अब रास्ता किधर है?

इसके बाद दूरगामी योजना बनानी चाहिए। अगर फिर से आज जैसी मुसीबत को दोहराए जाने से रोकना है तो इसके अलावा कोई विकल्प नहीं है कि भारत को अपनी जीडीपी का 5 से 6 प्रतिशत हिस्सा स्वास्थ्य के क्षेत्र में निवेश करे। साथ ही स्वस्थ्य प्रणाली को विकेंद्रित करना जरूरी है। आजादी के बाद महामारियों… Continue reading अब रास्ता किधर है?

अगला जश्न ऑक्सीजन का होगा

कोरोना वायरस के संक्रमण की दूसरी लहर का कोर तत्व यह है कि पूरे देश में ऑक्सीजन के लिए हाहाकार मचा हुआ है। कुछ तो बहुत भयावह और कुछ बेहद हास्यास्पद तस्वीरें इस दौर की देखने को मिली हैं। लोग ऑक्सीजन की सिलिंडर लूटते दिख रहे हैं, ऑक्सीजन के टैंकर रोके जा रहे हैं, अस्पतालों… Continue reading अगला जश्न ऑक्सीजन का होगा

आपात्काल से भी बड़ा आफतकाल

कोरोना महामारी ने इतना विकराल रुप धारण कर लिया है कि सर्वोच्च न्यायालय को वह काम करना पड़ गया है, जो किसी भी लोकतांत्रिक देश में संसद को करना होता है। सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि वह उसे एक राष्ट्रीय नीति तुरंत बनाकर दे, जो कोरोना से लड़ सके। मरीज़ों… Continue reading आपात्काल से भी बड़ा आफतकाल

इस साल ऑक्सीजन बड़ी चीज हो गई

सोचें, मेडिकल ऑक्सीजन को लेकर पूरे देश में हाहाकार मचा है। मेडिकल ऑक्सीजन कोई ऐसी चीज नहीं है, जिसका फॉर्मूला बहुत मुश्किल से मिलता है या जो लाइसेंस के तहत मिलता है या जिसका उत्पादन बहुत कठिन है या जिसके लिए कच्चे माल की कमी है। यह बहुत बेसिक चीज है। जिस तरह दवा की… Continue reading इस साल ऑक्सीजन बड़ी चीज हो गई