शाहीनबाग: प्रदर्शन में एकता, अगुवाई में अनेकता

शाहीनबाग में सीएए और एनआरसी को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शन को दो महीने से अधिक समय हो चुका है, वहीं प्रदर्शनकारियों की तरफ से लगातार मांग की जा रही है

दादियों-नानियों के कान कौन भर रहा?

शाहीन बाग़ में बैठे प्रदर्शनकारियों ने सुप्रीमकोर्ट की ओर से भेजे गए वार्ताकारों साधना रामचंद्रन और संजय हेगड़े के सामने भी महिलाओं को आगे कर दियाऔर वे नागरिकता संशोधन क़ानून वापस लेने तक एक ईंच भी नहीं हटने पर अड़ी रहीं। नतीजा नहीं निकलना था और नहीं निकला। वार्ता अभी और चार दिन जारी रहेगी| देश की सहानुभूति हासिल करने के लिए अम्माओं, दादियों , नानियों वाला लेफ्ट का नरेटिव चला हुआ है। वार्ता कर के बाहर निकली साधना रामचंद्रन ने भी दादियों शब्द का इस्तेमाल किया। अनपढ़ बूढ़ी औरतों को सामने रख कर संविधान की लड़ाई लडी जा रही है तो देशवासी इस का मतलब समझ सकते हैं। यह बात खुल रही है कि वामपंथी एनजीओ धरने को गाईड कर रहे हैं। मोदी ने प्रधानमंत्री बनते ही विदेशी चंदे के दुरूपयोग की जांच शुरू करवा दी थी और चंदा हासिल करने के नियम सख्त बना दिए थे। तब से ये सारे एनजीओ कोई न कोई बलवा करते रहते हैं। सुप्रीमकोर्ट ने साधना रामचंद्रन और संजय हेगड़े को धरने का स्थान बदलने के लिए राजी करने का जिम्मा सौंपा था। लेकिन बुधवार को जब दोनों शाहीन बाग़ पहुंचने वाले थे तो उस से ठीक पहले तीस्ता सीतलवाड दादियों-नानियों के कान… Continue reading दादियों-नानियों के कान कौन भर रहा?

शाहीन बाग गए वार्ताकार

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ पिछले दो महीने से शाहीनबाग के कालिंदी कुंज मार्ग की बीचोंबीच जारी विरोध प्रदर्शन को यहां से हटाने के लिए उच्चतम न्यायालय की ओर से नियुक्त वार्ताकार वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन ने प्रदर्शनकारियों से आज बातचीत शुरू की।

शाहीन बाग पर वार्ताकारों की मुलाकात नहीं होगी

नई दिल्ली। शाहीनबाग में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर चल रहे प्रदर्शन को समाप्त करवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकारों में से एक पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्लाह ने मंगलवार को कहा कि वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन से मंगलवार को मेरी मुलाकात नहीं होगी। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को अपनी सुनवाई में वातार्कारों के एक पैनल का गठन किया, जिसमें वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े, वकील साधना रामचंद्रन और पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्लाह को शामिल किया गया है। ये वार्ताकार सभी प्रदर्शनकारियों से बातचीत करेंगे और जिस मार्ग पर ये प्रदर्शनकारी बैठें है उसको खुलवाने का भी प्रयास करेंगे। पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त ने कहा, मुझे वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन से आज मुलाकात की कोई जानकारी नहीं है। वैसे भी साधना रामचंद्रन जी की तबीयत ठीक नहीं है। इनलोगों से मुलाकात तब होगी, जब मुझे कोई निर्देश आएगा, अभी तक मुझे कोई निर्देश नहीं मिला है। आखिर मुझे भी पता लगे कि मुझे वार्ताकार नियुक्त किया गया है या मुझे उनकी मदद करने के लिए नियुक्त किया गया है। जब तक मुझे जानकारी नही होगी मैं किस मुद्दे पर बात करूंगा। वजाहत हबीबुल्लाह भारत… Continue reading शाहीन बाग पर वार्ताकारों की मुलाकात नहीं होगी

शाहीनबाग: सुनवाई अगले सोमवार तक टली

उच्चतम न्यायालय ने दिल्ली के प्रदर्शनकारियों को वहां से हटने को राजी कराने के लिए आज वरिष्ठ अधिवक्ता संजय हेगड़े को वार्ताकार नियुक्त किया तथा मामले की सुनवाई 24 फरवरी तक के लिए टाल दी।

शाहीनबाग में आपसी मतभेद ज्यादा, प्रदर्शन कम

नई दिल्ली। शाहीनबाग में रविवार को बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी जुटे। सभी प्रदर्शनकारी ने तय किया कि वे केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के आवास पर जानकार उनसे सीएए और एनआरसी को लेकर बात करेंगे, लेकिन इजाजत न मिलने की वजह से प्रदर्शनकारी शाहीनबाग से आगे नहीं बढ़ पाए। बाद में प्रदर्शनकारियों के बीच मतभेद दिखने लगा और मीडिया में दिखने की होड़ मच गई। शाहीनबाग में और कुछ लोग अपनी राजनीति चमकाने में लगे हुए हैं, जिस कारण दो महीने से ज्यादा समय से यहां धरना दे रहीं प्रदर्शनकारी महिलाओं को सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है। रविवार को तय किया गया था कि सभी प्रदर्शनकारी गृहमंत्री अमित शाह के आवास की ओर कूच करेंगे, लेकिन इजाजत नहीं मिलने से आखिरी वक्त में यह नामुमकिन हो गया। उस दौरान वहां पहुंचे मीडिया के कैमरों में दिखने की होड़ मच गई। प्रदर्शनकारी आपसी तालमेल न होने की बात कहते हुए एक-दूसरे से कई बार लड़ते देखे गए। आखिरकार यह तय हुआ कि वहां मौजूद डीसीपी आर.पी. मीणा और एडिशनल डीसीपी कुमार ज्ञानेश से सिर्फ ‘दादियां’ बात करेंगी। इसे भी पढ़ें : सीएए विरोधी प्रस्ताव पारित करेगा तेलंगाना एक दादी का नाम सरवरी और दूसरी का नाम बिल्किस है। उन्होंने पुलिस के… Continue reading शाहीनबाग में आपसी मतभेद ज्यादा, प्रदर्शन कम

शाहीनबाग से निकलेगा मार्च, प्रशासन की तरफ से इजाजत नहीं

सीएए और एनआरसी के विरोध में शाहीनबाग में दो महीने से प्रदर्शन चल रहा है और शाहीनबाग में मौजूद प्रदर्शनकारी आज गृहमंत्री अमित शाह के घर के लिए मार्च निकालने की तैयारी भी कर रहे हैं

शाहीनबाग में प्रदर्शनकारियों ने रखा मौन

दिल्ली चुनाव को लेकर मतगणना जारी है, वहीं शाहीनबाग में सीएए और एनआरसी को लेकर विरोध प्रदर्शन भी जारी है। आज शाहीनबाग में सुबह से ही काफी शांति दिखाई दी जब इसकी वजह जानी तो

केजरीवाल ने शाह से कहा, शाहीन बाग पर भी बहस के लिए तैयार

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को बहस की चुनौती देने के एक दिन बाद गुरुवार को कहा कि वह विवादास्पद नागरिकता संशोधन अधिनियम विरोधी धरनास्थल शाहीनबाग पर भी बहस को तैयार हैं। पूर्व भाजपा प्रमुख ने विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान इस मुद्दे को दो बार उठाया है। मीडिया से बातचीत में केजरीवाल ने कहा कि लोकतंत्र में बहस महत्वपूर्ण है और लोग अपने सवालों के जवाब चाहते हैं। केजरीवाल ने कहा कि लोगों के सवालों से बच निकलना हमेशा उचित नहीं होता है। केजरीवाल ने कहा, मैंने शाह को बहस के लिए चुनौती दी। मैं यह कहना चाहता हूं कि मैं किसी भी विषय पर बहस के लिए तैयार हूं। वह ‘शाहीनबाग, शाहीनबाग, शाहीनबाग’ कह रहे हैं, मैं इस पर बहस के लिए भी तैयार हूं। लेकिन वह सार्वजनिक बहस के लिए तैयार नहीं हैं, यह बहुत दुखद है। उन्होंने भगवद्गीता का भी जिक्र किया और कहा कि हिंदू धर्मग्रंथ भी कहते हैं कि सच्चा हिंदू कभी युद्ध के मैदान से नहीं भागेगा।

शाहीनबाग में सभी धर्मो के लोगों ने की प्रार्थना

नागरिकता संसोधन कानून (सीएए) के खिलाफ यहां के शाहीनबाग में चल रहे प्रदर्शन के बीच आज एक अलग नजारा देखने को मिला। सभी धर्मो के लोगों ने अपने धर्म के अनुसार पूजा-पाठ व प्रार्थना की।

शाहीनबाग आंदोलन नहीं, यहां बनाया जा रहा सुसाइड बॉम्बर का जत्था: गिरिराज

अपने बयानों से चर्चा में रहने वाले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने आज नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध में दिल्ली के शाहीनबाग में धरने को लेकर एकबार फिर से निशाना साधा है।

दिल्ली की जनता शाहीनबाग के साथ नहीं, देश के साथ: शाह

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को कहा कि वोट बैंक की राजनीति करने वाले साफ तौर पर जान लें कि दिल्ली की जनता नागरिकता (संशोधन) कानून (सीएए) के विरोध में शाहीनबाग में धरना-प्रदर्शन कर रहे लोगों के साथ नहीं

दिल्ली : शाहीनबाग में धरने के खिलाफ प्रदर्शन, जगह बदलने की अपील

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का मुख्य केंद्र बन चुके यहां के शाहीनबाग में 50 दिन से चल रहे धरने के खिलाफ अब सरिता विहार व उसके आसपास के स्थानीय लोग लामबंद होने लगे हैं। सरिता विहार चौराहे पर सोमवार को कई लोगों ने शाहीनबाग की एक सड़क पर धरने पर बैठे लोगों के खिलाफ प्रदर्शन किया और उनसे अपील की कि वे रास्ता खोलें व कहीं और जाकर प्रदर्शन करें। स्थानीय लोगों ने रास्ता बंद किए जाने के खिलाफ एक दिन पहले भी प्रदर्शन किया था। शाहीनबाग की मुख्य सड़क पर सीएए के खिलाफ स्थानीय महिलाएं धरने पर बैठकर प्रदर्शन कर रही हैं। इनके विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगों की मुख्य मांग है कि कालिंदी कुंज से शाहीनबाग तक का सड़क मार्ग खोल दिया जाए। विरोध प्रदर्शन में रविवार के मुकाबले सोमवार को लोगों की संख्या कम रही। रास्ता खुलवाने को लेकर इकट्ठा हुए लोगों ने नारेबाजी की और ‘जय श्री राम’ के नारे भी लगाए। मार्ग खुलवाने को लेकर सरिता विहार स्थित जनता फ्लैट से आईं ज्योति तिवारी ने कहा पिछले एक महीने से हमारे बच्चों को स्कूल जाने में काफी दिक्कत हो रही है, हालत यह है कि अब स्कूल वैन… Continue reading दिल्ली : शाहीनबाग में धरने के खिलाफ प्रदर्शन, जगह बदलने की अपील

दिल्ली के शाहीनबाग में आंदोलन के लिए आप जिम्मेवार : भाजपा

भाजपा ने आम आदमी पार्टी (आप) के नेता और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया पर शाहीनबाग के आंदोलन को भड़काने का आरोप लगाया है।

और लोड करें