जेईई और नीट परीक्षाओं की घोषणा कल होने के आसार

व संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ 5 मई को देशभर के छात्रों से वेबिनार के माध्यम से चर्चा करेंगे।

लॉकडाउन बाद ली जाएंगी 10वीं 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं

10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर सीबीएसई ने अपना रुख स्पष्ट किया है। सीबीएसई के मुताबिक दसवीं और बारहवीं कक्षा के 29 विषयों की लॉकडाउन अवधि के बाद परीक्षाएं ली जाएंगी।

छात्रों और अभिभावकों से सीधा संवाद करेंगे ‘निशंक’

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ देशभर के छात्रों से सीधा संवाद स्थापित करेंगे।

केंद्रीय मंत्री निशंक की बेटी ने घर में बनाए मास्क

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ की बेटी आरुषि निशंक ने कोरोनावायरस की वजह से लागू किए गए लॉकडाउन का सदुपयोग करते हुए घर में ही खादी के मास्क बनाए

कोविड19 के दौर में भी नौकरियां दें कंपनियां: निशंक

केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कंपनियों से अपनी अपील में आग्रह किया कि कोरोना वायरस के कारण आर्थिक संकट के बावजूद तकनीकी शिक्षण संस्थानों के होनहार छात्रों को दी हुई नौकरियां मान्य रखें।

राहुल ने छात्रावासों में फंसे बच्चों को लेकर निशंक को लिखा पत्र

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को पत्र लिखकर 21 दिन के लॉकडाउन के कारण आवासीय विद्यालयों में फंसे

जेएनयू का चरित्र बदलने वालों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई : निशंक

मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने गुरूवार को राज्यसभा में कहा कि केन्द्र उन लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करेगा जो जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के मूलभूत चरित्र को बदलने का प्रयास करेंगे।

जेएनयू मामला और नदारद निशंक

देश में शिक्षण संस्थानों और छात्रों को लेकर बड़ा विवाद छिड़ा हुआ है और देश के शिक्षा मंत्री नदारद हैं। वैसे विश्व पुस्तक मेले में किताब के विमोचन को लेकर शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक की खबर तो आई है पर यह नहीं दिखा है कि वे जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी, जेएनयू के विवाद को सुलझाने में कोई भूमिका निभा रहे हैं।

निहित स्वार्थ से आपसी भाईचारे और शांति को खतरा : निशंक

नई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने शनिवार को यहां समाज में शांति पर पैदा हुए खतरे को लेकर चिंता जाहिर की और कहा कि निहित स्वार्थ के कारण आपसी भाईचारे और शांति दोनों को खतरा पैदा हो गया है, और ऐसे में गांधी आज अधिक प्रासंगिक हो गए हैं। निशंक यहां प्रगति मैदान में विश्व पुस्तक मेले का उद्घाटन करने के बाद बोल रहे थे। इस साल के पुस्तक मेले का विषय महात्मा गांधी की लेखन शक्ति को समर्पित है। राष्ट्रीय पुस्तक न्यास ने विश्व पुस्तक मेले का थीम ‘गांधी लेखों के लेखक’ रखा है। निशंक ने पुस्तक मेले में हिस्सा लेने आए इंग्लैंड, अमेरिका सहित विश्व भर के 600 से अधिक प्रकाशकों को संबोधित करते हुए कहा कि “आज दुनिया भर में आतंकवाद मानव शांति के लिए खतरा बना हुआ है, और निहित स्वार्थ से आपसी भाईचारा और शांति को खतरा पैदा हो गया है। ऐसी स्थिति में महात्मा गांधी की आवश्यकता और बढ़ गई है। महात्मा गांधी व उनके अहिंसा के सिद्धांत अधिक आवश्यक हो गए हैं। इसे भी पढ़ें : इराक में शवयात्रा बाद तेहरान पहुंचेगा सुलेमानी का शव निशंक ने कहा कि दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित पुस्तकों का यह… Continue reading निहित स्वार्थ से आपसी भाईचारे और शांति को खतरा : निशंक

और लोड करें