प्रोटेस्ट के दौरान किसान की मौत का कोई आंकड़ा नहीं, इसलिए सहायता का कोई सवाल नहीं – सरकार

संसद में सोमवार को रद्द किए गए विवादास्पद कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर साल भर के विरोध प्रदर्शन के दौरान देश ने हाल ही में सबसे तेज निरसन देखा है।

हंगामे के बीच लोकसभा में वापस हुए कृषि विधेयक, एक बार फिर से स्थगित हुई सदन की कार्यवाही

शीतकालीन सत्र का आज पहला दिन हंगामेदार होने के संभावना है। विपक्ष केंद्र सरकार की ओर से विवादित कृषि कानूनों को वापस लेने के फैसले के बाद उन्हें घेरने की पूरी तैयारी में है।

Farmer Protest : भविष्य की कार्रवाई तय करने के लिए आज अहम बैठक करेगा एसकेएम

दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन जारी रखने का इरादा रखते हैं, जब तक कि केंद्र आधिकारिक तौर पर संसद में कृषि कानूनों को रद्द नहीं कर देता।

शीतकालीन सत्र के दौरान संसद तक प्रस्तावित ट्रैक्टर मार्च अभी तक वापस नहीं लिया गया: किसान नेता

किसान कृषि कानूनों पर केंद्र पर भरोसा नहीं कर सकते क्योंकि उन्होंने पहले भी एक रैंक एक पेंशन (ओआरओपी) देने की घोषणा की थी, लेकिन यह अभी तक नहीं किया गया है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से हो सकता है शुरू, आगामी चुनावों को लेकर होगा काफी महत्वपूर्ण

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली संसदीय मामलों की कैबिनेट कमेटी ने शीतकालीन सत्र के लिए सिफारिश की है। ऐसे में इस बार संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरू होकर 23 दिसंबर तक चलने .

दिवाली बाद शुरू हो सकता है संसद का शीतकालीन सत्र, पिछले साल कोरोना ने लगाया था ब्रेक

इस बार का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरू हो सकता है जो 23 दिसंबर तक चलने की संभावना है। हालांकि, अभी तक इसके संबंध में कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

उमा भारती क्या संसद में जाना चाहती हैं?

मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने 2019 का चुनाव नहीं लड़ा तो वह कइयों के लिए हैरानी की बात थी।

सोनिया ने विपक्ष से की साथ आने की अपील

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने विपक्ष के सभी नेताओं से साथ आने की अपील की है। उन्होंने 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव में भाजपा को हराने के लिए एकजुट होने की अपील की है

अंगद-आसन और भरवां खिलौना-भालू

लोक-दबाव अगले दो साल में ऐसे हालात बनाएगा-ही-बनाएगा कि विपक्ष की बिखरी डालियां जटाधारी बरगद की शक़्ल लें। इस बरगद का तना कितना मज़बूत होगा, कितना नहीं, यह मायने नहीं रखता।

खोया, ठहरा, भगवान भरोसे देश!

कल 75वां स्वतंत्रता दिवस। तभी सोचना अनिवार्य है कि भारत का पचहतर वर्षों का सफर कैसा रहा?  क्या सफर दिल-दिमाग की मौजूदा अवस्था में उमंग, उल्लास बनाए हुए है? क्या मंजिल का विश्वास और सुकून है

झूठ में जीना, झूठ में मरना!

भारत ने यों 1947 से ही झूठ में जीना अपनाया हुआ है लेकिन पिछली 15 अगस्त से इस 15 अगस्त का सबसे बडा  अनुभव बतौर कौम झूठ में जीना और झूठ में मरने का है। सौ टका झूठ और दुनिया के नंबर एक झूठे। इसका प्रमाण, अनुभव है 2020-21 की महामारी।

संस्थाएं जर्ज तो लोकतंत्र, आजादी ?

आजादी के अमृत महोत्सव का साल इस तरह नहीं शुरू होना चाहिए था। संसद का मॉनसून सत्र 13 अगस्त को खत्म होना था और उसी दिन से अमृत महोत्सव के कार्यक्रम शुरू होने थे।

सदन में सांसदों की पिटाई?

विपक्षी पार्टियों ने आरोप लगाया है कि राज्यसभा में सरकार के खिलाफ आवाज उठा रहे सांसदों की पिटाई कराई गई है। इसके विरोध में विपक्ष के नेताओं ने गुरुवार को संसद भवन से विजय चौक तक विरोध मार्च भी निकाला।

सोनिया करेंगी विपक्षी नेताओं के साथ बैठक

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी विपक्षी नेताओं के साथ एक वर्चुअल बैठक करेंगी। पिछले दिनों संसद के मॉनसून सत्र के दौरान राहुल गांधी ने कई बार विपक्षी नेताओं के साथ बैठक की थी

ऐसी विधायिका की क्या जरूरत?

संसद का मॉनसून सत्र खत्म होने वाला है। शुक्रवार 13 अगस्त को सत्र का आखिरी दिन होगा और अभी तक संसद में आम लोगों से जुड़े किसी भी एक मसले पर एक मिनट की भी चर्चा नहीं हुई है।

और लोड करें