पुड्डुचेरी में राष्ट्रपति शासन

कांग्रेस की वी नारायणसामी सरकार के गिरने के बाद पुड्डुचेरी में नई सरकार नहीं बनेगी। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को पुड्डुचेरी में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश कर दी है।

पुड्डुचेरी की कमान किसके हाथ में रहेगी?

दक्षिण भारत में कांग्रेस की एकमात्र सरकार गिर गई है। पांच साल पहले पुड्डुचेरी में कांग्रेस की सरकार बनी थी और चुनाव से ऐन पहले सरकार गिर गई है।

पुदुचेरी में भाई-भाई पार्टी ?

पुदुचेरी में नारायणस्वामी की कांग्रेस सरकार को तो गिरना ही था। सो वह गिर गई लेकिन किरन बेदी को उप-राज्यपाल के पद से अचानक हटा देना सबको आश्चर्यचकित कर गया।

पार्टियों की पंचायत व आंदोलन की रंगत

केंद्र सरकार के बनाए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ 40 किसान संगठन 83 दिन से आंदोलन कर रहे हैं। आंदोलन के लंबा चलने और देश के अलग अलग हिस्सों में इसका विस्तार होने से इसकी ज्यादा चर्चा होनी चाहिए थी पर हकीकत यह है कि पिछले करीब 20 दिन से यह आंदोलन चर्चा से बाहर है।

गाजीपुर में टिकैत से मिलने नेताओं की होड़

विभिन्न राजनीतिक दलों से जुड़े कई नेताओं ने भारतीय किसान यूनियन नेता राकेश टिकैत के साथ एकजुटता दिखाने के लिए आज गाजीपुर सीमा का दौरा किया।

किसी भी पार्टी में शामिल होने के लिए स्वतंत्र हैं सदस्य : आरएमएम

3 जिला सचिवों के साथ और अन्य अधिकारियों के कल डीएमके में शामिल होने के बाद रजनी मक्कल मंद्रम (आरएमएम) ने आज कहा कि उसके सदस्य अपना इस्तीफा सौंपने के बाद अपनी पसंद के किसी भी राजनीतिक दल में शामिल होने के लिए स्वतंत्र हैं।

असम में महागठबंधन के प्रयास विफल होंगे!

असम में चार महीने के बाद विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं और उससे पहले विपक्षी एकता की कोई कोशिश सिरे नहीं चढ़ रही है। कांग्रेस के दिग्गज नेता और लगातार तीन बार राज्य के मुख्यमंत्री रहे तरुण गोगोई के निधन के बाद विपक्षी एकता की  संभावना और कम हो गई है

दक्षिण के क्षत्रपों का भाजपा प्रेम!

दक्षिण भारत के कई क्षत्रप भाजपा की बढ़ती ताकत से घबराए हुए हैं। हैदराबाद नगर निगम के चुनाव में भाजपा का प्रदर्शन इस लिहाज से दक्षिण भारत की राजनीति में मील का पत्थर साबित हो सकता है

लव जिहादः एक-जैसा कानून

मध्यप्रदेश सरकार ‘लव जिहाद’ के खिलाफ कानून बनानेवाली है। ऐसी घोषणा उत्तरप्रदेश, हरयाणा और कर्नाटक की सरकारों ने भी की है।

दलबदल करने वालों की पहली पसंद सपा है

उत्तर प्रदेश में दलबदल करने वालों की पहली पसंद समाजवादी पार्टी हो गई है। इससे अंदाजा  लग रहा है कि कम से कम अभी राज्य में भारतीय जनता पार्टी के विकल्प के तौर पर लोग समाजवादी पार्टी को देख रहे हैं। मायावती के मुकाबले अखिलेश यादव पर लोगों का भरोसा बन रहा है।

चुनाव आयोग के पास अधिकार क्या?

केंद्रीय चुनाव आयोग, सुनने में इतना भारी-भरकम नाम है पर सवाल है कि इसके पास क्या अधिकार हैं? यह एक संवैधानिक संस्था है। इसके ऊपर देश में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने की महती जिम्मेदारी है।

यदि ‘लव’ है तो ‘जिहाद’ कैसा ?

‘लव जिहाद’ के खिलाफ उप्र और हरियाणा सरकार कानून बनाने की घोषणा कर रही है और ‘लव जिहाद’ के नए-नए मामले सामने आते जा रहे हैं। फरीदाबाद में निकिता तोमर की हत्या इसीलिए की गई बताई जाती है कि उसने हिंदू से मुसलमान बनने से मना कर दिया था।

राजनीतिक दल मिलकर काम करें तो राजधानी में प्रदूषण पर नियंत्रण संभव : केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज कहा कि यदि सभी सरकारें और राजनीतिक दल राजनीति करने की बजाय साथ मिलकर काम करें तो राजधानी में प्रदूषण पर चार वर्ष से कम समय में नियंत्रण पाया जा सकता है।

बिहार चुनाव में 4 गठबंधन, 6 मुख्यमंत्री पद के दावेदार

बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर चुनावी मैदान में उतरे सभी राजनीतिक दल राज्य की सत्ता तक पहुंचने के लिए पुरजोर कोशिश में जुटे हैं। सभी दलों की चाहत सत्ता में भागीदारी की है।

बिहार : भाजपा ने जारी किया चुनावी गीत ‘मोदी जी की लहर’

बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। इसी क्रम में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में शामिल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने

और लोड करें