एक ऐसा गांव, जहां 25 सालों में दर्ज नहीं हुई एक भी प्राथमिकी

छत्तीसगढ़ के दक्षिण बस्तर के दंतेवाड़ा जिले के अंतर्गत नक्सली प्रभावित एक गांव ऐसा भी है, जहां के लोग अपने विवादों को मिल बैठकर स्वयं ही निपटाते हैं

छत्तीसगढ़ का बस्तर हुआ कांग्रेसमय

भाजपा के गठन और छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद यह पहला मौका है जब नक्सल प्रभावित बस्तर पूरी तरह कांग्रेसमय हो गया है और भाजपा का यहां पूरी तरह सफाया हो गया है।