सब ‘कोवैक्सीन’ के पीछे पड़े हैं

भारत सरकार ने कोरोना वायरस की दो वैक्सीन को मंजूरी दी है, जिसमें एक ब्रिटिश-स्वीडिश कंपनी की वैक्सीन है, जिसे निजी क्षेत्र की कंपनी सीरम इंस्टीच्यूट ऑफ इंडिया ने बनाया है।

सब बैकअप वैक्सीन ही हैं!

कोरोना वायरस की महामारी इतनी भयावह और विशाल है कि दुनिया के सारे देशों ने वैक्सीन बनाने के तमाम स्थापित और मान्य नियमों-मानकों को ताक पर रख कर एक साल की अवधि में बनी वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी।

कोवैक्सीन पर राजनीति, कंपनी ने दी सफाई

भारत बायोटेक की बनाई स्वदेशी वैक्सीन को लेकर देश में राजनीतिक घमासान मचा है। कांग्रेस के कई नेताओं ने इस पर सवाल उठाए हैं। शशि थरूर से लेकर जयराम रमेश तक ने तीसरे चरण के परीक्षण का अंतिम डाटा आने से पहले ही वैक्सीन को मंजूरी देने पर सवाल उठाए हैं