राज्यसभा के लिए कांग्रेस-भाजपा का सस्पेंस

राज्यसभा का एक मिनी चुनाव होने वाला है। चुनाव आयोग ने आखिरकार छह राज्यों की सात सीटों के लिए उपचुनाव का ऐलान कर दिया है।

आखिर क्या है चीन नीति?

ये तो साफ है कि अब चीन झुक कर अमेरिका के साथ संबंध बनाए रखने के मूड में नहीं है। तो क्या अब अमेरिका झुक कर चलेगा?

शी और बाइडन से सीखें मोदी

जब हमारे फौजी अफसर चीनियों से बात कर सकते हैं तो अपने मित्र शी चिन फिंग से, जिनसे मोदी दर्जन बार से भी ज्यादा मिल चुके हैं, सीधी बात क्यों नहीं करते ?

सिर्फ मोदी विरोध का एजेंडा नहीं चलेगा

विपक्ष की पॉलिटिक्स क्या है? यह लाख टके का सवाल है। चुनावी राजनीति के किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले यह जानना जरूरी है कि विपक्ष की राजनीति क्या है! क्या विपक्षी पार्टियां सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोध के एजेंडे पर राजनीति करेंगी या देश के सामने अपने शासन का कोई वैकल्पिक प्रारूप भी पेश करेंगी?

काशी के लोगों से संवाद में रो पड़े PM मोदी, Twitter पर ट्रेंड हो रहा है #CrocodileTears #PMCries

वाराणसी | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई बार सार्वजनिक कार्यक्रमों और भाषण में भावुक होते रहे हैं। शुक्रवार को अपने चुनाव क्षेत्र वाराणसी में कोरोना वायरस के संक्रमण से जान गंवाने वालों को श्रद्धांजलि देते हुए प्रधानमंत्री मोदी एक बार फिर भावुक हो गए। उनका गला रूंध गया और वे थोड़ी देर के लिए खामोश हो गए। हालांकि उत्तर प्रदेश में गंगा नदी के किनारे मिली लाशों और गंगा में बहते शवों के बारे में कुछ नहीं कहा। प्रधानमंत्री ने अपने चुनाव क्षेत्र के डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को संबोधित करते हुए एक नया नारा भी दिया- जहां बीमार, वही उपचार। हालांकि यह कैसे होगा, यह उन्होंने नहीं बताया। प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में ब्लैक फंगस को कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में नई चुनौती करार देते हुए शुक्रवार को कहा कि इससे निपटने के लिए जरूरी सावधानी और व्यवस्था पर ध्यान देना जरूरी है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सामूहिक प्रयासों से स्थिति को संभालने में काफी हद तक मदद मिली है लेकिन यह संतोष का समय नहीं है और एक लंबी लड़ाई लड़नी है। ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रधानमंत्री ने नारा दिया- जहां बीमार, वहीं उपचार। मोदी… Continue reading काशी के लोगों से संवाद में रो पड़े PM मोदी, Twitter पर ट्रेंड हो रहा है #CrocodileTears #PMCries

संसदीय समितियों की मीटिंग का मुद्दा

कांग्रेस पार्टी ने संसदीय समितियों की बैठक बुलाने को राजनीतिक मुद्दा बना दिया है। जानकार सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस इस बहाने लोगों में यह दिखना चाहती है कि सरकार कुछ छिपा रही है इसलिए वह संसदीय समितियों की मीटिंग नहीं करा रही है। तभी कांग्रेस के सभी बड़े नेताओं ने यह मुद्दा उठाना शुरू कर दिया है। यह भी कहा जा रहा है कि कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में इस पर विचार हुआ था और यह रणनीति बनी थी कि पार्टी संसद की विशेष बैठक बुलाने की भी मांग करेगी और संसदीय समितियों की बैठक बुलाने पर जोर देगी। तभी कांग्रेस कार्य समिति की बैठक के तुरंत बाद लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने संसद की लोक लेखा समिति की बैठक बुलाने की मांग की। उन्होंने साथ ही यह भी कह दिया कि लोक लेखा समिति की बैठक इसलिए जरूरी है ताकि सरकार की वैक्सीनेशन नीति की समीक्षा की जा सके। उनके साथ साथ ही राज्यसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी राज्यसभा के सभापति से संसदीय समितियों की वर्चुअल बैठक बुलाने की अपील की। पहले ही तरह ही गोपनीयता का हवाला देते हुए पीठासीन पदाधिकारियों ने वर्चुअल बैठक कराने से इनकार कर दिया।… Continue reading संसदीय समितियों की मीटिंग का मुद्दा

कलेक्टरों के साथ बैठक करेंगे मोदी

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की स्थिति पर मुख्यमंत्रियों और राज्यपालों के साथ बैठक करने के बाद अब प्रधानमंत्री सीधे जिलों को कलेक्टरों के साथ बैठक करेंगे। कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित जिलों के कलेक्टरों के साथ प्रधानमंत्री की बैठक अगले हफ्ते होगी। गुरुवार को बताया गया कि प्रधानमंत्री मोदी 18 मई को देश के सर्वाधिक कोरोना प्रभावित 46 जिलों के कलेक्टरों के साथ महामारी से निपटने के उपायों पर चर्चा करेंगे। इस दौरान उनके साथ राज्य के मुख्यमंत्री भी शामिल रहेंगे। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी 20 मई को 54 और जिलों के कलेक्टरों साथ बैठक करेंगे। गौरतलब है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए सरकार ने 11 अधिकार प्राप्त समूह बनाए हैं, जो अलग-अलग विषयों पर राज्यों के साथ विचार-विमर्श कर तत्काल फैसला ले रहे हैं। साथ ही उन्हें यह भी निर्देश दिया गया है कि जरूरत के अनुसार देश-विदेश से कोविड के खिलाफ जरूरी वस्तुओं की खरीद को किसी भी कानूनी बंधन या औपचारिकताओं से दूर रखा जाए।

12 पार्टियों के नौ सुझाव, मोदी को लिखी चिट्ठी

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की दूसरी लहर में देश भर में तेजी से फैल रही महामारी के बीच देश की 12 विपक्षी पार्टियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है और महामारी का मुकाबला करने के लिए नौ सुझाव दिए हैं। विपक्षी पार्टियों ने प्रधानमंत्री से कहा है कि वे देश के सभी नागरिकों के लिए तत्काल मुफ्त में वैक्सीनेशन शुरू करें। विपक्षी पार्टियों ने केंद्र पर आरोप लगाते हुए कहा है कि उसने विपक्ष की अनदेखी की और अगर उसने विपक्ष की सलाह मानी होती तो आज देश में हालात इतने खराब नहीं होते। विपक्षी पार्टियों ने अपनी चिट्ठी की शुरुआत में ही केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि उसने विपक्षी पार्टियों और उसके नेताओं की सलाह को नजरअंदाज किया। महामारी से मुकाबले का सुझाव देते हुए विपक्षी पार्टियों ने सेंट्रल विस्टा का काम रोकने का भी सुझाव दिया और साथ ही गरीबों को हर महीने छह हजार रुपए देने की जरूरत भी समझाई है। चिट्ठी लिखने वाले नेताओं में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के अलावा चार राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, तमिलनाडु के सीएम एमके स्टालिन, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का नाम इसमें… Continue reading 12 पार्टियों के नौ सुझाव, मोदी को लिखी चिट्ठी

राहुल को कमान संभालनी होगी!

अब राहुल गांधी के पास कोई विकल्प  नहीं है। उन्हे नेतृत्व संभालना होगा और दो टूक, लाउड मैसेज (कड़ा संदेश) देना होगा कि कोई नहीं बख्शा जाएगा! कानून कड़ाई से अपना काम करेगा। देश इस समय भारी अनिर्णय के दौर से गुजर रहा है। उसे नहीं मालूम किधर देखना है, किससे उम्मीद करना है। डरा हुआ समाज अपनी आवाज नहीं उठा सकता। उसे जो कहा जा रहा है कर रहा है। तुम्हारी किस्मत खराब है वह मान जाता है, 70 साल से कांग्रेस दोषी थी, सात साल से सिस्टम, वह मान जाता है। मौतें आक्सीजन की कमी से नहीं हो रहीं, मृत्यु को कौन रोक सकता है, वह मान जाता है। प्रचार तंत्र जो बता रहा है वह सब मान रहा है। उसकी बुद्धि, विवेक सब मीडिया ने हर ली है। मोदी, मोदी के नशे में उसे नहीं मालूम कि आगे कुआ है या खाई। उसके बच्चों का क्या होगा?  नौकरी का क्या होगा? तनखाएं और कितनी कम होंगी? नए कृषि कानूनों के बाद कल जब अनाज भी आक्सीजन की तरह मुनाफाखोरों के पास पहुंच जाएगा तो रोटी का क्या होगा? उसे कुछ नहीं मालूम! न वह मालूम करना चाहता है। उसे उम्मीद है कि हिन्दु, मुसलमान से सब समस्याओं… Continue reading राहुल को कमान संभालनी होगी!

ममता से मुसलमान भी हुए दूर: मोदी

कूचबिहार/हावड़ा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर करारा हमला बोला और दावा किया कि वोटों का बिखराव ना हो इसके लिए मुसलमानों से एकजुट हो जाने की उनकी अपील स्पष्ट करती है कि तृणमूल कांग्रेस विधानसभा चुनाव की जंग हार गई है। प्रधानमंत्री ने राज्य में दो चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए दावा किया यदि उन्होंने इसी प्रकार सभी हिन्दुओं को एकजुट हो जाने और भाजपा को मत देने की अपील की होती तो उन्हें निर्वाचन आयोग के आठ-दस नोटिस मिल गये होते और देश भर के अखबारों में उनके खिलाफ संपादकीय छप जाते। ममता बनर्जी पर तुष्टीकरण की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए मोदी ने कहा कि उन्हें लोगों के तिलक लगाने और भगवा वस्त्र पहनने पर भी अब एतराज होने लगा है।प्रधानमंत्री ने दावा किया कि राज्य में भाजपा के पक्ष लहर है और पार्टी बंगाल में अगली सरकार बनाएगी। पश्चिम बंगाल में अपनी हर चुनावी रैली में ममता बनर्जी को ‘‘दीदी ओ दीदी’’ कहकर संबोधित करने वाले मोदी ने यहां रणनीति बदलते हुए अपने संबोधन में उन्हें ‘‘आदरणीय दीदी, ओ दीदी’’ कहकर संबोधित किया। ज्ञात हो कि तृणमूल कांग्रेस ने प्रधानमंत्री द्वारा ‘‘दीदी ओ दीदी’’ कहने के अंदाज… Continue reading ममता से मुसलमान भी हुए दूर: मोदी

होली से पहले चुनावी रंगों के खुमार में बंगाल, मोदी संग मंच साझा कर सकते हैं डिस्को डांसर अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती

Kolkata:  बंगाल चुनाव(Bangal election) में मोदी ( PM Modi)  मेगा रैली करने जा रहे हैं. उम्मीद की जा रही है कि डांस इंडिया डांस ( Dance India Dance) के जज के रूप में ग्रैंड मास्टर( Grand master) के रूप में फेमस हुए प्रसिद्ध अभिनेता मिथुन चक्रवती (Mithun Chakrwati)  भाजपा में शामिल हो सकते हैं. इसके साथ ही बंगाल के लोगों को  मिथुन दा और पीएम मोदी मंच साझा करते हुए भी नजर आ सकते हैं.हालंकि अभी तक इन बातों के कयास भर ही लगाए जा रहे हैं. अभी तक यह भी स्पष्ट नहीं हो पाया है कि मिथुन दा भाजपा के लिए प्रचार करेंगे भी या नहीं, लेकिन सूत्रों की मानें तो कल कोलकाता(Kolkata) के ब्रिगेड मैदान में होने वाली पीएम मोदी का रैली में मिथुन दा भी मौजूद रहेंगे. मिथुन से हुई फोन पर बात, लेकिन स्थिति अभी साफ नहीं भाजपा( BJP) मिथुन चक्रवती के शामिल होने को लेकर ससपेंस बनाने का काम कर रही है. बंगाल में मिथुन की लोक्रप्रियता(popularity) किसी से भी छिपी हुई नहीं है. ऐसे में भाजपा जानकर मिथुन के पीएम के साथ मंच साझा करने के सवाल से बच रह रही है. क्योंकि इससे कहीं ना कहीं भाजपा को ही फायदा है. हालांकि उक्त… Continue reading होली से पहले चुनावी रंगों के खुमार में बंगाल, मोदी संग मंच साझा कर सकते हैं डिस्को डांसर अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती

ममता ने मोदी को दंगाबाज कहा

पश्चिम बंगाल में तुष्टिकरण की राजनीति और टोलाबाजी बंद करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण के बाद ममता बनर्जी ने उनके ऊपर तीखा हमला किया है।

राहुल ने की किसान महापंचायत

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि हिन्दुस्तान के किसानों के सामने अंग्रेज नहीं टिक पाये तो नरेन्द्र मोदी कौन हैं।

किसान या जवान, किसी की नहीं है मोदी सरकार: राहुल

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने रक्षा बजट को लेकर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए सोमवार को फिर कहा कि उन्हें किसानों और जवानों में से किसी की चिंता नहीं है

मैं साफ-सुथरा, मोदी से नहीं डरता: राहुल

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसान आंदोलन को लेकर मंगलवार को केंद्र सरकार पर तीखा हमला किया। उन्होंने कहा कि ये तीनों कानून देश की कृषि व्यवस्था को बरबाद करने के लिए बनाए गए हैं

और लोड करें