मोदी जी ‘मेक इन इंडिया’का शेर तो हो गया ढेर, नारा नहीं काम दीजिए…

प्रधानमंत्री मोदी ने बड़े जोर शोर से मेक इन इंडिया का नारा दिया था. लेकिन यह नारा ढेर होता हुआ दिखाई दे रहा है. भारत में लोगों को कृषि के बाद सबसे ज्यादा नौकरियां देने वाला सेक्टर टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज है.

नौकरियां हों तो मिलें!

यह रोजगार के अवसर बढ़ने का संकेत नहीं है। इन आंकड़ों से सिर्फ यह पता चलता है कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के कारण जिंदगी के अस्त-व्यस्त होने के बाद जून में बहुत से कामकाज फिर से शुरू हुए। जबकि असल में भारत में बेरोजगारी की दर अब भी एक गंभीर चिंता का विषय बनी हुई है। unemployment in the country : दिल्ली सरकार ने पिछले साल कोरोना महामारी की पहली लहर आने के बाद नौकरी ढूंढन वालों और रोजगार देने वालों को जोड़ने के लिए रोजगार बाजार पोर्टल शुरू किया था। रोजगार ढूंढ रहे व्यक्ति इस पोर्टल पर अपना पंजीकरण कर सकते हैं। वहीं रोजगार देने वाले उद्यमी भी अपने यहां मौजूद अवसरों की जानकारी इस पोर्टल पर डालते हैं। पिछले महीने इस पोर्टल पर 34 हजार से ज्यादा लोगों ने नौकरी की तलाश में अपने प्रोफाइल पोस्ट किए। दूसरी तरफ नियोक्ताओं की तरफ लगभग साढ़े नौ हजार नौकरियों के अवसर की सूचना दी गई। मोदी की नई कैबिनेट के 90 प्रतिशत मंत्री करोड़पति हैं, 42% पर आपराधिक मामले : ADR की रिपोर्ट तो जो खाई है, वह स्पष्ट है। अगर इन आंकड़ों को एक सैंपल मानें, तो इसका मतलब है कि जितने लोग रोजगार ढूंढ रहे हैं,… Continue reading नौकरियां हों तो मिलें!

क्या दो बच्चों का प्रतिबंध ठीक है ?

भारत की आबादी दुनिया में सबसे ज्यादा होने वाली है। साल-दो साल में वह चीन को पीछे छोड़ देगा। भारत शीघ्र ही डेढ़ अरब याने 150 करोड़ के आंकड़े को छू लेगा। हमें शायद गर्व होगा कि हम दुनिया के सबसे बड़े देश हैं। हां, बड़े तो होंगे आबादी के हिसाब से लेकिन हम जितने अभी हैं, उससे भी छोटे होते चले जाएंगे, क्योंकि दुनिया की कुल जमीन का सिर्फ दो प्रतिशत हिस्सा हमारे पास है और दुनिया की 20 प्रतिशत आबादी उस पर रहती है।इस आबादी को अगर रोटी, कपड़ा, मकान और इलाज वगैरह उचित मात्रा में मिलता रहे तो यह संख्या भी बर्दाश्त की जा सकती है, जैसा कि चीन में चल रहा है। पिछले 40 साल में चीन के प्रति व्यक्ति की आमदनी 80 गुना बढ़ी है जबकि भारत में सिर्फ 7 गुना बढ़ी है। आज भी भारत में करोड़ों लोग कुपोषण के शिकार हैं। भूख से मरने वालों की खबरें भी हम अक्सर पढ़ते रहते हैं। भूख के हिसाब से दुनिया में भारत का स्थान 102 वां है याने जिन देशों का पेट भरा माना जाता है, उनकी कतार लगाई जाए तो भारत एकदम पिछड़े हुए देशों में गिना जाता है। लोगों का पेट कैसे भरेगा,… Continue reading क्या दो बच्चों का प्रतिबंध ठीक है ?

चारधाम यात्रा के बाद मानसरोवर यात्रा बाधित होने से गांवों में पसरा रोजगार का संकट

Uttarakhand: कोरोना ने अपनी काली छाया से सबको संकट में डाल रखा है। कोरोना के कारण लोगों का रोजगार चौपट हो गया है। चारधाम यात्रा के बाद उत्तराखंड में अब कैलाश मानसरोवर यात्रा स्थगित हो गई है। गत वर्ष भी कैलाश यात्रा कोरोना के कारण बाधित थी। यात्रा के इतिहास में ये पहला मौका है, जब दो देशों के बीच होने वाली धार्मिक यात्रा लगातार दो सालों तक बंद रही। यात्रा बंद होने से जहां श्रद्धालु निराश हैं, वहीं बॉर्डर के ग्रामीणों का रोजगार भी प्रभावित हो गया है। श्रद्धालु दर्शन को तरस रहे है तो कारोबारी रोजगार को। यात्रा जब शुरु थी तब बॉर्डर पर बसे ग्रामीण यात्रियों के माध्यम से अपनी रोजी-रोटी चलाते थे। लेकिन अब यात्रा स्थगित होने के बाद गांवों में रोजगार का संकट फैल गया है। उम्मीद है कोरोना की भयानक बीमारी जल्द समाप्त होगी और जन-जीवन पहले जैसा सुचारू रूप से चल पाएगा। इस वर्ष चारधाम यात्रा भी स्थगित है जिसके कारण लोगों को रोजगार का संकट आ पड़ा है। मंदिर जरूर खुले है लेकिन उनमें श्रद्धालु के आने की अनुमति नहीं है। केवल पुजारी ही मंदिर रखरखाव के लिए वहां पुजा-अर्चना करते है। इसे भी पढ़ें देश में कोरोना से हर राज्यों में लगातार… Continue reading चारधाम यात्रा के बाद मानसरोवर यात्रा बाधित होने से गांवों में पसरा रोजगार का संकट

Bollywood Actor सोनू सूद ने फिर दिखाया बड़ा दिल, जरूरतमंद लोगों को दिलाएंगे नौकरी

मुंबई। बढ़ते कोरोना मामलों को लेकर एक फिर गरीबों की मदद करने के लिए आगे आए बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) ने जरूरतमंदों के लिए एक नई मुहिम शुरू की है, जिसके तहत वह गरीबों को रोजगार (Employment) दिलाएंगे। सोनू सूद (Sonu Sood) ने पिछले वर्ष कोरोना (Corona) महामारी के दौरान हुये लॉकडाउन (lockdown) में प्रवासी मजदूरों (migrant laborers) और जरूरतमंदों की मदद की थी। सोनू सूद (Sonu Sood) एक बार फिर से गरीबों की मदद करने के लिए आगे आए हैं। इसे भी पढ़ें – लता मंगेशकर का एलबम ‘भावार्थ माऊली‘ रिलीज, दीदी बोली- गाने के अलावा मेरे पास है ही क्या… उन्होंने सोशल मीडिया पर एक तस्वीर शेयर की है। इसमें लिखा, लॉकडाउन हो या न हो, आपके रोजगार की चिंता मुझ पर छोड़ दीजिए। सोनू सूद (Sonu Sood) ने तस्वीर शेयर करते हुए अपने ट्वीट में लिखा, कोशिश जरूर करूंगा।सोनू सूद ने साथ ही एक हेल्पलाइन नंबर भी शेयर किया हैं और एप भी लॉन्च किया है। इसकी मदद से कोई भी शख्स नौकरी पा सकता है। इसे भी पढ़ें – Rajasthan by-election 2021 : वीकेंड कर्फ्यू के बीच दोहरी जिम्मेवारी , 3 सीटों से लिए मतदान कल

Corona crisis:  MGNREGA बना ग्रामीणों का सहारा, सात लाख नए लोगों को मिला रोजगार

लखनऊ| राज्य में कोरोना (Corona) महामारी का प्रकोप काफी बढ़ गया है रोज कोरोना के मामलों में वृद्धि हो रही है कोरोना संक्रमण से बुरे हालात के बावजूद महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी (MGNREGA) ग्रामीणों के रोजगार (Employment) का सहारा बना हुआ है। महज 14 दिनों में सात लाख से ज्यादा लोगों को इससे रोजगार मिला है। ग्राम विकास विभाग के आंकड़ों के अनुसार, गत 14 अप्रैल को सूबे के 74 जिलों में 9,51,583 ग्रामीण मनरेगा की विभिन्न योजनाओं में कार्य कर रहे थे, जबकि गत एक अप्रैल को मनरेगा की विभिन्न योजनाओं में कार्य करने वाले ग्रामीणों की संख्या 2,24,106 थी। मात्र 14 दिनों में मनरेगा में कार्य करने वाले ग्रामीणों की संख्या में 7,27,477 का इजाफा हुआ है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) की मंशा है कि वर्तमान समय में सूबे के ग्रामीण इलाकों में रह रहे लोग कोरोना (Corona) से बचने के लिए रोजगार (Employment) की तलाश में शहर ना आए। ग्रामीणों को उनके गांव में ही सरकार रोजगार मुहैया करायेगी। मुख्यमंत्री की इस मंशा को जानने के बाद अब गांव में जल संरक्षण संबंधी कार्य मनरेगा (MGNREGA) के तहत कराए जाने लगे हैं। इसे भी पढ़ें – अजी छोड़िए पाक से तुलना ! जितनी… Continue reading Corona crisis: MGNREGA बना ग्रामीणों का सहारा, सात लाख नए लोगों को मिला रोजगार

Bihar : घर लौटे प्रवासी मजदूरों को सताने लगी रोजगार की चिंता, लेकिन अपने प्रदेश पहुंचने का सुकून भी

पटना | कोरोना (Corona) की दूसरी लहर में देश के करीब-करीब सभी हिस्सों में संक्रमितों की संख्या बढ़ने के बाद बिहार (Bihar) के परदेसी अब वापस अपने प्रदेश लौटने लगे हैं। इन्हें अपने राज्य लौटने के लिए रेलवे ने कई विशेष ट्रेनें भी चलाई हैं। लौटे प्रवासी मजदूरों (migrant workers) को अब काम की चिंता सताने लगी है। कोई किसानी की बात कर रहा है, तो कई लोग मजदूरी की बात कर रहे हैं। बिहार की राजधनी पटना से सटे मोकामा के सैकड़ों लोग अन्य प्रदेशों में रहकर अपना पेट पालते थे। ऐसे कई लोग वापस अपने गांव चले आए हैं। घोसवारी गांव के रहने वाले आनंद कुमार कहते हैं कि इस गांव के दर्जनों लोग बाहर कमाने गए थे और अब लॉकडाउन (Lockdown) की आशंका के बाद वापस घर लौट आए हैं या लौटने की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष जब लॉकडाउन (Lockdown) लगा था, तब भी वापस आए थे। उसके बाद काम नहीं मिला तब फिर वापस चले गए थे। अब एकबार फिर लॉकडाउन (Lockdown) के कारण लोग लौटने को विवश हैं। घोसवारी के पास के गांव के रहने वाले सूबेदार राय मुंबई में रहकर सुरक्षा गार्ड की नौकरी करते थे। पूरे परिवार को… Continue reading Bihar : घर लौटे प्रवासी मजदूरों को सताने लगी रोजगार की चिंता, लेकिन अपने प्रदेश पहुंचने का सुकून भी

Corona के बढ़ते मामलों के बीच आई खुशखबरी, फ्लिपकार्ट का अडाणी समूह के साथ समझौता, हजारों लोगों को मिलेगी नौकरी

नई दिल्ली। Corona के बढ़ते मामलों के बीच वालमार्ट के स्वामित्व वाली फ्लिपकार्ट (Flipkart) ने आज कहा कि उसने अपनी लॉजिस्टिक्स और डेटा केंद्र क्षमताओं को मजबूत करने के लिए अडाणी समूह (Adani Group) के साथ एक वाणिज्यिक साझेदारी (Commercial Partnership) की है, जिससे करीब 2,500 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार (Employment) मिलेगा। कंपनी ने एक बयान में कहा कि इस दोतरफा साझेदारी के तहत फ्लिपकार्ट अडाणी पोर्ट्स लिमिटेड एंड स्पेशल इकनॉमिक जोन लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी अडाणी लॉजिस्टिक्स लिमिटेड (Company Adani Logistics Limited) के साथ मिलकर काम करेगी, ताकि आपूर्ति श्रृंखला के बुनियादी ढांचे को मजबूत किया जा सके और ग्राहकों को तेजी से सेवाएं मुहैया कराई जा सकें। इसे भी पढ़ें – UPRVUNL JE Recruitment 2021: उतर प्रदेश में बिजली विभाग में जूनियर इंजीनियर के पदों पर भर्ती, अंतिम तिथी 5 अप्रैल इसके अलावा फ्लिपकार्ट (Flipkart) अपने तीसरे डेटा सेंटर की स्थापना अडाणीकॉनेक्स के चेन्नई स्थित संयंत्र में करेगी। अडाणीकॉनेक्स, एजकॉनेक्स और अडाणी एंटरप्राइजेज लिमिटेड के बीच एक संयुक्त उद्यम है। इस साझेदारी के वित्तीय ब्यौरे की जानकारी नहीं दी गई है। इसे भी पढ़ें – पवित्र कुरान से 26 आयतों को हटाने पर SC में  सुनवाई आज, मुस्लिम समाज में है वसीम रिजवी के खिलाफ आक्रोश इस… Continue reading Corona के बढ़ते मामलों के बीच आई खुशखबरी, फ्लिपकार्ट का अडाणी समूह के साथ समझौता, हजारों लोगों को मिलेगी नौकरी

UP News: गांव में ही मिला रोजगार, लिफाफे और फाइल कवर बने आजीविका के साधन

गोरखपुर। कोरोना काल में जब लोगों के सामने Employment का संकट था, तब गोरखपुर की Aarti, Rinky, Sunaina and Kusum ने विकास की नई इबारत लिख दूसरों के सामने एक मिसाल पेश की है। कड़ी मेहनत और जज्बे की बदौलत ही आज ये महिलाएं सशक्त और आत्मनिर्भर बनने के साथ-साथ दूसरों को भी रोजगार मुहैया कराने में सफल हो रही हैं। आजीविका मिशन से जुड़कर इन लोगों ने खुद का समूह गठित कर लिफाफे और फाइल बनाने का काम शुरू किया है। जिसके बाद से इन्हें आमदनी के साथ-साथ जीने की राह भी मिल चुकी है। खजनी ब्लॉक के सतुआभार ग्राम सभा की इन महिलाओं की मानें, तो आजीविका मिशन ने इन्हें नई जिंदगी दी है, जिसके लिए उन्होंने Chief Minister Yogi Adityanath को धन्यवाद दिया है। सरकार के समय-समय पर होने वाले जागरूकता शिविरों का ही नतीजा है कि आज इन महिलाओं को सरकारी योजनाओं का लाभ मिल रहा है। इन महिलाओं ने नंवबर 2018 में ग्राम संगठन के नाम से अपने समूह का गठन किया था। इसे भी पढ़ें – Instagram ने लॉच किया अपना नया फीचर्स,जाने क्या है खास सुविधा……. इसके बाद इन महिलाओं ने आरसेटी (रूरल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट) के जरिए ट्रेनिंग की। यह ट्रेनिंग एसबीआई इंटर्नल कम्युनिटी… Continue reading UP News: गांव में ही मिला रोजगार, लिफाफे और फाइल कवर बने आजीविका के साधन

कोटपा में संशोधन से बीड़ी कारोबार पर संकट गहराने के आसार

मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड और महाकौशल इलाके के बड़े हिस्से में रोजगार का साधन बीड़ी निर्माण रहा है, मगर अब इस कारोबार पर संकट के बादल गहराने लगे हैं, ऐसा इसलिए क्योंकि सिगरेट एंड अंडर टोबेको प्रोडक्ट एक्ट (कोटपा) 2003 में अभी हाल में संशोधन कर नई नियमावली जारी की है।

मिशन रोजगार : 50 लाख युवाओं को रोजगार देने के लक्ष्य की ओर बढ़ी सरकार

मौजूदा वित्तीय वर्ष में योगी सरकार का लक्ष्य 50 लाख युवाओं को रोजगार-स्वरोजगार उपलब्ध कराना है। इसके लिए सरकार ने 5 दिसम्बर से मिशन रोजगार की शुरुआत की है।

यूपी बनेगा मनरेगा में सबसे ज्यादा काम देने वाला राज्य

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) में रोजगार मुहैया कराने को लेकर मुख्यमंत्री योगी की पहल रंग लाने लगी है।

रोजगार को बढ़ावा देने की योजना को कैबिनेट की मंजूरी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने कल आत्मनिर्भर भारत पैकेज 3.0 के तहत कोविड रिकवरी चरण के दौरान रोजगार के नए अवसरों के सृजन को प्रोत्साहित करने के लिए आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को मंजूरी दे दी।

यूपी में होम स्टे योजना बनेगी रोजगार का जरिया

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार अब लोगों को घर बैठे रोजगार देने की रणनीति बना रही है। लोगों को रोजगार से जोड़ने के लिए सरकार वन विभाग की होम स्टे योजना का विस्तार करने की तैयारी में जुटी है।

नौकरी छीनने वाले लोग, आज नौकरी देने की बात कर रहे : नड्डा

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा ने आज यहां राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के 10 लाख लोगों को रोजगार देने के वादे पर कटाक्ष करते हुए कहा कि सत्ता में रहने पर नौकरी छीनने वाले आज रोजगार देने की बात कर रहे हैं।

और लोड करें