शराबबंदी वाले बिहार में शराब से नौ मरे!

बिहार के नवादा जिले में जहरीली शराब पीने से नौ लोगों की मौत हो गई है। जहरीली शराब की वजह से एक व्यक्ति की आंखों की रोशनी चली गई है और एक दर्जन लोग बीमार हुए हैं

अधिकांश लोग शराबबंदी के पक्ष में : नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुजफ्फरपुर, गोपालगंज और कैमूर में कथित रूप से जहरीली शराब से होने वाली मौतों पर कहा कि एक वर्ग को छोड़कर, राज्य के अधिकांश लोग शराबबंदी के पक्ष में हैं।

शराबबंदी का ये सच!

बिहार में 2015 में लागू की गई शराबबंदी तब से देश भर में चर्चित है। लेकिन अब इसका सच सामने आया है। सच यह है कि यह कदम सिरे से नाकाम साबित हुआ है। ये दीगर बात है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस सच को स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं।

दारू मैंने पी मगर ऐसा पागलपन!

लॉकडाउन के दौरान शराबबंदी पर रोक समाप्त होते ही शराब को खरीदने की जैसी मारा-मारी देखने को मिली उसकी कभी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी।

हरियाणा के गांवों में नहीं बिकेगी शराब !

हरियाणा सरकार गांवों में शराब बिक्री पर प्रतिबंध लगा सकती है। इस दिशा में सरकार द्वारा प्रयास शुरु हो गए हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर विधानसभा में इस आशय की घोषणा की थी।