रिजवाना ने सिद्धार्थ से की लव मैरिज, धर्म बदलकर बन गई थी सीमा, फिर पति ने मामूली बात पर किया मर्डर

छिंदवाड़ा। मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में लव मैरिज के बाद एक युवती की हत्या किए जाने का मामला सामने आया है। युवती रिजवाना ने अपना प्यार पाने के लिए मुस्लिम धर्म छोड़कर हिन्दू धर्म अपनाया और फिर सिद्धार्थ के साथ शादी की। सिद्धार्थ ने मामूली बात पर रिजवाना को मौत के घाट उतार दिया। पत्नी की हत्या करने के बाद सिद्धार्थ खुद ही उसको अस्पताल लेकर पहुंचा और बीमारी का बहानाकर डॉक्टरों को दिखाया। डॉक्टरों ने रिजवाना को मृत घोषित कर दिया और पोस्टमार्टम में उसकी गला घोंटकर हत्या किए जाने का खुलासा हुआ। सूचना पाकर पुलिस भी अस्पताल पहुंच गई। सिद्धार्थ शुरुआत में तो पुलिस को गुमराह करता रहा। फिर सख्ती बरतने पर सच उगल दिया। विजय कथेरिया ने 2 माह की बेटी को तोहफे में दिया चांद पर प्लॉट, जानिए कैसे खरीदी जाती है चांद पर जमीन? जानकारी के अनुसार दमुआ के वार्ड के सिद्धार्थ उर्फ बिट्टू हलदार (20) और रिजवाना (20) के बीच प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों ने सालभर पहले लव मैरिज कर ली थी। प्रेम विवाह के बाद रिजवाना ने धर्म बदल लिया था और रिजवाना से अपना नाम सीमा हलदार रखा लिया था। सीमा ने किसी काम के लिए पति 15 सौ रुपए… Continue reading रिजवाना ने सिद्धार्थ से की लव मैरिज, धर्म बदलकर बन गई थी सीमा, फिर पति ने मामूली बात पर किया मर्डर

29 साल के मैनुद्दीन ने एक साल पहले मन्नू यादव बनकर 20 साल की युवती से मंदिर में की थी शादी, ऐसे हुआ खुलासा

Gorakhpur:  देश में बीते कुछ महीनों में  लव जिहाद(love jihad) को लेकर काफी विवाद हुआ था. जिसके बाद देश  के कई राज्यों में इस पर कानून बनाने को लेकर भी विवाद शुरु हो गया था. इन सबके बाद एक बाद एक बार फिर से यूपी से  ‘लव जिहाद’  का मामला सामने आया है. यहां बता दें कि लव जिहाद पर योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) ने कानून बना दिया था. इसके बाद भी सनसनीखेज मामला सामने आया है. जानकारी के अनुसार यूपी में मैनुद्दीन नाम के एक व्यक्ति ने मन्नू यादव ने बनकर मंदिर में एक महिला से शादी रचा ली. शादी के लगभग एक साल बाद जब यवती को पता चला कि उसके पति का नाम मन्नू यादव नहीं बल्कि मैनुद्दीन है तो उसके तो तोते ही उड़ गये. युवती ने तुरंत थाने जा कर अपने साथ हुए धोखे के बारे में पुलिस को बता दिया उसे ये भी पता चला कि उसका पति अब किसी मुस्लिम महिला से शादी करने की योजना बना रहा है. यूपी में  ‘लव जिहाद’ के खिलाफ कानून(LAW)  को को मंजूरी दे चुकी है. इसके साथ ही  10 साल तक जेल( Jail)  की सजा का भी  प्रावधान है. इसे भी पढ़ें- उत्तराखंड में भाजपा का मास्टर स्ट्रोक,… Continue reading 29 साल के मैनुद्दीन ने एक साल पहले मन्नू यादव बनकर 20 साल की युवती से मंदिर में की थी शादी, ऐसे हुआ खुलासा

लव-जिहाद की अनदेखी न करें सभ्य समाज

गैर-मुस्लिम महिलाओं के लिए अधिकांश मुस्लिम पुरुषों का प्रेम मजहबी अभियान अधिक है। अर्थात्- यह इस्लाम के विस्तार हेतु जिहाद है। इस पृष्ठभूमि में क्या मजहब के नाम पर धोखे को स्वीकार करने से सभ्य समाज स्वस्थ रह सकता है?

लव जिहाद कानून पर राजी नहीं दुष्यंत

हरियाणा सरकार लव जिहाद रोकने के लिए धर्मांतरण विरोधी कानून लाने जा रही है पर उससे पहले इसमें पेंच फंस गया है

प्रेम-विवाह सबसे ऊपर

इलाहाबाद उच्च न्यायालय के जज विवेक चौधरी बधाई के पात्र हैं, जिन्होंने अपने फैसले से उस कानूनी बाधा को दूर कर दिया है, जो अंतर्धार्मिक या अन्तरजातीय विवाहों के आड़े आती है।

लव जिहाद कानून पर रोक नहीं

उच्चतम न्यायालय ने विवाह के लिए धर्मांतरण (लव जिहाद) के खिलाफ उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड के कानूनों की वैधानिकता को चुनौती दी जाने वाली याचिकाओं पर दोनों राज्य सरकारों से बुधवार को जवाब तलब किया।

नागरिक अधिकार के पक्ष में

आज देश का जो हाल है, उसमें व्यक्तिगत अधिकारों के पक्ष में हुई कोई बात बेहद अहम लगती है। वरना, पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने हाल में जो फैसला दिया, उसमें नई बात कुछ नहीं है।

रूल ऑफ लॉ की धज्जियां

तथाकथित लव जिहाद के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी सरकारों की मुहिम संक्रामक रोग की तरह फैल रही है। उत्तर प्रदेश से शुरू हुआ ये अभियान कर्नाटक के बाद मध्य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश तक पहुंच चुका है।

यह लव के लिए जिहाद तो नहीं ?

अब मध्यप्रदेश ने भी उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड की तरह ‘लव जिहाद’ के खिलाफ जिहाद बोल दिया है। मप्र सरकार का यह कानून पिछले कानूनों के मुकाबले अधिक कठोर जरुर है लेकिन यह कानून उनसे बेहतर है।

अब मध्य प्रदेश में ‘लव जिहाद’ रोकने का कानून

उत्तर प्रदेश के बाद अब मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार ने भी ‘लव जिहाद’ रोकने के लिए प्रस्तावित कानून को मंजूरी दे दी है। मध्य प्रदेश सरकार ने शनिवार को धर्म स्वातंत्र्य विधेयक 2020 के मसौदे को मंजूरी दी।

लव जिहाद कानून का शीर्षासन

धोखेबाजी, ज़ोर-जबर्दस्ती, लालच या भय के द्वारा धर्म-परिवर्तन करने को मैं पाप-कर्म मानता हूं लेकिन लव-जिहाद के कानून के बारे में जो शंका मैंने शुरु में ही व्यक्त की थी, वह अब सही निकली।

लव-जिहाद, यानी काफिर से नफरत!

इस्लाम मात्र एक धर्म नहीं वरन एक संपूर्ण सभ्यता है। इस के दायरे से जीवन का कोई भी पहलू अछूता नहीं। केवल मुसलमान ही नहीं

एंटी रोमियो स्क्वायड के बाद अब लव जिहाद!

उत्तर प्रदेश में तीन साल पहले भाजपा की सरकार बनी थी तो एंटी रोमियो स्क्वायड का चौतरफा हल्ला था। सरकार ने लड़कियों को मनचले लड़कों से बचाने के लिए इस स्क्वायड का गठन किया था।

यूपी में लव जिहाद कानून को मंजूरी

उत्तर प्रदेश में लव जिहाद रोकने के कानून को मंजूरी मिल गई है। राज्य सरकार की ओर से पास किए गए अध्यादेश को राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने शनिवार को मंजूरी दे दी।

सिर्फ चुनाव शिगूफा है

असम के मंत्री और भाजपा नेता हिमंता बिस्वसर्मा ने ये होड़ शुरू की। उन्होंने कहा कि अगर भाजपा अगले साल दोबारा चुनाव जीत कर आई, तो वह ‘लव जिहाद’ के खिलाफ कानून बनाएगी।

और लोड करें