व्रजपात में कैसे करें अपनी रक्षा, जानें भारत में कहां होती है बिजली गिरने से सबसे ज्यादा मौतें

नई दिल्ली | Do when lightning strikes : कल उत्तर भारत के अलग-अलग हिस्सों में जमकर बारिश हुई. बारिश के साथ ही बिजली भी आसमानी आफत बनकर गिरी. इस आसमानी आफत में देश के 3 बड़े राज्य उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान में 70 के करीब लोगों की मौत हो गई. अकेले राजस्थान की राजधानी जयपुर में 15 के करीब लोगों के मारे जाने की सूचना है. लेकिन क्या आपको पता है कि भारत में प्राकृतिक आपदाओं में अपनी जान गंवाने वालों में 39% ऐसे लोग हैं जो बिजली गिरने से मारे गए हैं. सबसे ज्यादा बिजली गिरने से मौत के मामले झारखंड से सामने आते हैं. इसके बाद उत्तर प्रदेश राजस्थान तेलंगाना उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल में बिजली गिरने से लोगों की मौत आए दिन होती रहती हैं. यहां हम एक बात स्पष्ट कर दें कि कोई नहीं बता सकता कि कब कहां गर्जन के साथ साथ बिजली गिर जाए. लेकिन कुछ सावधानियां जरूर हैं, जिसे बरतकर इससे बचने की कोशिश की जा सकती है. पिछले 5 सालों में 8291 लोगों की व्रजपात से मौत Do when lightning strikes : भारत में बिजली गिरने से होने वाली मौतों के आंकड़ा एक चिंता का विषय जरूर है. देश की… Continue reading व्रजपात में कैसे करें अपनी रक्षा, जानें भारत में कहां होती है बिजली गिरने से सबसे ज्यादा मौतें

अब क्या घर पर भी मास्क लगाकर बैठना होगा..वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

वाशिंगटन : कोरोना का संक्रमण इतना ज्यादा फैल गया है कि ऐसै लगता है घरों में भी मास्क लगाकर ही रहें। घर में किसी से बात करते वक्त मास्क लगाएं। नहीं तो कोई वायरस आ जाएगा। कुछ समय पहले वैज्ञानिकों ने इस बात की आशंका जताई थी कि आने वाले समय में कोरोना वायरस इतना भयावह हो जाएगा कि ङरों में मास्क लगाकर रहना होगा। घर में, बंद कमरे में बिना मास्क लगाए बातचीत करने से कोरोना वायरस संक्रमण फैलने का जोखिम सबसे अधिक है। इस बात का खुलासा एक अध्यन में हुआ है। इस अनुसंधान में यह बताया गया है कि बोलते वक्त मुंह से अलग-अलग आकार की श्वसन बूंदें निकलती हैं और उनमें अलग अलग मात्रा में वायरस हो सकता है। ये बात तो सभी को पता होगी कि हमारे शरीर से हर वक्त सैकड़ों की संख्या में वायरस चिपके रहते है। अध्ययन के अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक, सबसे चिंताजनक बूंदे वे हैं जिनका आकार मध्यम है और जो कई मिनट तक हवा में रह सकती हैं। उन्होंने पाया कि ये बूंदे हवा के प्रवाह से ठीक-ठाक दूरी तक पहुंच सकती हैं। also read: क्या इंसान 150 साल तक जीवित रह सकता है..आइये जानते है स्टडी क्या कहती है वायरस… Continue reading अब क्या घर पर भी मास्क लगाकर बैठना होगा..वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

क्या है फ्रांस की खूनी ग्लेशियर की कहानी, आइये जानते है वैज्ञानिकों का जुबानी

फ्रांस : क्या आपने कभी किसी ग्लेशियर को लाल होते देखा है..सभी का जवाब ना ही आएगा और काफी हद तक यह सच भी है लेकिन फ्रांस के एल्प्स की पहाड़ियों पर ग्लेशियर लाल होने लगे है। सफेद ग्लेशियर अचानक से लाल होने लगे है। इसे अलग-अलग कयास लगाए जा रहे है। कोई इसे नरसंहार की निशानी बता रहा है तो कोई इसे जीवों के कत्लेआम से जोड़ रहा है। लेकिन वैज्ञानिकों ने ऐसी किसी भी आशंका से इनकार किया है। वैज्ञानिको द्वारा इसकी जांच की जा रही है। इसे विज्ञान की भाषा में ग्लेशियर का खून कहा जाता है और इसकी सच्चाई का पता लगाने के लिए एक प्रोजेक्ट भी शुरू किया गया है। also read: ड्रैगन की नापाक हरकत! पूर्वी लद्दाख में गरजे चीनी लडाकू विमान, भारत भी चौकस, तैयार किए Rafale वैज्ञानिकों का एल्पएल्गा प्रोजेक्ट लिवसाइंस की रिपोर्ट के अनुसार फ्रांस में अचानक से ग्लेशियर के लाल होने के बाद वैज्ञानिकों द्वारा इसकी जांच की जा रही है। फ्रांस के वैज्ञानिकों ने इसके लिए एल्पएल्गा प्रोजेक्ट की शुरुआत की है। ग्लेशियर में यह खून 3,280 फीट से लेकर 9,842 फीट तक ही जमा हुआ है। इतनी ऊंचाई में जमा खीन की इस प्रोजेक्ट के द्वारा जांच की जा… Continue reading क्या है फ्रांस की खूनी ग्लेशियर की कहानी, आइये जानते है वैज्ञानिकों का जुबानी

अस्थि विसर्जन के बाद शवों का विसर्जन, अब गंगा हुई मैली..वैज्ञानिकों के लिए बना चिंता का विषय

हिंदु धर्म में आस्था का प्रतीक है मां गंगा।  मां गंगा का पानी सबसे पवित्र और स्वच्छ माना जाता है।  वाराणसी में गंगा के पानी इन दिनों हरा हो गया है। पिछले कुछ दिनों से गंगा के पानी में भारी मात्रा में शैवाल आ जाने के कारण पानी का रंग हरा हो गया है।  इसे लेकर लोगों में तरह-तरह की आशंकाए बनी गई हैं। गंगा नदी का पानी रहा हो जाने से वाराणसी के लोगों में तरह-तरह की चर्चा बनी हुई है। स्थानीय लोगों के अनुसार शैवाल के जमा होने से गंगा के प्रवाह में कमी आई है और पानी का रंग बदल गया है। गंगा नदी का यह बदलता हुआ रंग इसमें रहने वाले जीवों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। गंगा में शैवाल की बड़ी मात्रा को देखते हुए केंद्रीय प्रदूषण बोर्ड के अधिकारी जांच में जुट गए हैं। केंद्रीय प्रदूषण बोर्ड के अधिकारी यह पता लगाने की कोशिश में लगे है कि गंगा नदी का पानी हरा होने के पीछे क्या कारण है? मान्यता है कि पापनाशिनी गंगा में एक बार सच्चे मन से डुबकी लगाने से मनुष्य के सारे पाप धुल जाते है। जिस गंगा मां का पानी सदैव शुद्ध रहा करता था ऐसा कहते… Continue reading अस्थि विसर्जन के बाद शवों का विसर्जन, अब गंगा हुई मैली..वैज्ञानिकों के लिए बना चिंता का विषय

18+ की वैक्सीन शुरु हुए अभी तीन सप्ताह हुए है लेकिन कोविन पर्टल पर दूसरे डोज़ का स्लॉट शो हो रहा है?? ये कैसे संभव है..

दिल्ली : पूरे देश में कोरोना का प्रकोप चल रहा है। जब पूरा देश हिम्मत हार रहा था तब हमारे वैज्ञानिकों ने हमें कोरोना की संजीवनी बूटी दी। तभी से भारत में कोरोना का टीकाकरण चल रहा है। 1 मई से भारत में 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। वैक्सीन लगवाने के लिए लोगों को CoWIN पोर्टल से स्लॉट बुक करना होता है, लेकिन पिछले कुछ दिनों से कोविन पोर्टल पर बड़ी गड़बड़ी सामने आ रही है और 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के टीके की दूसरी डोज का स्लॉट दिख रहा है। हालंकि वैक्सीन की कमी के कारण कुछ राज्यों में टीकाकरण की प्रक्रिया धीमी चल रही है। भारत में कोरोना की दो वैक्सीन लगाई जा रही है जो स्वदेशी है कोवैक्सीन और कोविशील्ड। इस गड़बड़ी को लेकर सरकार की तरफ से कोई स्पष्टता नहीं आई है। लोगों के मन में इसको लेकर कंफ्यूजन बढ़ रहा है। इसे भी पढ़ें चार धाम यात्रा तो सभी के लिए स्थगित है फिर भी उत्तराखंड सरकार के मंत्री और अन्य BJP नेता बद्रीनाथ कैसे पहुंचे?? क्या है कोविन पोर्टल पर गड़बड़ी? दरअसल, 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन देने की प्रक्रिया… Continue reading 18+ की वैक्सीन शुरु हुए अभी तीन सप्ताह हुए है लेकिन कोविन पर्टल पर दूसरे डोज़ का स्लॉट शो हो रहा है?? ये कैसे संभव है..

Good News : रूसी वैक्सीन स्पुतनीक-वी का एक डोज मिलेगा 995.4 रुपये में, सबसे पहले प्राइवेट सेक्टर को मिलेगी वैक्सीन

भारत लगभग सवा साल से कोरोना महामारी से जंग लड़ रहा है। ऐसे में जनता हर पल एक नई समस्या का सामना कर रही है। लेकिन इस बीच हमारे वैज्ञानिकों ने दिन-रात एक कर के वैक्सीन बनाई। और यह वैक्सीन भारत में ही नहीं विदेशों में भी कारगर रही है। भारत में अभी कोवैक्सीन और कोविशील्ड लगाई जा रही है। लेकिन भारत में एक और वैक्सीन आ गई है। रूस की  स्पूतनिक-वी भारत में आ गई है। इसकी पहली खेप 1मई को भारत पहुंची थी। स्पूतनिक-वी अगले सप्ताह से मार्केट में उपलब्ध होगी। भारत में स्पुतनिक का आयात करने वाली कंपनी डॉ रेड्डीज लेबोरेटरीज ने जानकारी देते हुए बताया कि टीके के लिए करीब 1000 रुपये खर्च करने होंगे। इसके बाद देश में कोरोना से जंग और मजबूत होगी। इसे भी पढ़ें Corona Vaccination: जानें, कोरोना की वैक्सीन पर बढ़ते गैप पर किसका क्या है कहना …. स्पूतनिक-वी वैक्सीन के एक डोज की कीमत 995.4 रुपये डॉ रेड्डीज लेबोरेटरीज ने बताया कि आयात की गई स्पूतनिक-वी की कीमत 948 रुपये है, जिस पर 5 फीसदी का जीएसटी लगेगा। इसके बाद वैक्सीन की कीम 995.4 रुपये हो जाएगी। हालांकि जब भारत में जब स्पूतनिक-वी वैक्सीन का निर्माण शुरू होगा, तब उसकी कीमत… Continue reading Good News : रूसी वैक्सीन स्पुतनीक-वी का एक डोज मिलेगा 995.4 रुपये में, सबसे पहले प्राइवेट सेक्टर को मिलेगी वैक्सीन

राहत! कोरोना वायरस से जंग लड़ने में शामिल हुई एक और दवा, सरकार ने दे दी मंजूरी

कोरोना वायरस भारत में बेकाबू होता जा रहा है। एक दिन में 4 लाख पार मामले दर्ज होना कोई सामान्य बात नहीं है। कोरोना से बचने के लिए भारत के वैज्ञानिकों ने वैक्सीन तो बना ली थी लेकिन कोई कारगर दवाई नहीं बन पाई थी लेकिन इस कड़ी में एक खुशखबरी आई है। भारतीय वैज्ञानिकों ने कोरोना के इलाज की सबसे बेहतर दवा ढूंढ ली है। इसे भारत सरकार से मंजूरी भी मिल गई है और जल्द ही ये दवा बाजार में भी आ जाएगी। इस दवा को  डीआरडीओ के इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड अलायड साइंसेस और हैदराबाद सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्युलर बायोलॉजी ने बनाया है। इसे टू डॉक्सी डी ग्लूकोज नाम दिया गया है। इसे भी पढ़ें Corona : वैज्ञानिकों ने बताया भारत में कब होगा कोरोना के पीक का समय और इस महामारी का अंत ट्रायल में सफल रही यह दवा डॉ सुधीर चंदना ने कहा कि हमने अप्रैल 2020 में टेस्टिंग शुरू की थी और पहली बार में ही अच्छे नतीजे मिले। मई 2020 में क्लीनिकल ट्रायल की इजाजत मिली,जो अक्टूबर तक चली। इस दवा को अभी 2-deoxy-D-glucose (2-DG) नाम दिया गया है। जो जल्द ही इलाज के लिए उपलब्ध होगी। ऐसा देखा गया है कि… Continue reading राहत! कोरोना वायरस से जंग लड़ने में शामिल हुई एक और दवा, सरकार ने दे दी मंजूरी

Corona : वैज्ञानिकों ने बताया भारत में कब होगा कोरोना के पीक का समय और इस महामारी का अंत

कोरोना की दूसरी लहर ने भारत में कोहराम मचा रखा है। आये दिन मौते के नये आंकड़े दर्ज हो रहे है। भारतीयों को बुरी तरह बर्बाद कर के रख दिया है। ऐसे में वैज्ञानिकों का दावा है कि भारत में कोरोना की तीसरी लहर भी आएगी। भारत में कोरोना की तीसरी लहर आना निश्चित है जिसे कोई नहीं रोक सकता है। पिछले महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सलाह देने वाली एक टीम ने कहा था कि अप्रैल में भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण अपने पीक पर होगा। हालांकि यह अनुमान गलत साबित हो गया। अब वैज्ञानिकों ने गणना करके बताया है कि देश को कब कोरोना से राहत मिलेगी। वैज्ञानिको के अनुसार भारत में कोरोना का पीक मई के मध्य में आएगा। उसके बाद मामले घटने शुरु हो जाएंगे। इसे भी पढ़ें Corona Crisis: शोध में हुआ खुलासा, बच्चों में फैला संक्रमण तो मच जाएगा हाहाकर … एक दिन में कोरोना के 4 लाख से ज्‍यादा मामले देश में लगातार 3 दिनों से कोरोना संक्रमण के रोजाना 4 लाख से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। वहीं बीते एक दिन में 4,200 से ज्‍यादा लोगों की जान गई हैं। वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि आंकड़ों को कम करके बताया… Continue reading Corona : वैज्ञानिकों ने बताया भारत में कब होगा कोरोना के पीक का समय और इस महामारी का अंत

बिहार IIIT के छात्रों ने बनाया कमाल का Software, बिना समय बर्बाद किए बता देगा कोरोना  Positive है या negative

कोरोना ने पुरे देश में कोहराम मचा रखा है। एक दिन में 4 लाख के करीब मामले दर्ज हो रहे है। कुछ दिन पहले कोरोना के मामले आना कम हो गये थे। तो सभी को राहत मिली थी। सभी ने सोचा कि भारत में कोरोना के मामले कम हो रहे है। लेकिन इस पर वैज्ञानिकों का कहना है कि देश में टेस्टिंग कम हो रही है इसलिए आंकड़े भी कम दर्ज हो रहे है। टेस्टिंग सही मात्रा में होगी तो आंकड़ें भी सहीं मायने में सामने आएंगे। कोरोना से निपटने में सबसे अहम भूमिका टेस्टिंग की है। मौजूदा समय में टेस्टिंग करना और उसका परिणाम फौरन या जल्द दे सकना एक बड़ी चुनौती है लेकिन बिहार IIIT के छात्रों ने इसका हल तलाशा है। कोरोना के मात देने के लिए डॉक्टर्स पुरे जी-जान से लगे हुए है। हर कोई अपनी-अपनी तरह से कोशिश कर रहा है। वैज्ञानिकों के दावे के अनुसार भारत में अभी कोरोना की तीसरी लहर आनी बाकी है जो मई के मध्य तक आएगी। RT-PCR के टेस्ट में कई बार सही निष्कर्ष सामने नहीं आता है। इसलिए बिहार के छात्रों ने यह कमाल का यंत्र बनाया है। इसे भी पढ़ें Corona Positive news : सोनु सूद ने कोरोना… Continue reading बिहार IIIT के छात्रों ने बनाया कमाल का Software, बिना समय बर्बाद किए बता देगा कोरोना Positive है या negative

Bollywood News : वैज्ञानिक होमी जहांगीर भाभा का किरदार निभाएंगे सैफ अली खान!

मुंबई | बॉलीवुड के छोटे नवाब सैफ अली खान (Saif Ali Khan) सिल्वर स्क्रीन (Silver Screen) पर भारत (India) के सबसे प्रतिष्ठित वैज्ञानिकों (Scientist) में शामिल होमी जहांगीर भाभा (Homi Jahangir Bhabha Role) का किरदार निभाते नजर आ सकते हैं। होमी जहांगीर भाभा (Homi Jahangir Bhabha) के जीवन पर एक फिल्म बनायी जा रही है। होमी जहांगीर भाभा परमाणु वैज्ञानिक थे, जिन्होंने भारत (India) के परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम की कल्पना की थी। इसे भी पढ़ें – ‘शूटर दादी’ Corona Positive होने के बाद अस्पताल में भर्ती, लोग कर रहे जल्द स्वस्थ होने की कामना बताया जा रहा है कि फिल्म (Film) में होमी जहांगीर भाभा (Homi Jahangir Bhabha) की भूमिका सैफ अली खान (Saif Ali Khan) निभाते नजर आ सकते हैं। रिलायंस एंटरटेनमेंट के बैनर तले बनायी जा रही इस फिल्म का टाइटल ‘एसेसिनेशन ऑफ होमी भाभा’ दिया गया है। होमी जहांगीर भाभा (Homi Jahangir Bhabha) की मौत कथित विमान दुर्घटना में हुई थी, लेकिन इस हादसे का सच कभी सामने नहीं आया। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि फिल्म में भाभा की जिंदगी से जुड़ी कई रहस्यमयी घटनाओं से पर्दा उठ सकता है। रिलायंस एंटरटेनमेंट की यह फिल्म काफी बड़े स्तर पर बनने वाली है। यदि सब प्लान… Continue reading Bollywood News : वैज्ञानिक होमी जहांगीर भाभा का किरदार निभाएंगे सैफ अली खान!

इस गांव के एक ग्वाले को माता ने दिये थे दर्शन, पिंड स्वरूप में विराजमान है मां

कानपुर से करीब 40 किमी दूर स्थित घाटमपुर तहसील में मां कुष्मांडा को 1000 साल पुराना मंदिर है. इस मंदिर की नींव 1380 में राजा घाटमपुर दर्शन ने रखी थी. मंदिर के एक चबूतरे में मां की लेटी हुई मुर्ति स्थापित है. 1890 में घाटमपुर के एक कारोबारी चंदीदीन भुर्जी ने मंदिर का निर्माण करवाया था. मां कुष्मांडा देवी दुर्गा की चौथी शक्ति है. अपनी मंद हंसी के द्वारा ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इस देवी को कुष्मांडा नाम से अभिहित किया गया है. इस दिन मां कूष्मांडा की उपासना से आयु, यश, बल, और स्वास्थ्य में वृद्धि होती है.  पवित्र मन से नवरात्रि के चौथे दिन इस देवी की पूजा-आराधना करना चाहिए. इससे भक्तों के रोगों और दुखों का नाश होता है तथा उसे आयु, यश, बल और आरोग्य प्राप्त होता है. ये देवी अत्यल्प सेवा और भक्ति से ही प्रसन्न होकर आशीर्वाद देती हैं. इसे भी पढ़ें Virat Kohli को Wisden ने चुना सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी, पुरस्कार पाने वाले बने तीसरे भारतीय मां कुष्मांडा की मुर्ति से लगातार रिसता है पानी मां कुष्मांडा इस प्राचीन मंदिर में मां पिंड के रूप में लेटी हुई है. मां के पिंड स्वरूप मुर्ति से लगातार पानी रिसता रहता है. माता के भक्त… Continue reading इस गांव के एक ग्वाले को माता ने दिये थे दर्शन, पिंड स्वरूप में विराजमान है मां

दिल्ली सहित कई शहरों की वायु गुणवत्ता खराब: राष्ट्रपति

नई दिल्ली।  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंगलवार को कहा कि यह साल का एक ऐसा समय है, जब राजधानी दिल्ली सहित कई शहरों की वायु गुणवत्ता बेहद खराब हो चुकी है। हम सब एक ऐसी चुनौती का सामना कर रहे हैं जो पहले कभी नहीं रही। उन्होंने राष्ट्रपति भवन में आयोजित आईआईटी, एनआईटी और आईआईएसटी के निदेशकों के सम्मेलन में यह बात कही। यह खबर भी पढ़े:- सभी नागरिकों का जीवन सहज बनाने पर ध्यान केंद्रित कर रही सरकार: कोविंद कोविंद ने कहा, कई वैज्ञानिकों और भविष्यवक्ताओं ने दुनिया का अंत होने (डूम्स डे) की बात कही है। हमारे शहरों में आजकल धुंध और कम जरूरत जैसी स्थितियों को देखकर यह डर सताने लगा है कि भविष्य के लिए कही यह बात कहीं अभी ही सच नहीं हो जाए। उन्होंने विश्वास जताया कि आईआईटी और एनआईटी जैसे संस्थान अपनी विभिन्न विशेषज्ञताओं के माध्यम से साझा भविष्य के लिए छात्रों, शिक्षकों और शोधकर्ताओं को ज्यादा संवेदनशील और जागरूक बनाने के लिए काम करेंगे। राष्ट्रपति ने कहा कि कारोबारी सुगमता सूचकांक में भारत की स्थिति बेहतर बनाने के लिए सरकार की ओर से किए गए केंद्रित प्रयास किए हैं, और अब इसका उद्देश्य सभी नागरिकों के लिए जीवन सहज बनाना है। उन्होंने… Continue reading दिल्ली सहित कई शहरों की वायु गुणवत्ता खराब: राष्ट्रपति

और लोड करें