• डाउनलोड ऐप
Saturday, April 10, 2021
No menu items!
spot_img

राम मंदिर का शिलान्यास

श्रीराम है राजधर्म के पर्याय

श्री राम भारतीय सनातन संस्कृति की आत्मा है और उनका जीवन इस भूखंड में बसे लोगों के लिए आदर्श। राम मर्यादापुरुषोत्तम है।

अयोध्या के मोदी से विपक्ष कैसे लड़े?

सोचें, अयोध्या में मंदिर के भूमिपूजन के वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिंदुओं में अपना जो प्रोजेक्शन बनाया है क्या उसे प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव और मायावती में कोई भी या तीनों मिलकर भुलवा सकते हैं?

जीत कौन रहा है? हार कौन रहा है?

क्या इस बात से आप को कोई फ़िक्र नहीं हो रही है कि इस बुधवार को बड़े-बड़े कांग्रेसी-पुरोधाओं ने ख़ुद को राम-भक्त साबित करने के लिए इतनी ज़ोर-ज़ोर से ताली-थाली बजाई कि गगन कांप गया

मंदिर पुनर्निर्माण में 73 वर्ष की प्रतीक्षा क्यों?

रामजन्मभूमि भूमिपूजन – 2: यह ठीक है कि बुधवार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों अयोध्या में राम मंदिर पुनर्निर्माण का काम शुरू हो गया है जो निकट भविष्य में बनकर तैयार भी हो जाएगा। स्वाभाविक है

नरेंद्र मोदी का सर्वकालिक क्षण!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच अगस्त 2020 को वह किया, जिसे हिंदू शायद ही कभी भुला पाएं। हिंदू मन कैसा भी हो, वह नरेंद्र मोदी के अयोध्या के फोटो शूट को कभी नहीं भुला पाएगा। उनके भाग्य में अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का भूमि पूजन था, इसे शायद रामजी ने भी नहीं सोचा होगा।

अयोध्या से आगे अब क्या?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल का पहला सवा साल भारतीय जनसंघ और भाजपा की ओर से किए गए गए वादों को पूरा करने का समय रहा। जनसंघ और भाजपा ने मुख्य रूप से तीन वादे किए थे। पहला और सबसे पुराना वादा अनुच्छेद 370 खत्म करने का था, जो जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी और दीनदयाल उपाध्याय ने किया था।

राम पर मोदी का अद्भुत भाषण लेकिन…

अयोध्या में राम मंदिर के भव्य भूमि-पूजन का कार्यक्रम अद्भुत रहा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण में जैसा पांडित्य प्रकट हुआ है, वह विलक्षण ही है। किसी नेता के मुंह से पिछले 60-70 साल में मैंने राम और रामायण पर इतना सारगर्भित भाषण नहीं सुना।

मंदिर, मोदी और कोरोना

बुधवार होने के कारण मुझे सुबह पूजा नहीं करनी थी व रोज की तुलना में मैं अपेक्षाकृत थोड़ा खाली था। अतः अखबारों पर नजर डालने के बाद समय काटने के लिए टीवी देखने लगा। हर चैनल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अयोध्या में राम मंदिर के शिला पूजन के समाचार चल रहे थे।

6 दिसंबर के बिना यह भूमिपूजन संभव नहीं था!

कल बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अयोध्या में भूमिपूजन होने के साथ राम मंदिर पुनर्निर्माण कार्य का शुभारंभ हो गया। प्रस्तावित राम मंदिर पत्थर और सीमेंट का एक भवन ना होकर भारत की सनातन बहुलतावादी संस्कृति की पुनर्स्थापना का प्रतीक है

मोदी ने रखी मंदिर की आधारशिला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अयोध्या राम मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखी। कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से भले भूमिपूजन और शिलान्यास के मौके पर कम लोग थे इसके बावजूद भव्य कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच भूमिपूजन किया
- Advertisement -spot_img

Latest News

महाराष्ट्र में संपूर्ण लॉकडाउन के संकेत, सीएम उद्धव बोले- कोरोना की चेन तोड़ना जरूरी

मुंबई। कोरोना महामारी ने महाराष्ट्र में कहर बरपाते हुए सरकार की नींद उड़ा रखी है। कोरोना की रोकथाम के...
- Advertisement -spot_img