कहा जाने लगा जून-जुलाई में पीक आएगा!

कोराना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए पूरे देश में लागू लॉकडाउन की शर्तों में छूट दिए जाने के बीच ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, एम्स दिल्ली के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि भारत में अभी पीक नहीं आया है।

मलेरिया की दवा से इलाज नुकसानदेह!

नई दिल्ली। मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का कोरोना वायरस के इलाज में इस्तेमाल करना खतरनाक हो सकता है। इस दवा को कोरोना के इलाज में मददगार बताए जाने पर एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा कि लैब से मिले कुछ आंकड़ों से पता चलता है कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का कोविड-19 के संक्रमण में कुछ असर हो सकता है, लेकिन यह बात पुख्ता नहीं है। उन्होंने कहा कि आईसीएमआर के विशेषज्ञों का मानना है कि यह कोरोना वायरस के नजदीक संपर्क में रहे लोगों के लिए कुछ मददगार हो सकती है, लेकिन यह सभी के इलाज के लिए नहीं है। इससे हृदय से संबंधित परेशानियां हो सकती हैं। यह धड़कनों पर असर डाल सकती है। गुलेरिया नेकहा- दूसरी दवाओं की तरह इसके भी साइड इफेक्ट्स हैं। यह आम लोगों के लिए फायदे से ज्यादा नुकसानदेह हो सकती है।

और लोड करें