लालू की संगत में अनहोने रघुवंश बाबू

अंग्रेजी की एक पुरानी कहावत है कि किसी व्यक्ति की पहचान उन लोगों से बनती है जिनके बीच वह उठता- बैठता है। मगर जब पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह के निधन की खबर पढ़ी तो यह कहावत झूठी होती लगी।

रघुवंश बाबू की चिट्ठियों की हकीकत क्या?

राष्ट्रीय जनता दल के दिग्गज नेता रहे रघुवंश प्रसाद सिंह ने दिल्ली के एम्स में भरती रहते दो चिट्ठियां लिखीं, जिनकी बड़ी चर्चा हुई है। एक चिट्ठी उन्होंने अपनी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद को लिखी, जिसमें उन्होंने बड़े भावुक अंदाज में पार्टी छोड़ने की घोषणा की थी।

रघुवंश प्रसाद सिंह का निधन

राष्ट्रीय जनता दल के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह का रविवार को निधन हो गया। दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स में 74 साल के रघुवंश प्रसाद सिंह ने रविवार को आखिरी सांस ली।

रघुवंश प्रसाद की आखिरी चिट्ठी में बताए कार्य उतरेंगे जमीन पर: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से बिहार में पेट्रोलियम क्षेत्र की तीन प्रमुख परियोजनाओं का लोकार्पण करने के दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह के निधन पर शोक जताया।

राजद क्या सवर्णों को भेजेगी राज्यसभा?

राज्यसभा के दोवार्षिक चुनावों की घोषणा अभी नहीं हुई है पर उसके लिए अभी से नेताओं की भागदौड़ शुरू हो गई है। बिहार में राज्यसभा की खाली हो रही पांच सीटों में से इस बार दो सीटें राष्ट्रीय जनता दल और कांग्रेस गठबंधन को मिलेंगी। बाकी तीन सीटें एनडीए के खाते में जाएंगी।