैसले पर हैरानी जताई

अयोध्या जमीन विवाद पर आज को सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर प्रसिद्ध इस्लामिक शिक्षण संस्था दारुल उलूम के मोहतमिम मौलाना मुफ्ती अबुल कासिम नौमानी बनारसी ने हैरानी जताई।

तथ्यों पर आस्था की जीत : ओवैसी

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि अयोध्या मामले में उच्च्चतम न्यायालय के फैसले से यह साफ हो गया है कि इसमें तथ्यों पर आस्था की जीत हुई है।

और लोड करें