मोदी और शी मिलेंगे ऑनलाइन!

भारत और चीन के रक्षा मंत्रियों और विदेश मंत्रियों के बाद अब शीर्ष नेताओं की मुलाकात की बारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग से मिलने वाले हैं।

कोरोना और शी का भविष्य

वायरस के मौजूदा लम्हों में एक बड़ा सवाल चीन और उसके राष्ट्रपति शी जिनफिंग को लेकर है। सवाल है कि शी जिनफिंग का भविष्य क्या होगा? यह कई बातों पर निर्भर करेगा। सबसे पहली बात है कि अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप फिर चुनाव जीतते हैं या नहीं।

शी जिनफिंग की सनक से परेशान दुनिया

आज जिस एक व्यक्ति की सनक व मनमानी ने भारत समेत पूरी दुनिया को परेशान कर रखा है उसका नाम शी जिनफिंग है जो कि अपने देश चीन को सुपर पावर बनाने के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार है।

चीन पर भारत क्यों नहीं कुछ बोलता?

चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग पिछले ही महीने भारत के दौरे पर आए थे और तमिलनाडु के ममल्लापुरम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनका भव्य स्वागत किया था। दोनों नेता सात-आठ घंटे साथ रहे थे और हर मुद्दे पर खुल कर अनौपचारिक वार्ता की थी।

राष्ट्र का व्यवहार, कौम की हकीकत

अमेरिका के डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन की ही बात है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय में नीति निर्माण की डायरेक्टर किरोन स्कीनर ने कुछ महीने पहले चीन और अमेरिका की प्रतिस्पर्धा पर बोलते हुए कहा- लड़ाई अब भिन्न सभ्यता और भिन्न विचारधारा से है।…

मोदी-शी की वार्ता से क्या मिला?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग के साथ दो साल में दूसरी बार अनौपचारिक वार्ता की। 11 और 12 अक्टूबर को तमिलनाडु के ऐतिहासिक शहर ममल्लापुरम में दोनों नेताओं के बीच दूसरी वार्ता हुई। अलग अलग टुकड़ों में छह घंटे से ज्यादा समय तक दोनों ने एक दूसरे से बात की।

हमारी बुनावट और चीन बनाम भारत

बात मामूली है पर हमारी और चीनियों की बुनावट का फर्क बताती है। महाबलीपुरम में चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग से मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा मतभेद को विवाद नहीं बनने देंगे! यहीं बात विदेश मंत्री जयशंकर ने अनुच्छेद 370 खत्म करने के बाद बीजिंग जा कर बातचीत के बाद कही।

शी की बेहद अहम भारत यात्रा!

जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को खत्म करने के बाद भारत और पाकिस्तान के संबंध जितने बिगड़े हैं उससे कम भारत और चीन के संबंध नहीं बिगड़े हैं।