अपना अलग बनाया रास्ता

और फिर वही दुबारा घटित हुआ। इस बार धक्का उतना तेज और आकस्मिक न था, जितना पिछली बार। फिर भी यह धक्का तो था ही। फर्क यह था कि इस बार इस ने मुझे तोड़ा नहीं, जैसा पिछली बार हुआ था।  

जनता पार्टी में हवाबाज और हैसियत

इस प्रकार, आरएसएस-बीजेएस पूरी तरह नेहरूवादी विचारों के अनुरूप हो गए और तदनुरूप जनता पार्टी [जिस में बीजेएस ने अपना विलय 1977-1980 के दौरान कर दिया था]  में कांग्रेसियों और समाजवादियों से भरपूर नीचा व्यवहार पाया।

जनसंघ के ‘हवाबाज’ ने रूकवाई नेहरू सीरिज

संघ परिवार के साथ मेरे अनुभव -3: मैं बड़ा प्रसन्न हुआ जब उस आरएसएस नेता ने, जिन से मैं कलकत्ते में मिला था और जो अब संगठन में बड़े ऊँचे पहुँच गए थे, मुझे आर्गेनाइजर में एक लेख-माला में नेहरू के विचार-तंत्र (आइडियोलॉजी) पर लिखने के लिए आमंत्रित किया।

संगठन सब कुछ और बेमौल विचारदृष्टि!

आरएसएस बीजेएस से मेरे संपर्क का एक परिणाम यह हुआ कि जब हम ने अपना कम्युनिस्ट विरोधी कार्य बंद किया, तब 1956-67 के दूसरे आम चुनाव में मुझे मध्य प्रदेश में खजुराहो संसदीय क्षेत्र से बीजेएस के टिकट पर चुनाव लड़ने का प्रस्ताव दिया गया।