कांग्रेस के पास क्या महापुरूष नहीं हैं

कांग्रेस पार्टी के पास क्या कोई महापुरूष नहीं है, जिनका स्मरण करके कांग्रेस अपना प्रचार करे? महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी छत्रपति शिवाजी और विनायक दामोदर सावरकर के नाम पर प्रचार कर रही है।

कांग्रेस नेता राफेल मुद्दा नहीं उठाना चाहते

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पिछले दिनों महाराष्ट्र और हरियाणा के चुनाव प्रचार में राफेल का मुद्दा उठाया। उन्होंने राजनाथ सिंह के फ्रांस जाने और दशहरा के दिन राफेल विमान की पूजा करने पर भी सवाल उठाए।

सावरकरः निर्णायक भारत मोड़!

और यह मोड़ है गांधी की 150वीं जयंती के वर्ष में! क्या गजब बात है जो सावरकर के वीडियो फुटेज के साथ टीवी चैनल दिन भर सावरकर, सावरकर की गाथा बता रहे हैं। क्या गजब बात है जो महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव सावरकर को भारत रत्न के वादे पर लड़ा जा रहा है! यह मामूली बात नहीं है।

क्या दिल्ली में मोदी-शाह फेल होंगे?

लाख टके का सवाल है कि अनुच्छेद 370, सावरकर, पाकिस्तान से पानी जैसे फार्मूलों से मोदी-शाह क्या दिल्ली में भी अरविंद केजरीवाल को हरा देंगे? इसका सस्पेंस दिल्ली में विधानसभा चुनाव के नतीजे के दिन तक रहना है।

महिला मतदाताओं को लुभाने की कोशिश में शिवसेना

महाराष्ट्र विधानसभा के लिए चुनावी जंग लगातार तीखी होती जा रही है। इस बीच सत्तारूढ़ सहयोगी दल शिवसेना ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतने के लिए गुपचुप महिला मतदाताओं को लुभाने में जुटी हुई है।

घोषणा-पत्र नहीं, रिश्वतपत्र

चुनाव जीतने के लिए राजनीतिक दल क्या-क्या पासे नहीं फेंकते ? हरियाणा के चुनाव में कांग्रेस और भाजपा ने जो घोषणा-पत्र या संकल्प पत्र जारी किए हैं, यदि उन्हें एक ही नाम देना चाहें तो कह सकते हैं कि हरियाणा के दलों ने अपने-अपने ‘रिश्वत-पत्र’ जारी कर दिए हैं।

पंचायतों से भी फीके चुनाव!

हां, महाराष्ट्र और हरियाणा के विधानसभा चुनाव को ले कर राष्ट्रीय कौतुक और चुनावी धमाल उतना भी नहीं है जितना राज्य विशेष के पंचायत चुनावों पर होता है। हिसाब से दोनों राज्यों में सत्ता और मुख्यमंत्री की कुर्सी को ले कर पहले बहुत कौतुक हुआ करता था।

भाजपा के सीएम विरोधियों की टिकट कटवा रहे हैं

महाराष्ट्र और हरियाणा में चल रहे विधानसभा चुनाव में दोनों जगह भाजपा के अनेक बागी उम्मीदवार मैदान में उतरे। कई बड़े नेता बागी नहीं हुए हैं पर टिकट कट जाने से नाराज घूम रहे हैं।

शाह का कांग्रेस-एनसीपी पर प्रहार

गृह मंत्री अमित शाह ने राहुल गांधी और शरद पवार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि दोनों नेताओं को यह स्पष्ट करना चाहिए कि वे अनुच्छेद 370 को समाप्त करने का समर्थन करते हैं अथवा नहीं।