कमजोर विपक्ष की बात में राजनीतिक फायदा

देश में राजनीतिक विकल्प नहीं होने का विमर्श कोई नया नहीं है। देयर इज नो ऑल्टरनेटिव यानी टीना फैक्टर की पहले भी चर्चा होती थी

संप्रग की सरकार बनी तो बिहार के युवाओं को मिलेगा रोजगार : राहुल

बिहार में नवादा के हिसुआ में चुनावी रैली को संबोधित करने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी शुक्रवार को भागलपुर के कहलगांव पहुंचे और केंद्र सरकार पर सियासी हमला बोलते हुए महागठबंधन के प्रत्याशियों के लिए वोट मांगे।

अमर सिंह तब और अब

काफी लंबे समय के बाद एक समय के बेहद चर्चित नेता अमर सिंह के बारे में कोई खबर पढ़ी। यह खबर अब तक की उनकी शख्सियत के एकदम विपरीत थी। उन्होंने अपने पुराने दोस्त व फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन से विगत में उनके खिलाफ बुरा भला कहने के लिए माफी मांगी।  मैंने अमर सिंह की हैसियत तब देखी जबकि वे राजनीति में उभर ही रहे थे व उनका देश की राजनीति व पत्रकारिता में बहुत जलवा था। देश की जानी मानी अभिनेत्रियों से लेकर उद्योगपति उनके बहुत करीबी माने जाते थे। एक अखबार का मालिक तो उनके इतने करीब था कि जब अमिताभ बच्चन के पिता हरिवंश राय बच्चन का 2003 में देहांत हुआ तो इस अखबार ने उनकी अमरसिंह के साथ वाली इतनी तस्वीरें छापी कि यह संदेह होने लगा कि वास्तव में किसकी मृत्यु हुई है व अखबार किस को श्रद्धांजलि देना चाहता था। मेरे तत्कालीन स्थानीय संपादक (हरिशंकर व्यासजी नहीं) ने मुझसे उनका इंटरव्यू करने को कहा। उनकी एक खासियत थी कि इंटरव्यू करने के पहले ही वह इशारा कर देते थे कि वे किस तरह का इंटरव्यू चाहते हैं। उन्होंने उन्हें बहुत समझाते हुए, बताते हुए कहा कि ऐसा लिखना कि मजा आ जाए। मैं अमर… Continue reading अमर सिंह तब और अब

और लोड करें